CWG 2022 : वेटलिफ्टिंग में ओलंपिक मेडलिस्ट मीराबाई चानू समेत देश के15 वेटलिफ्टर्स दिखाएंगे दम

2018 गोल्ड कोस्ट खेलों में मीराबाई ने गोल्ड मेडल जीता था।
2018 गोल्ड कोस्ट खेलों में मीराबाई ने गोल्ड मेडल जीता था।

इंग्लैंड के बर्मिंघम में 28 जुलाई से शुरु हो रहे कॉमनवेल्थ खेलों में भारत की वेटलिफ्टर मीराबाई चानू अपना ही विश्व रिकॉर्ड तोड़ने की कोशिश करेंगी। टोक्यो ओलंपिक में महिलाओं के 49 किलोग्राम भार वर्ग में चानू ने सिल्वर मेडल जीतकर इतिहास रचा था और अब 2022 के कॉमनवेल्थ खेलों में गोल्ड जीतकर इतिहास रचना चाहती हैं।

चानू ने पिछली बार गोल्ड कोस्ट 2018 खेलों में 49 किलोग्राम की कैटेगरी का गोल्ड जीता था। चानू इस भार वर्ग के क्लीन एंड जर्क में 119 किलोग्राम भार उठाने का विश्व रिकॉर्ड रखती हैं और इस बार राष्ट्रमंडल खेलों में इस रिकॉर्ड को तोड़ने का प्रयास करेंगी। चानू 15 सदस्यीय भारतीय वेटलिफ्टर दल का हिस्सा हैं जो इन खेलों में इस बार अधिक से अधिक मेडल लाने का प्रयास करेगा।

वेटलिफ्टिंग भारत के लिए इन खेलों में शूटिंग के बाद दूसरा सबसे सफल इवेंट रहा है और अब तक भारत के नाम 43 गोल्ड समेत कुल 125 पदक हैं जबकि शूटिंग से आजतक कुल 135 पदक आए हैं। अब शूटिंग का खेल इस बार कॉमनवेल्थ गेम्स का हिस्सा नहीं है, तो हो सकता है वेटलिफ्टिंग से इतने पदक आ जाएं कि ये भारत के लिए सबसे सफल इवेंट बन जाए।

मीराबाई के अलावा भारत को 76 किलोग्राम भार वर्ग में पूनम यादव से भी पदक की आशा है। पूनम ने 2014 ग्लासगो खेलों में 63 किलो वर्ग का ब्रॉन्ज जीता था और इस बार बढ़े हुए वजन वर्ग में खेल रही हैं। पिछले साल ताशकंद चैंपियनशिप में 87+ किलोग्राम भार वर्ग में भारत की पूर्णिमा पाण्डेय ने 8 राष्ट्रीय रिकॉर्ड ध्वस्त किये थे और इस बार कॉमनवेल्थ में वो किस रिकॉर्ड के साथ पदक लाती हैं ये देखना दिलचस्प होगा।

गोल्ड कोस्ट खेलों में भारत ने बाकि देशों के मुकाबले वेटलिफ्टिंग में सबसे ज्यादा 9 पदक पाए थे।
गोल्ड कोस्ट खेलों में भारत ने बाकि देशों के मुकाबले वेटलिफ्टिंग में सबसे ज्यादा 9 पदक पाए थे।

इनके अलावा महिला वेटलिफ्टिंग में बिंदियारानी देवी (55 किलोग्राम), पोपी हजारिका ( 59 किलोग्राम), हरजिंदर कौर (71 किलोग्राम), बीएन ऊषा (87 किलोग्राम) भी चुनौती पेश करेंगी।

पुरुष वेटलिफ्टर में जेरेमी लालरिननुंगा 67 किलोग्राम भार वर्ग में खेलेंगे। यूथ ओलंपिक विजेता जेरेमी 306 किलोग्राम का कुल वजन उठा चुके हैं। पिछले कॉमनवेल्थ खेलों में 67 किलोग्राम की जगह 69 किलोग्राम भार वर्ग था जिसका गोल्ड जीतने वाले वेल्स के वेटलिफ्टर ने कुल 299 किलो उठाए थे। ऐसे में 19 साल के जेरेमी गोल्ड पर निशाना साध सकते हैं।

गोल्डकोस्ट खेलों में गुरुराज पुजारी ने सिल्वर मेडल दिलाया था।
गोल्डकोस्ट खेलों में गुरुराज पुजारी ने सिल्वर मेडल दिलाया था।

जेरेमी के अलावा 61 किलोग्राम भार वर्ग में गुरुराजा पुजारी भाग ले रहे हैं जिन्होंने 2018 के खेलों में 56 किलोग्राम वर्ग का सिल्वर जीता था। इनके अलावा संकेत सारगर (55 किलोग्राम), अचिंता शेउली (73 किलोग्राम), अजय सिंह (81 किलोग्राम), विकास ठाकुर (96 किलोग्राम), लवप्रीत सिंह (109 किलोग्राम), गुरदीप सिंह (109+ किलोग्राम) भी अपना दम दिखाएंगे। इनमें से विकास ठाकुर ने 2014 ग्लासगो खेलों में सिल्वर और 2018 गोल्ड कोस्ट खेलों में ब्रॉन्ज जीता था। वेटलिफ्टिंग के मुकाबले 30 जुलाई से लेकर 3 अगस्त तक चलेंगे।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar
App download animated image Get the free App now