Create
Notifications

4 बातें जो आप लेसी इवांस के बारे में नहीं जानते

Lacey Evans will shakeup the main roster
Amit Shukla
visit

24 मार्च 1990 को जॉर्जिया,यूनाइटेड स्टेटस ऑफ़ अमरीका में जन्मी लेसी इवांस का असली नाम मेसी एस्ट्रेला है और उनकी प्रसिद्धि ने उन्हें 'लेडी ऑफ़ NXT' का खिताब दिलवाया था।

17 दिसंबर 2018 को उनका नाम उन छह रैसलर्स में शुमार था जिन्हें NXT से मेन रोस्टर में मौका दिया जाने वाला था। वैसे इन सारी बातों के बाद आपको ये लग सकता है कि उनकी ज़िंदगी हमेशा से इतनी ही खूबसूरत रही है जिसमें उनकी 13 साल की शादी और 4 साल की बेटी शामिल है तो आपको बताते चलें कि ऐसा बिल्कुल नहीं है। एक रैसलर के तौर पर उनके काम ने उन्हें प्रसिद्धि दिलाई है तो वहीं इस सफर तक पहुंचने के लिए उनकी मेहनत भी ज़बरदस्त रही है। ये बात तो तय है कि हर कोई अपने काम से ही पहचाना जाता है, और लेसी ने अपने काम से लोगों को मुरीद बना लिया है। इस आर्टिकल में हम आपको बताते हैं उनसे जुडी 4 बातें जो आप नहीं जानते होंगे:

#4 उनका बचपन काफी बुरा रहा है

From a rough childhood to the Lady of NXT

उनके पिता ड्रग और शराब की बुरी लत से ग्रसित थे, और उन्होंने अपने घर में काफी मार पिटाई भी देखी थी। इस सबके बीच आपको बताते चलें कि उनके पिता लेसी के WWE कॉन्ट्रैक्ट से पहले ही ड्रग और शराब की वजह से गुज़र गए।

उनके परिवार ने काफी बुरे दिन देखे क्योंकि उन्हें या तो कानून के पचड़ों में फंसे रहना पड़ता था या फिर वो टेंट में दिन गुज़ारते थे।

लेसी के मुताबिक, उन्होंने अपनी ज़िन्दगी की कमान खुद के हाथों में ली और उसकी वजह से उन्हें काफी अलग से काम करने पड़े जिसमें 14 साल की उम्र में डिश साफ़ करना शामिल है। उसके साथ साथ हाईस्कूल में इन्होने रैसलिंग में हाथ आज़माया और स्टेट चैंपियन बनीं। हाईस्कूल के बाद वो नर्सिंग असिस्टेंट बनीं।

'मैंने कभी हार नहीं मानी। एक बार मुझे कार में सोना पड़ा, जो मुझे बिल्कुल पसंद नहीं, क्योंकि मैं ऐसे ही दिन देखकर बड़ी हुई थी, लेकिन मैंने कहा कि ये वक़्त भी टल जाएगा, और आगे बढ़ती रही।'

WWE News in Hindi, RAW, SmackDown के सभी मैच के लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज़ स्पोर्ट्सकीड़ा पर पाएं।

#3 वो मिलिट्री का हिस्सा रही हैं

From the military to the squared circle

लेसी इवांस यूएस मरीन और मरीन कॉर्प्स स्पेशल रिएक्शन टीम का हिस्सा रही हैं जिसे सिविलियन SWAT टीम के बराबर रुतबा हासिल है। इस तरह के फील्ड का हिस्सा बनने के लिए इंसान को फुर्तीला और काफी संयम वाला होना चाहिए, जिसकी वजह से एक बात तो तय है कि वो काफी ज़बरदस्त काम करती हैं।

ये 19 साल की उम्र में इसका हिस्सा बनीं और 5 साल तक सर्विस में रहीं। इस दौरान इन्होने अपनी कंस्ट्रक्शन कंपनी बनाई और साथ ही साथ एक बैचलर डिग्री भी प्राप्त की। इनका काम इतना ज़बरदस्त था कि बूट कैंप से बाहर आने पर वो सबसे ज़्यादा सम्मानित थीं और आर्मी के सभी कामों में उनका प्रदर्शन लाजवाब था। इन पांच सालों की सर्विस के दौरान उन्हें सार्जेंट की रैंक मिल चुकी थी।

आर्मी के बाद उन्होंने रैसलिंग में कदम रखा जहां उनका प्रदर्शन लगातार बेहतर हो रहा है।

#2 मिलिट्री में ही उन्होंने अपना पहला रैसलिंग मैच लड़ा था

Lacey has come a long way

लेसी ने अन्य कई रैसलर्स की तरह मिलिट्री में ही रैसलिंग की शुरुआत की, या यूं कहें कि ट्रेनिंग पाई। ऐसा इसलिए क्योंकि जब वो मिलिट्री में थीं तो एक अन्य सार्जेंट ने रैसलिंग मैच का आयोजन करवाया, और वो इंडिपेंडेंट शोज़ करवाया करते थे।

इस शो के दौरान वो पहली बार एक दर्शक की तरह गईं, लेकिन दूसरी बार ही उन्हें एक मैच लड़ने का मौका मिला, जिससे वो पीछे नहीं हटीं। उनके मुताबिक उस मैच ने उन्हें काफी कुछ सिखाया और समझाया क्योंकि वो एक इंटर जेंडर मैच था जिसमें उनके सामने एक 250 पाउंड का मरीन था। उस मैच के दौरान उन्होंने जीतने की सारी कोशिशें कीं लेकिन वो नाकाम रहीं और उसका मलाल उन्हें आज भी है। हालांकि इस हार के साथ साथ वो इसकी वजह से मिली सीख को भी बहुत महत्वपूर्ण मानती हैं।

#1 वो एक सुपर मॉम हैं

Lacey spending some quality time with her daughter

जब वो 10 साल की थीं तब उनकी मां ने उन्हें छोड़ दिया था जिसकी टीस आज भी उनके मन में है जिसकी वजह से वो अपनी बच्ची और परिवार को पूरा समय देती हैं। वो हर काम करती हैं जिससे उनकी बच्ची को सही दिशा मिले और इस बात का ख्याल भी रखती हैं कि उनकी बेटी को उनसे क्या चाहिए।

इनके पति के साथ इनका प्यार 14 साल की उम्र में शुरू हुआ था। एक समय के बाद उन्होंने शादी कर ली, जिससे उन्हें समर नाम की एक बेटी है। ये अपनी बच्ची को मानसिक स्वास्थ्य, ड्रग एडिक्शन और बेघर लोगों से जुडी बातों और मदद को लेकर बताती हैं ताकि उसे वो सब ना देखना पड़े जो इन्हें देखना पड़ा था।

इस प्रयास में उन्होंने एक ऐसा स्कूल भी पाया जो उनके स्केड्यूल से मेल खाता हो।इसके साथ साथ वो 22 साल की उम्र में शुरू की गई कंस्ट्रक्शन कंपनी भी संभालती हैं। अब एक सुपर मॉम की इससे बड़ी परिभाषा भला क्या होगी।

Edited by PANKAJ

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...
Article image

Go to article
App download animated image Get the free App now