Create

5 बातें जो आपको WWE सुपरस्टार शायना बैजलर के बारे में जाननी चाहिए

WWE सुपरस्टार शायना बैजलर और विंस मैकमैहन
WWE सुपरस्टार शायना बैजलर और विंस मैकमैहन

WWE की क्वीन ऑफ स्पेड्स शायना बैजलर (Shayna Baszler) इस समय रॉ (Raw) ब्रांड का हिस्सा हैं। रिंग में अपने काम से बड़े बड़ों को चित करने वाली शायना अपने काम को इतनी अच्छी तरह से करती रहीं कि उन्हें मेन रोस्टर में जगह मिल गई। इनकी एंट्री जितनी दमदार थी, उस तरह की स्थिति अब नहीं है।

10 फरवरी 2020 को मेन रोस्टर का हिस्सा बनने वाली शायना ने तब Raw विमेंस चैंपियन रहीं बैकी लिंच पर अटैक किया। इसके बावजूद इन्हें वो पुश नहीं मिली जिसकी उम्मीद थी। एक साल और कुछ महीनों के मेन रोस्टर करियर में ये सिर्फ विमेंस टैग टीम चैंपियन ही रह सकी हैं।

रेसलिंग में अगर किसी रेसलर को अपने करियर, किरदार और काम के कारण बड़ा पुश मिलना चाहिए तो वो शायना हैं। ये है उनके मेन रोस्टर करियर से जुड़ी वो बात जो आप जानते हैं, लेकिन आज इस आर्टिकल में हम आपको उनसे जुड़ी वो बातें बताने वाले हैं जो आप नहीं जानते होंगे।

#5 WWE सुपरस्टार शायना सबसे बड़े उम्र की NXT विमेंस चैंपियन हैं

youtube-cover

जी हाँ, अगर पेज सबसे कम उम्र की NXT विमेंस चैंपियन रही हैं तो वहीं शायना सबसे बड़े उम्र की NXT विमेंस चैंपियन हैं। इन्होंने NXT में अपने समय के दौरान इस टाइटल को दो बार जीता और ये दोनों बार बेहद प्रभावी रहीं। इसमें उनके पिछले अनुभव और उनके प्रदर्शन ने उनका साथ दिया।

वो इस समय तो NXT का हिस्सा नहीं हैं लेकिन उन्होंने इस टाइटल को NXT के मेंबर के तौर पर मेन रोस्टर इवेंट में भी डिफेंड किया है। रेसलिंग में बेहद अच्छी और कहानियों को कहने का हुनर रखने वालीं शायना इस समय किसी अच्छी कहानी का हिस्सा नहीं हैं पर हमें उम्मीद है कि ये स्थिति जल्द बदलेगी।

youtube-cover

#4 ये बचपन से ही रेसलिंग कर रही हैं

youtube-cover

किसी भी चीज को करने के प्रति आपका समर्पण हो तो आप उसमें निखरते ही हैं और शायना इसका एक जीता जागता प्रमाण हैं। बचपन के दिनों से ही रेसलिंग को पसंद करने वाली शायना ने समय के साथ रेसलिंग भी की। एक बच्चे को रेसलिंग के प्रति इतना फोकस देखकर इनके माता पिता ने भी इनका उत्साहवर्धन किया।

ये कॉलेज में भी ऐसे लोगों के साथ रहती थीं जिन्हें रेसलिंग पसंद थी और जब ये रेसलिंग या मिक्स मार्शल आर्ट्स का हिस्सा थीं तो भी ये रेसलिंग को देखती थीं और अपनी साथियों को दिखाती थीं। इनमें से एक पूर्व Raw विमेंस चैंपियन रोंडा राउजी भी हैं जो इस समय रिंग से दूर हैं और उनकी वापसी के बारे में कोई समय निर्धारित नहीं है।

#3 इन्होंने कॉलेज में पादरी बनने वाले कोर्स को किया है

youtube-cover

ये सुनकर अजीब लग सकता है लेकिन मिडअमेरिका नाजरें यूनिवर्सिटी में अपने समय के दौरान इन्होंने धर्म की पढाई की और ये उस समय एक पादरी बनना चाहती थीं। ऐसा लगता है कि उस पढाई के दौरान उन्हें आंतरिक ज्ञान हुआ कि ये कदम उनके लिए नहीं है और उन्होंने अपने कदम पीछे खींच लिए।

रिंग के प्रति फोकस रहने वालीं शायना ने अपनी पढाई के बाद रेसलिंग पर दोबारा फोकस किया और वो पहले मिक्स मार्शल आर्ट्स और फिर रेसलिंग का हिस्सा बनीं। ये देखने वाली बात होगी कि वो आनेवाले समय में क्या किसी ऐसे किरदार को करती हैं जिसमें उनकी कॉलेज की पढाई को दर्शाया जा सके।

#2 ये एक सर्टिफाइड ईएमटी हैं

youtube-cover

विदेशों में ईएमटी उसे कहा जाता है जो किसी भी जीवन से जुड़ी परेशानी या यूँ कहें कि एम्बुलेंस से मरीजों को अस्पताल तक ले जाते हैं। इन्होंने इससे जुड़े अनुभव को अपने जीवन का हिस्सा बनाया और रिंग में बड़ा नाम बनने से पहले इस फील्ड में दो जगहों पर काम किया ताकि वो खुद के खर्चों को स्वयं उठा सकें।

ये डेविड ली रॉथ की तरह ही हैं जिनके जीवन के प्रति भावनात्मक रवैये और उनके काम ने उन्हें न्यू यॉर्क का एक आधिकारिक ईएमटी बना दिया। हालांकि शायना से जुड़ी जानकारी या इससे जुड़ी डिग्री के बारे में बेहद कम लोग ही जानते हैं लेकिन ये बात पूरी तरह से सच है कि उन्हें लोगों से लड़ने और उन्हें बचाने का हुनर आता है।

#1 ये रोलर डर्बी टीम को ट्रेन करती हैं

youtube-cover

शायना रोलर डर्बी कि एक टीम सीओक्स फाल्स रोलर डॉल्ज को ट्रेनिंग देती हैं जिसके लिए इन्हें कोई मेहनताना नहीं मिलता है। अगर इन्हें उसके लिए मेहनताना मिले तो वो सालाना $40,000 रुपए सिर्फ इस ट्रेनिंग से ही कमा सकती हैं। इसमें WWE के द्वारा की जानेवाली पेमेंट शामिल नहीं है।

ये एक महंगा खेल है जिसमें शुरूआती चीज ही $59 से प्राप्त होती है। इस खेल का यूएस में काफी नाम है लेकिन शायना अपने WWE में काम और अपनी छवि के बीच में अन्य गुणों और कामों को शामिल नहीं होने देती हैं। इसलिए इनके बारे में कई बातें आज भी लोगों को नहीं मालूम हैं।

Quick Links

Edited by मयंक मेहता
Be the first one to comment