Create

5 कारण क्यों हमें रैंडी ऑर्टन vs केविन ओवंस की फिउड देखने मिल सकती है

e37f4-1512205654-500

ये बात तो तय है कि केविन ओवंस ने कई लोगों को अलग-अलग अनुभूति करवाई है, लेकिन इस सब के बीच रास्ते बदलते गए और आखिरकार वो वक़्त आया जब उनका सामना रैंडी ऑर्टन से हुआ। इस मिलाप की वजह से कई नए मैचेज़ और कहानियों को मौका मिला है। इसकी परिणीति हमें आने वाले समय में कई प्रकार के मैचेज़ से मिलेगी।


#1 ऑर्टन की स्ट्रीक ओवंस की वजह से खत्म हुई

रैंडी ऑर्टन सर्वाइवर सीरीज पर अमूमन अपनी टीम के आखिरी बचे रैसलर होते थे, लेकिन इस साल केविन ओवंस और सैमी जेन ने शेन को इस मैच से बाहर कर दिया। इसकी वजह से ये स्ट्रीक समाप्त हो गई और एक लंबे समय बाद वो इस मैच से एलिमिनेट हो गए।

#2 ऑर्टन केविन ओवंस से नफरत करते हैं

b762a-1512205711-500

इनके बीच सर्वाइवर सीरीज पर जो घटा उसकी वजह से ऑर्टन को अगले स्मैकडाउन पर छुट्टी दे दी गई, क्योंकि वो इस बात की ज़िम्मेदारी नहीं लेना चाहते थे कि वो केविन का क्या हाल करेंगे। इसके बाद जब इनका मैच हुआ तो ऑर्टन ने कोई साक्षात्कार देने से इनकार कर दिया क्योंकि वो अपना पूरा ध्यान ओवंस को चोटिल करने पर लगाना चाहते थे।

#3 स्टील केज मैच होने के हैं अच्छे चांसेज़

a8633-1512206473-500

पिछले हफ्ते जिस तरह की लड़ाई इन दोनों के बीच हुई उसका अंजाम बहुत ही बुरा होता अगर अंतिम समय पर सैमी जेन आकर ऑर्टन पर एक कुर्सी ना दे मारते। अब इसका मतलब है कि ये दोनों जल्द ही एक ऐसे स्ट्रक्चर में लड़ेंगे जहां उनके मैच में कोई भी विघ्न ना डाल सके।

#4 क्लैश ऑफ चैंपियंस

7de33-1512205908-500

इस समय दोनों ही रैसलर्स के पास कोई टाइटल नहीं है, जिसकी वजह से इन्हें क्लैश ऑफ चैंपियंस पर लड़वाना सही नहीं लगता। यहां पर अगर किसी चैंपियनशिप मैच में पहले सैमी जेन और बाद में केविन ओवंस आ जाएं जिसकी वजह से रैंडी ऑर्टन भी इसका हिस्सा हो जाएं तो फिर कहानी रॉयल रंबल तक जा सकती है। वैसे भी एक बैकस्टेज असॉल्ट तो बनता है।

#5 रॉयल रंबल

65b66-1512205990-500

अब इस समय तो ये दोनों रैसलर्स अपनी कहानी की बदौलत रैसलमेनिया तक नहीं जा रहे हैं, पर अगर ये रॉयल रम्बल मैच का हिस्सा बनते हैं तो ये एक दूसरे को बाहर करेंगे, और उसके बाद ये इस लड़ाई को आगे भी ले जाएंगे। ये मुमकिन है कि हम इन दोनों को यहां से रैसलमेनिया तक इस मैच को ले जाते हुए देखें। लेखक: रैसलिंग मास्टर 88, अनुवादक: अमित शुक्ला

Edited by Staff Editor
Be the first one to comment