COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit

फ्रेंच ओपन 2017 : राफेल नडाल का परफेक्ट 10, नई चैंपियन बनी ओस्टापेंक

CONTRIBUTOR
7   //    12 Jun 2017, 10:54 IST

स्पेन के टेनिस स्टार और किंग ऑफ़ क्ले कोर्ट के नाम से मशहूर राफेल नडाल ने रविवार को स्विट्ज़रलैंड के स्टान वॉवरिंका को हराकर 10वीं बार फ्रेंच ओपन का खिताब जीत लिया है। फाइनल में नडाल ने एकतरफा मैच में वॉवरिंका को 6-3, 6-2, 6-1 से हराया। यह नडाल के करियर का 15वां ग्रैंड स्लेम है। उन्होंने अमेरिका के दिग्गज टेनिस खिलाड़ी पीट सैम्प्रास के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ा। अब वह केवल रॉजर फेडरर के 18 ग्रैंड स्लेम से पीछे हैं।

इसके साथ ही नडाल सबसे ज्यादा बार एक ग्रैंड स्लेम जीतने के मामले में मारगेरट कोर्ट से पीछे हैं। ऑस्ट्रेलिया की इस महिला खिलाड़ी ने 1960 से 1973 के बीच 11 बार ऑस्ट्रेलियन ओपन अपने नाम किया था। उल्लेखनीय है कि ये तीसरा मौका है जब नडाल ने पूरे टूर्नामेंट में कोई सेट नहीं गंवाया है। मौजूदा फ्रेंच ओपन में उन्होंने केवल 35 गेम ही गंवाए।

वहीं लातविया की गैर वरीयता प्राप्त येलेना ओस्टोपेंको ने अपना बेहतरीन प्रदर्शन जारी रखते हुए शनिवार को यहां महिला एकल फाइनल में पहला सेट गंवाने के बाद शानदार वापसी करके तीसरी वरीय सिमोना हालेप को हराकर फ्रेंच ओपन खिताब जीता। 20 वर्षीय ओस्टापेंको ने यह कड़ा मुकाबला 4-6, 6-4, 6-3 से जीता। वह रोलां गैरां में खिताब जीतने वाली पहली गैर वरीय और सबसे कम रैंकिंग की खिलाड़ी बन गयी हैं।

यह भी पढ़ें : भारत के स्टार टेनिस प्लेयर रोहन बोपन्ना ने जीता 2017 फ्रेंच ओपन का ख़िताब

लातविया की वह पहली खिलाड़ी है, जिसने कोई ग्रैंडस्लैम खिताब जीता। यही नहीं, वह इवा मजोली (1997) के बाद सबसे कम उम्र की फ्रेंच ओपन विजेता है और गुस्तावो कुएर्टन के बाद पहली ऐसी खिलाड़ी हैं, जिसने ग्रैंडस्लैम में पदार्पण टूर स्तरीय खिताब जीता। कुएर्टन ने 1997 में रोलां गैरां पर ही यह कमाल दिखाया था।

ओस्टापेंको ने शुरू से ही करारे ग्राउंडस्ट्रोक जमाये, लेकिन रोमानियाई खिलाड़ी ने उनका अच्छा जवाब दिया। इस बीच लातवियाई खिलाड़ी ने कुछ गलतियां की, जिसका फायदा उठा कर हालेप पहले सेट में 4-3 से आगे हो गयी। ओस्टापेंको सेट में बने रहने के लिये 4-5 पर सर्विस कर रही थी, लेकिन उनका फोरहैंड नेट पर चला गया और हालेप पहला सेट अपने नाम करने में सफल रही।

दूसरे सेट के शुरू में दोनों खिलाड़ियों के बीच कड़ा मुकाबला देखने को मिला। उन्होंने एक दूसरे की सर्विस तोड़ी, जिससे स्कोर 4-4 हो गया। इसके बाद हालांकि ओस्टापेंको ने शून्य पर हालेप की सर्विस तोड़ी और फिर यह सेट अपने नाम करके मैच को निर्णायक सेट तक खींच दिया। ओस्टोपेंको इसके बाद भी हावी होकर खेली और उन्होंने 4-3 की बढ़त हासिल करके हालेप को परेशानी में डाल दिया।

CONTRIBUTOR
Fetching more content...