Create

7 WWE रैसलर्स जो MMA में भी अच्छा काम करते

09-03-52-8fc98-1511626072-500
सुर्यकांत त्रिपाठी

प्रोफेशनल रैसलिंग को झूठा कहते हुए उसकी आलोचना करने वाले कई हैं। उसी में ऐसा भी कइयों का मानना है कि WWE स्टार्स कभी असली फाइट का हिस्सा नहीं बन सकते। जब वो असली फाइट की बात करते हैं तो वो MMA फाइट का उल्लेख करते हैं। वैसे अगर मिक्की गैल के खिलाफ सीएम पंक का डेब्यू मैच देखा जाए तो काफी हद तक उनकी बातें सही लगती हैं।

लेकिन सब रैसलर्स एक जैसे नहीं होते। ऐसे भी कई WWE रैसलर्स हैं जो MMA में टिक सकते हैं। यहां पर हम ऐसे 7 WWE रैसलर्स का जिक्र करेंगे जो MMA फाइट में भी अच्छा काम करते।

#7 शेल्टन बेंजामिन

शेल्टन बेंजामिन WWE इतिहास के सबसे कम आंके गए सुपरस्टार हैं। भले ही उनकी माइक स्किल्स अच्छी न हो लेकिन उनकी रैसलिंग स्किल कमाल की है। अपने हाई स्कूल और कॉलेज के दिनों में बेंजामिन अमैच्योर रैसलर हुआ करते थे।

वो दो बार यूनिवर्सिटी ऑफ मिनेसोटा के ऑल अमेरिकन रह चुके हैं और समर ओलंपिक्स 2000 का हिस्सा भी बनने वाले थे। लेकिन उस समय उन्होंने प्रोफेशनल रैसलिंग अपना करियर चुन लिया। साल 2017 में 43 वर्षीय बेंजामिन में कमाल की तेजी और फुर्ती हैं और इससे वो MMA मैचों में कमाल कर जाते।

#6 रूसेव

09-04-12-d065f-1511626171-500

रूसेव WWE रोस्टर के एक बेहतरीन स्टार हैं लेकिन उनका सही इस्तेमाल नहीं किया जा रहा। उन्हें सही बुकिंग नहीं मिल रही। रूसेव दिखने में खतरनाक हैं। उनका वजन 300 पौंड हैं और इसके पहले वो पावर लिफ्टिंग और मुए थाई किया करते थे।

MMA में आने के लिए उन्हें करीब 40 पौंड घटाने पड़ते। 300 पौंड के वजन में वो ऐसा काम करते हैं तो 260 के वजन में उनकी फुर्ती और बढ़ जाती। इसके साथ साथ उनके पास अच्छा अनुभव भी है।

#5 बैरन कॉर्बिन

09-04-31-866ea-1511626250-500

बैरन कॉर्बिन NFL में ड्राफ्ट हो चुके और ये बात का सबूत है कि उनमे MMA स्टार बनने की क्षमता है। वो रीजनल बिसिंग चैंपियनशिप जीत चुके हैं और नेशनल बॉक्सिंग चैंपियनशिप में काम कर चुके हैं। ये सब उन्होंने 33 साल की उम्र में किया है।

उनमे कमाल की तेजी है। थोड़े कार्डियो और थोड़ा वजन घटा कर वो एक उम्दा MMA फाइटर बन सकते हैं। थोड़े अनुभव के साथ वो MMA में भी छा सकते हैं।

#4 डॉल्फ ज़िगलर

09-04-54-0f676-1511626400-500

डॉल्फ ज़िगलर पिछले 13 सालों से WWE से जुड़े हैं। ऑहियो के केंट स्टेट यूनिवर्सिटी में उनके नाम रिकॉर्ड भी दर्ज है। वहां उनके नाम 121 मैचों में जीत है। अगर वो प्रोफेशनल रैसलिंग का हिस्सा नहीं बनते तो अमैच्योर रैसलिंग में भी अच्छा काम कर सकते थे।

ब्रॉक लैसनर और बॉबी लैश्ली को देखकर हम कह सकते हैं कि MMA में कामयाब होने के लिए अमैच्योर रैसलिंग बेहद ज़रूरी है। उसके साथ ज़िगलर की तेजी और फुर्ती जोड़ दी जाए तो मिस्टर शोऑफ MMA में शानदार प्रदर्शन करने के प्रतियोगी बन सकते हैं।

#3 जेसन जॉर्डन

09-05-11-710a3-1511626520

जेसन जॉर्डन की कहानी कमाल की है। 29 वर्षीय जेसन ने 22 साल पहले रैसलिंग शुरू कर दी थी। कॉलेज के दिनों में वो अपने से बड़े रैसलर को हरा दिया करते थे। WWE में वो रोमन रेन्स जैसे बड़े रैसलर को भी बड़ी आसानी से उछाल सकते हैं। इसके अलावा वो 323 पौंड के केन को भी बड़े आसानी से हिला चुका हैं। ऐसी ही टक्कर उन्होंने ब्रॉन स्ट्रोमैन को तक दी है।

इतनी ताकत और क्षमता के साथ साथ वो अमैच्योररैसलिंग के अनुभव को मिलाकर MMA के ऑकटागन में लड़ने उतर सकते हैं। वहां मौजूद बाकी स्टार्स को कड़ी चुनौती पेश करेंगे।

#2 समोआ जो

09-05-28-89d1a-1511626668-500

समोआ जो प्रोफेशनल रैसलिंग के सबसे फुर्तीले भारी भरकम रैसलर हैं। 282 पौंड के समोआ जो में गजब की तेजी है। समोआ जो के नाम प्रोफेशनल रैसलिंग में ढेर सारे ख़िताब तो हैं ही, उसके साथ साथ वो कई तरह के मार्शल आर्ट जैसे ब्राज़ीलियाई जीयू-जित्सू, मूय थाई और जूडो में भी निपुण हैं। उनकी रिंग स्टाइल में ज्यादातर किक्स और सबमिशन देखने मिलते हैं।

इस तरह की तेजी, फुर्ती और ताकत किसी भी MMA फाइटर के लिए कमाल की बात है। समोआ जो को केवल 20 पौंड घटा कर ऑकटागन पर कब्जा करना है।

#1 चाड गेबल

09-05-47-c8fea-1511626747-500

इस आर्टिकल में कई बार जिक्र किया गया है कि MMA फाइटर की कामयाबी के पीछे अमैच्योर रैसलिंग का अनुभव फायदेमंद होती है। यहां पर चाड गेबल के पास अमैच्योर रैसलिंग का अनुभव तो है ही, वो भी ओलंपिक स्तर का।

हमने कई ओलंपिक स्टार को MMA में कमाल करते देखा है और चाड गेबल भी उनमें से एक बन सकते हैं। कर्ट एंगल के बाद गेबल ही ऐसे अमैच्योर रैसलर हैं जिन्होंने अपने आप को प्रो रैसलिंग में बखूबी ढाला है। गेबल के पास MMA में कामयाब होने की ताकत और क्षमता दोनों है।

लेखक: जैक कैपपडोन, अनुवादक: सूर्यकांत त्रिपाठी

Edited by Staff Editor

Comments

comments icon
Fetching more content...