COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

3 कारण जो साबित करते हैं कि रोमन रेंस की जगह बॉबी लैश्ले को यूनिवर्सल चैंपियनशिप मैच में शामिल होना चाहिए

ANALYST
20   //    12 Jul 2018, 13:26 IST
WWE का मौजूदा प्लान देखे तो कम्पनी समरस्लैम में एक बार फिर रोमन रेंस और लैसनर का मैच करना चाहती है। जहां तक उम्मीद की जा रही है, यह मैच ब्रॉक लैसनर के UFC में लौटने से पहले WWE में आखिरी मैच भी होगा। WWE को अभी भी लग रहा है कि रोमन रेंस कम्पनी के सबसे बड़े चेहरे साबित होने वाले हैं और वह अपने आलोचकों को चुप करा सकते हैं। WWE के हिसाब से ऐसा करने का सबसे बढ़िया तरीका रोमन रेंस का समरस्लैम में लैसनर को हराना हो सकता है।

लेकिन देखा जाए तो रेंस का लैसनर को हराने के समय जा चुका है। कम्पनी बॉबी लैश्ले को भी एक बड़े स्टार के रूप में बिल्ड कर रही है और शायद उन्हें भी समरस्लैम में लैसनर के विरोधी के रूप में पेश करना चाहती है। इससे रोमन रेंस और लैसनर का लगातार तीसरा मैच नहीं होगा जो काफी अच्छा विचार लगता है।

रोमन भले ही बेस्ट हों लेकिन उनके लिए समरस्लैम चैंपियनशिप जितने के लिए सही समय नहीं है। आइये जानते हैं कि ऐसा क्यों है




3. रोमन रेंस का लैसनर के ऊपर जीत हासिल करना विश्वशनीय नहीं लगता है




रैसलमेनिया 2015 में रोमन रेंस और ब्रॉक लैसनर का आमना सामना हुआ था। यह मैच उम्मीद से ज्यादा अच्छा मैच था। एक बार को ऐसा लग रहा था कि रेंस लैसनर को हरा सकते हैं लेकिन ऐन वक्त पर रॉलिंस ने दखल देते हुए अपना मनी इन द बैंक ब्रीफ़केस कैश इन किया था।

इसके बाद से लोगों को इनके रीमैच का इंतजार था लेकिन यह मैच होने में 3 साल लग गए। रैसलमेनिया 2018 पर हुए मैच में लैसनर ने रेंस को बहुत बुरी तरह पीटा था और एकतरफा तरीके से मैच जीत लिया था। इस मैच पर काफी नकारात्मक प्रतिक्रियाएं सामने आई थी और इस मैच को आज तक का सबसे बुरा रैसलमेनिया मेंन इवेंट बताया गया था।

इसके बाद ग्रेटेस्ट रॉयल रम्बल पर भी एक रीमैच हुआ जो थोड़ा अच्छा था मगर फिर भी उम्मीदों पर खरा नहीं उतरा था। तीन मैचों में रेंस लैसनर को हरा नहीं पाए और जिस तरह से वह रैसलमेनिया पर हारे थे उसके बाद उनका लैसनर को हरा देना विश्वास से परे हैं।
1 / 3 NEXT
ANALYST
Attitude Era and Austin Fan Been attached to the WWE till now, only because of CHRIS JERICHO Y2J
Advertisement
Fetching more content...