Create
Notifications

WWE Clash of Champions 2016: 5 चीज़ें जो पे-पर-व्यू पर गलत हुई

सुर्यकांत त्रिपाठी

मुझे डर लग रहा था कहीं क्लैश ऑफ़ चचैंपियंस हमे निराश न कर दें। मुझे डर इसलिए था क्योंकि बैकलैश कामयाब था और कंपनी लगातार दो हिट शो नहीं दिया करती थी। मैं मानता हूँ की मैं गलत था। रॉ के इस पे-पर-व्यू ने कमाल तो किया ही,ये साल का सबसे अच्छा पे-पर-व्यू भी साबित हुआ। दोनों ब्रैंड में होड़ लगी हुई थी और अब समय है नीले ब्रैंड को अपना कमाल दिखाने का। समय निकलता जा रहा है और हम देखना चाहते है कि नो मर्सी कैसा होगा। क्लैश ऑफ़ चैंपियंस की हर मैच में कहानी थी। शो का कुछ हिस्सा मजेदार था और वहीँ कुछ हिस्से ने हमे निराश किया। अंत में शो की अच्छाइयाँ बुराईयों से ज्यादा थी। इसके बाद अब रॉ को मंडे नाईट रॉ आगे बढ़ाने के लिए अच्छी स्टोरीलाइन मिली है। ये रही 5 बातें जो शो पर ख़राब रही: 1-नाया जैक्स को क्या ? nia-jax2-600x400-1474859886-800 नाया जैक्स का WWE में रॉस्टर में होने के पीछे की एक वजह थी, उन्हें रॉ की सबसे प्रभवशाली महिला के रूप में दिखाना। हालांकि उन्होंने अपने विरोधी को हरा दिया, उनसे इसके लिए काफी समय दिया गया था। जी हाँ, सामोन ड्राप की मदद से जैक्स ने जीत दर्ज कर ली लेकिन इसका बाद अगर क्या? वे डिवीज़न की फेनिक्स कर्मा जैसे रैसलर बन सकती है। लेकिन यहाँ और नुकसान केवल एक है, उन्हें मुख्य ईवेंट में शायद जगह न मिले क्योंकि यहाँ पर पहले से स्टार महिलाएं मौजूद हैं। 2- न्यू डे रॉक्स new-day-1474859854-800 मैं ये काफी समय से कहता आया हूँ। द न्यू डे को अब अपना ख़िताब छोड़ देना चाहिए। एंडरसन और गैलोज़ के साथ बहुत बुरा हुआ। अगर WWE उन्हें हॉल और नैश के बाद दूसरी सबसे अच्छी टैग टीम के रूप में दिखाना चाहती है, उनके हातों में ख़िताब दे देना चाहिए। इस टैग टीम का रॉस्टर पर लाने के पीछे का मकसद था एक मजबूत विरोधी तैयार करना। लेकिन इनकी बुकिंग हमेशा से कमज़ोर रही है। इसके पीछे का ये कारण हो सकता है कि क्रिएटिव टीम को पता नहीं बेल्ट हारने के बाद कोफ़ी किंग्स्टन, बिग ई और ज़ेवियर वुड्स के साथ क्या करना चाहिए। मिडकार्ड में अब उनके लिए जगह नहीं है। जबतक WWE उनके भविष्य के बारे में कुछ पक्का नहीं कर लेती तबतक गैलोज़ और एंडरसन भी बीच हवा में लटकते रहेंगे। 3- सिजेरो - शेमस = कोई मुकाबला नहीं cesaro-1474859807-800 सिजेरो और शेमस के बीच का मुकाबला देखर वो समय याद आया जब रैसलिंग का मतलब कोई तकनिकी चाल (जिससे मनोरंजन होता है) नहीं बल्कि केवल विरोधी को मारना होता था। सात मैचों की सीरीज में हमने रैसलिंग इतिहास की कुछ सबसे अच्छे मैचेस देखें। इन दोनों में मुझे बील्ली रॉबिन्सन और डोरी फंक जूनियर की झलक दिखती है। जी हाँ। दुःख की बात है कि आखरी मैच बिना मुकाबले के खत्म हो गया। इसका नतीजा कैसे निकेलगा, नहीं मालुम। शायद एक और मैच से। अभी कुछ पक्का नहीं है, लेकिन उन सात मैचों में दर्शकों को मजा आया। यहाँ पर एक विजेता होना चाहिए था और उसके बाद उसे ख़िताब के लिए मौका मिलना चाहिए था। 4- क्रिस जेरिको chris-jericho-1474859759-800 सिजेरो एयर शेमस की तरह ही क्रिस जेरिको और सेमी जेन ने भी रॉ के मिडकार्ड को मजबूती दी है। मुझे समझ नहीं आ रहा कि यहाँ पर जेरिको की जीत क्यों हुई। मैं सिर्फ इतना जानता हूँ की इसे तीन पे-पर-व्यू तक आगे जाना चाहिए। जेन और सिजेरो एक ही नाव पर सवार है और दोनों की अभी रॉ में कोई पक्की जगह नहीं है। जेरिको अपने करियर में अबतक का सबसे अच्छा काम कर रहे हैं, लेकिन यहाँ पर अगर सेमी जेन की जीत होती तो ज्यादा अच्छा होता। अपना सबसे अच्छा खेल दिखाने के लिए जेरिको को जीत की ज़रूरत नहीं है। केविन ओवन्स की यूनिवर्सल हैवीवेट चैंपियनशिप जीत के बाद जर्न कहीं भटक से गए हैं। उन्हें एक जोरदार पुश की ज़रूरत है। 5- ख़राब अंत stephanie-mcmahon-1474859691-800 केविन ओवन्स की जीत। ट्रिपल एच नहीं दिखे और US चैंपियनशिप मैच बेहतर शो था। केविन ओवन्स की जीत पर ज्यादा सवाल खड़े नहीं किये जा सकते, लेकिन शो का अंत हमे अधूरा लगा। ये बात स्टेफ़नी मैकमैहन के चेहरे पर साफ़ झलकी। इसके पीछे स्टेफ़नी ही थी। रोमन रेन्स और रुसेव का मैच अच्छा था, इससे एक बात तो पक्की है कि रॉलिन्स अब ट्रिपल एच और स्टेफ़नी के बुरे कामों के शिकार होंगे, क्योंकि अब वे दोनों एक ही तरफ हैं। इसके लिए हमे इंतज़ार करना पड़ेगा। लेखक: डीएम लेविन, अनुवादक: सूर्यकांत त्रिपाठी

Edited by Staff Editor

Comments

Fetching more content...