Create
Notifications

WWE के 6 नियम जिनका कोई मतलब नहीं बनता

Modified 24 Dec 2016
प्रोफेशनल रैसलिंग को पूरी तरह से समझना हमेशा से मुश्किल रहा है। यहां पर बड़े हो चुके महिला और पुरुष एक दूसरे पर हमला करते हैं और बिना कुछ बोले एक कहानी बताते हैं। सुनने में थोड़ा अजीब है, लेकिन दुनिया भर के दर्शक इसे पसंद करते हैं। लेकिन बाकियों की तरह ही इसमें में बहुत आलोचना होती है। इसके नकली होने के कारण लोग रैसलर्स और दर्शकों का मज़ाक बनाते हैं। कई बार उनके हिंसक रूप दिखाने और कई बार रैसलिंग कंपनी द्वारा अजीब चीज़ें दिखाने पर लोग मज़ाक बनाते हैं। सभी रैसलिंग दर्शक शो को देखने का एक कारण बताते हैं कि ये अलग है, लेकिन गैर-रैसलिंग दर्शक इसका मज़ाक बनाने का कोई न कोई कारण ढून्ढ ही निकालते हैं। अब वे लोग एक और चीज़: तर्कहीन और बेबुनियाद स्टोरीलाइन और WWE के मैच स्ट्रक्चर को लेकर भी इसका मज़ाक बनाएंगे। पाता नहीं WWE अपने आप को स्पोर्ट्स एंटरटेनमेंट क्यों कहती है, वो रैसलिंग हैं। इसे देखने के लिए दर्शकों को इसकी झूठी बातों में विश्वास करना पड़ता है। लेकिन इसमें एक खास बात भी है। आज के दर्शक पहले के दर्शकों के मुकाबले ज्यादा समझदार हैं और उन्हें मैच के साथ-साथ बैकस्टेज की गतिविधियों में भी दिलचस्पी है। पहले जब बैकस्टेज कुछ होता था तो दर्शकों को उसकी भनक नहीं लगती थी, लेकिन आज वे किसी न किसी तरह से उनकी खबर ढून्ढ निकालते हैं। इंटरनेट के मध्यम से आज ऑन-स्क्रीन शो और शो में निर्णय की प्रतिक्रिया में दूरी कम हो गयी है और इस वजह से दर्शकों को WWE में ज्यादा से ज्यादा नियमों के बारे में जानकारी मिल रही है। इनमें से कई नियमों का मतलब बनता है, जैसे के चोटिल होनेपर और उनके लिए वैलनेस पालिसी। इसके अलावा और कई नियम हैं जिनपर सवाल खड़े होते हैं जैसे WWE का बचकाना प्रोमो और स्टोरीलाइन क्योंकि कंपनी PG की है बिना खून-खराबे के। इसके बाद कुछ ऐसे नियम भी हैं जिनका क्या मतलब है समझ नहीं आता। इन बिना मतलब के नियमों को समझने के लिए आपको बिज़नस एक्सपर्ट, आर्थिक सलाहकार या साइकोलॉजी का विशेषज्ञ होने की ज़रूरत नहीं है। ये रहे WWE के छह बिना मतलब के नियम जिनकी मदद से WWE में नतीजों और बुकिंग के निर्णय लिये जाते हैं।
1 / 7 NEXT
Published 24 Dec 2016
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now