Create

Royal Rumble की 5 बेस्ट नंबर 2 एंट्री जिसने मचाया सबसे ज्यादा धमाल

Enter caption

27 जनवरी (भारत में 28 जनवरी) को रॉयल रंबल का आयोजन होगा ।साल के सबसे पहले इवेंट के लिए WWE पूरी मेहनत करता है। इस पीपीवी का मुख्य आकर्षण ही रॉयल रंबल होता है। इसमें 30 सुपरस्टार्स एक दूसरे को रिंग से बाहर करने के लिए पूरा जोर लगा देते हैं।

रॉयल रंबल प्रोफेशनल रैसलिंग की दुनिया के लिए कई मायनो में खास है। साल की शुरुआत में इतने बड़े इवेंट के साथ WWE को रैसलमेनिया के लिए भी नए आगाज का मौका देता है। रॉयल रंबल से ही रैसलमेनिया का रास्ता खुलता है। बात करते हैं उन नंबर दो एंट्री के बारे में जिन्होंने यहां बेहतरीन काम किया।

#5 फिन बैलर (2018)

Enter caption

2018 के रॉयल रंबल में फिन बैलर को आयरन मैन का रोल दिया गया था। रंबल में उन्होंने लगभग एक घंटे का समय बिताया था। 57 मिनट, 38 सेकेंड की टाइमिंग के साथ उन्होंने फाइनल 4 तक का सफर तय करने से चूके थे। यह अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि थी। उन्होंने जॉन सीना, रैंडी ऑर्टन और रे मिस्टीरियो जैसे WWE दिग्गजों के साथ रिंग शेयर किया था।

जॉन सीना द्वारा खुद को रिंग से बाहर किए जाने से पहले बैलर ने चार सुपरस्टार्स को बाहर किया जिसमें बैरन कॉर्बिन, डॉल्फ जिंगलर, एडन इंग्लिश और रे मिस्टीरियो शामिल थे। हालांकि हीथ स्लेटर, इलायस, अल्मास और ब्रे वायट ने रंबल में प्रवेश किया था।

#4. बॉब बैकलैंड (1993)

Enter caption

पूर्व चैंपियन बॉब बैकलैंड रॉयल रंबल के शुरू होने से पहले ही रैसलिंग की दुनिया में काफी मशहूर थे। 70-80 के दशक में वे WWE के लिए लड़ा करते थे। 90 के दशक की शुरुआत में वे कंपनी से जुड़े और 1993 के रॉयल रंबल से इस मुख्य मैच में पदार्पण किया।

रिंग में उन्होंने रिक फ्लेयर से शुरुआत की। वे लगातार शानदार कर रहे थे। वे फाइनल 3 में जगह बना ही लेते कि योकोजुना ने उन्हें बाहर कर दिया। इससे पहले वह फाटू और रिक मार्शल को बाहर करने में कामयाब रहे। उन्होंने रिंग में रिकॉर्ड एक घंटा, एक मिनट और 10 सेकेंड तक टिक कर अपनी काबिलियत दिखाई।

रिक फ्लेयर के बाद बैकलैंड ऐसे दूसरे रैसलर हैं जिन्होंने एक घंटा से ज्यादा समय रिंग में बिताए।

#3. द ब्रिटिश बुलडॉग (1995)

Enter caption

रॉयल रंबल (1995) में ब्रिटिश बुलडॉग नंबर दो पर एंट्री कर के जीत के काफी करीब पहुंच गए थे। यह मैच दिलचस्प होने के साथ ही नाटकीय भी था। बुलडॉग का मानना है कि उन्होंने माइकल्स को टॉप रोप से बाहर फेंक दिया था लेकिन माइकल्स रस्सियों से लटके हुए थे।

बुलडॉग शॉन माइकल्स के बाद दूसरे नंबर पर रहे। इस मैच में बुलडॉग और माइकल्स ने जबरदस्त तरीके से लड़ते हुए बड़े-बड़े सुपरस्टार्स को रिंग से बाहर किया। बुलडॉग ने इस दौरान 38 मिनट और 41 सेकेंड रिंग में बिताए थे।

इस मैच का अंत काफी नाटकीय था। बुलडॉग ने माइकल्स को रिंग से बाहर धकेलने के बाद जीत की खुशी मनानी शुरू कर दी। हालांकि माइकल्स अभी भी रस्सी से लटके हुए थे। इसी दौरान माइकल्स ने रिंग में एंट्री की और बुलडॉग को बाहर कर दिया।

#2. विंस मैकमैहन (1999)

Enter caption

विंस मैकमैहन के सामने इस रॉयल रंबल में स्टोन कोल्ड स्टीव ऑस्टिन जैसा मजबूत प्रतिद्वंद्वि था। तब WWE के सीईओ मैकमैहन ने पिछले दो रॉयल रंबल के विजेता को तीसरी जीत से रोकने के लिए पेंच फंसाना शुरू कर दिया था। उन्होंने इस दिग्गज को हराने वाले पर एक लाख डॉलर का इनाम रखा था। हालांकि स्मैकडाउन कमीश्नर शॉन माइकल्स के कारण मैकमैहन की दूसरी एंट्री हुई।

इस मैच में विंस जल्द ही बाहर हो जाते लेकिन उन्होंने रिंग के चारों ओर दौड़ लगाकर ऑस्टिन का ध्यान भटकाना शुरू किया। अंत में मैकमैहन उन्हें अपने जाल में फंसाने में कामयाब रहे। मैकमैहन रिंगसाइड से मैच को कमेनटेट करने के लिए लौटे। तभी मेन स्क्रीन ने दिखाया कि उन्हें एंबुलेंस में लादा जा रहा है। हालांकि ऑस्टिन ने वापसी की और कई सुपरस्टार्स को रिंग से बाहर किया।

अंत में जब रिंग में मैकमैहन और ऑस्टिन ही बचे थे तभी द रॉक की एंट्री हुई और उन्होंने ऑस्टिन का ध्यान भटका दिया इससे विंस मैकमैहन जीतने में कामयाब हुए।

#1. रे मिस्टीरियो (2006)

Enter caption

एडी गुरेरो के अचानक गुजरने के बाद का पहला रॉयल रंबल उनके करीबी दोस्त रे मिस्टीरियो ने जीता था। मिस्टीरियो ने पहली एंट्री के तौर ट्रिपल एच के साथ इसमें प्रवेश किया। दोनों ने जमकर लड़ा और रैंडी ऑर्टन के साथ अंतिम तीन में पहुंचे। रे ने इस रंबल में गुरेरो के सिग्नेचर मूव के साथ एंट्री की। इसके बाद दर्शकों से काफी भावनात्मक प्रतिक्रिया देखने को मिली थी।

मिस्टीरियो ने इस मैच को रिकॉर्ड एक घंटा, दो मिनट और 12 सेकेंड के साथ खत्म किया था। इस रंबल के दौरान उन्होंने सिमोन डीन, रॉब वैन डैम, सुपर क्रेजी, ट्रिपल एच और रैंडी ऑर्टन जैसे WWE दिग्गजों को रिंग से बाहर किया था और खिताब जीता था। मिस्टीरियो ने अपनी इस जीत को गुरेरो ने नाम कर दिया था।

Quick Links

Edited by Ankit
Be the first one to comment