Create

5 कारण क्यों विंस मैकमैहन अभी ट्रिपल एच को WWE की पूरी जिम्मेदारी नहीं सौंपेंगे

Triple H has the respect of fans and Superstars, but is Vince McMahon going to give him the reins anytime soon?

ट्रिपल एच के नेतृत्व में NXT काफी अच्छा रहा है लेकिन उसके बावजूद अब तक विंस मैकमैहन ने उन्हें कंपनी की कमान नहीं दी है। ऐसी खबरें एक लंबे समय से हैं कि अगर विंस कंपनी छोड़ देते हैं या फिर किसी बुरी स्थिति की वजह से अपने पद से हटते हैं, तो द गेम ही उनकी जगह लेंगे। इसके साथ-साथ स्टैफनी मैकमैहन इस समय भी कंपनी का हिस्सा हैं और काफी बड़े फैसले लेती हैं।

ये बात तो तय है कि अगर आने वाले समय में ऐसा होता है तो स्टैफनी बिज़नेस और मार्केटिंग पर ध्यान देंगी। वहीं 14 बार वर्ल्ड चैंपियन, टैलेंट और क्रिएटिव पर ध्यान देंगे। इस आर्टिकल में उन बातों पर नज़र डालेंगे कि गिरती रेटिंग और कंपनी को हो रही मुश्किलों के बाद भी रैसलिंग लेजेंड विंस मैकमैहन, अपने दामाद ट्रिपल एच को मौका क्यों नहीं दे रहे हैं:

#5 खो जाने का डर

Vince McMahon loves to be in control.

विंस ने इस कंपनी को बनाया और वो ही इसके मालिक हैं। वो एक ऐसे इंसान हैं, जो लगातार काम करते हैं और कभी भी छुट्टी नहीं लेते। इसके साथ-साथ उन्हें ये पसंद है कि उन्हें लोग हमेशा एक बॉस की तरह ही मानें और जानें। अगर वो कंपनी छोड़ देते हैं तो उनके पास कोई काम नहीं होगा और वो भला फिर क्या करेंगे? वैसे इस समय XFL को दोबारा शुरू करने वाले चेयरमैन ने काफी काम किया है लेकिन वो खुद को काफी बड़ा मानते हैं। यही वजह है कि वो WWE फैंस नहीं, यूनिवर्स कहते हैं।

ये एक बड़ा कारण है कि वो अब भी अपनी ज़िम्मेदारियों और काम को लगातार करते हैं। इस बात की उम्मीद कम है कि वो जल्द अपनी पोज़िशन छोड़ेंगे। वैसे इसके अन्य कारण भी हैं, और आइए उनके बारे में आपको बताते हैं।

WWE News in Hindi, RAW, SmackDown के सभी मैच के लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज़ स्पोर्ट्सकीड़ा पर पाएं

#4 वापसी की कोई उम्मीद नहीं है

If Vince McMAhon lets go of control, he probably won't be able to get it back.

विंस मैकमैहन इस समय चेयरमैन हैं और उनके पास हर ताकत है, कि वो किसी को भी बाहर कर दें या फिर नौकरी पर रख लें। उन्होंने पहले जिम रॉस और जॉन लॉरिनाइटिस को टैलेंट रिलेशंस का जिम्मा दिया। उनके प्रदर्शन के बाद ट्रिपल एच को वो मौका दिया गया, जिसमें वो काफी सफल रहे हैं।

अगर विंस इस समय कंपनी से चले जाते हैं तो उनके पास कोई अधिकार नहीं रहेगा और कोई भी उनकी बात नहीं सुनेगा। अगर WWE COO और ब्रांड ऑफिसर के बीच कोई लड़ाई हो जाती है, तो वो इस कंपनी को टूटने से नहीं बचा पाएंगे और इसलिए वो किसी भी तरह से अपनी पावर को खोना नहीं चाहते।

वैसे ये कारण पिछले से मिलता-जुलता ही लग सकता है लेकिन दोनों में काफी फर्क है।

#3 विचारों का मतभेद

Triple H and Vince McMahon don't necessarily see eye to eye about everything in the wrestling business.

विंस मैकमैहन ने इतने सालों में बॉडी बिल्डर्स को ज़्यादा महत्वपूर्ण माना है। ट्रिपल एच ने NXT और 205 लाइव में छोटे कद काठी लेकिन ज़बरदस्त एक्शन और हुनर वाले रैसलर्स को वैल्यू दी है। रैसलिंग को पसंद करने वालों ने द गेम के इस काम को सराहा है और इसके बारे में अपनी सहमति भी दी है।

NXT और 205 लाइव को सेकेंडरी शो माना जाता है और इसलिए विंस इसमें कोई ख़ास दखल नहीं देते। वो मेन शो में अब भी किसी की दखलअंदाज़ी नहीं बर्दाश्त करते हैं। ये बदले नियम और सोच कंपनी के आगे बढ़ने में सहायक या नुकसानदेह हो सकते हैं। अगर विंस, हंटर को कमान दे देते हैं तो वो जिस तरह से कंपनी को चलाना चाहते हैं वो खत्म हो जाएगा। ये शायद विंस के तरीके में नहीं है, और इसलिए वो अपने दामाद को मौका नहीं दे रहे हैं।

#2 ट्रिपल एच उनके अपने नहीं हैं

It could be hard for Vince McMahon to let go of his company to someone outside his bloodline.

विंस के बेटे का नाम शेन और बेटी का नाम स्टैफनी है और दोनों ही कंपनी के साथ हैं। ट्रिपल एच भी कंपनी और परिवार का हिस्सा हैं लेकिन वो सिर्फ उनकी बेटी के पति हैं।

विंस नहीं चाहेंगे कि उनके पिता की मेहनत और उनकी लगन की वजह से दुनियाभर में नाम कमा चुकी WWE उनके दामाद के पास जाए, जिन्होंने उनके नीचे काम किया है।


#1 WWE के बिकने की संभावना

Enter caption

आप ये सोचें कि कोई भी अपनी मेहनत को खराब नहीं होने देना चाहता। विंस ने अपनी ज़िंदगी इस कंपनी को बनाने में लगा दी और वो इसे किसी के पास बिकती हुई नहीं देखना चाहेंगे। ऐसा इसलिए है क्योंकि हाल में खबर आई थी कि डिज़नी या दूसरा कोई नेटवर्क कंपनी को खरीदना चाहता है।

विंस अगर ये फैसला लेंगे तो वो उससे मुनाफा कमाना चाहेंगे लेकिन वो शायद कंपनी को बेचना ही ना चाहें।

Quick Links

Edited by विजय शर्मा
Be the first one to comment