ब्रॉक लैसनर ड्रग टेस्ट में फेल, 2 साल का लग सकता है बैन

UFC 200 में जीत के बाद ब्रॉक लैसनर ड्रग टेस्ट में फेल पाए गए थे। उनका 28 जून को आउट ऑफ द कम्पीटिशन ड्रग टेस्ट किया गया था, जिसमें वो पॉजीटिव पाए गए। अब UFC ने एलान किया है कि बीस्ट का दूसरा टेस्ट भी पॉजीटिव पाया गया है। लैसनर का सैम्पल ड्रग टेस्ट के लिए UFC 200 शुरु होने से 12 घंटे पहले लिया गया था। UFC ने एक प्रेस रिलीज़ जारी करते हुए कहा, "यूएस एंटी डोपिंग एजेंसी के मुताबिक 9 जुलाई को ब्रॉक लैसनर लिया गया सैम्पल पॉजीटिव पाया गया है। दूसरे टेस्ट में भी उसका पदार्थ का सेवन करने की बात सामने आई है, जोकि पहले टेस्ट में आई थी। यूएस एंटी डोपिंग एजेंसी टेस्ट पॉजीटिव पाए जाने के बाद नतीजों की समीक्षा करेगी। UFC एंटी डोपिंग पॉलिसी के तहत किसी भी खिलाड़ी पर प्रतिबंध लगाने से पहले उसको अपना पक्ष रखने का पूरा मौका दिया जाता है। इस मामले में नेवाडा स्टेट एथलेटिक्स कमीशन को भी अधिकार है, क्योंकि UFC 200 लॉस वेगास में हुआ था। हालांकि UFC ने उस पदार्थ के बारे में नहीं बताया है, जिसके सेवन का ब्रॉक लैसनर को दोषी पाया गया है। रैसलिंग इंक डॉट कॉम की रिपोर्ट के मुताबिक ब्रॉक लैसनर को एस्ट्रोजन ब्लॉकर क्लोमीफीन का सेवन किया था। ऐसा कहा जाता है कि एथलीट्स द्वारा इस पदार्थ का इस्तेमाल एस्ट्रोजन लेवल को कंट्रोल करने के लिए किया जाता है। UFC ब्रॉक लैसनर के खिलाफ कार्रवाई कर सकती है और उन पर 2 साल का बैन और भारी जुर्माना लगाया जा सकता है।