वेडर के करियर की 5 यादगार लम्हें

रैसलिंग के सबसे आइकोनिक रैसलर के रूप में वेडर ने ऐसे उपलब्धियां हासिल की जो उनके साइज के आधे रैसलर्स तक के लिए नामुमकिन माना जाता है। हालाँकि उसमें में कुछ ही WWE पर हुए, लेकिन "द मस्तोडान" में 1990 के समय में कई बेहतरीन मैचेस दिए एयर रैसलिंग जगत में अपनी जगह पक्की करवाई। अब खबर आ रही है कि वेडर केवल दो साल के मेहमान है और मिक फॉली ने सबके सामने ये ज़ाहिर किया है वेडर को साल 2017 के हॉल ऑफ़ फेम में जगह दी जाएगी। इसलिए मुझे लगता है कि ये समय वेडर के 5 सबसे यादगार लम्हों को याद करने का सबसे अच्छा मौका है। ये रहे वेडर के रिंग में 5 यादगार लम्हे: #5 कैक्टस जैक का कान छीलना foley-ear-1479327359-800 हर जनरेशन में ऐसा कुछ होता है जो नामुमकिन सा लगता है लेकिन उसके पूरे होने पर लेजेंडरी स्थित प्राप्त कर लेते हैं। हालांकि ये केवल एक दुर्घटना थी और वेडर उन्हें तबाही से बचा रहे थे, लेकिन उन्हें "मिक फॉली का कान चीलनेवाले" के नाम से याद किया जाएगा। ये घटना वेडर और मिक फॉली के कैक्टस जैक पेर्सोना के फिउड के समय टाइट बंधी रस्सियों के कारण हुआ था। दोनों के बीच की लड़ाई निर्दयता के लिए मशहूर थी और यहाँ पर वेडर ने फॉली को पॉवरबोम्ब से बेहोश कर दिया था। दोनों की भिड़ंत इतनी भयानक हुई की WWE ने उन्हें पे-पर-व्यू पर एक साथ रखने से इंकार कर दिया। इस घटना ने दोनों के फिउड को कई रहस्यों से जोड़ दिया। #4 स्टिंग को चोटिल करना 23_slamboree_opt-1479368058-800 वेडर साल 1990 में WCW से जुड़े लेकिन साल 1992 के बाद वे फुल टाइम रैसलर बने। फुल टाइम रैसलर होने के बाद वे जल्द ही वर्ल्ड हैवीवेट चैंपियनशिप के लिए मुकाबला करने लगे। उसी साल अप्रैल में ख़िताब के लिए उनका मुकाबला हुआ। मैच में समय मस्तोडान टॉप रोप पर गए और तोरसो की मदद से 450 किलो से अधिक भार के साथ आइकॉन पर गिरे। इससे स्टिंग की रिब्स क्रैक हुए। हालांकि वे उस दिन ख़िताब जीतने में नाकामयाब रहे थे, लेकिन उन्होंने बाकि रैसलर्स को ये बता दिया की उनसे भिड़ना आसान काम नहीं होगा। #3 WWE के पेरसिडेंट गोरिल्ला मानसून पर हमला करना vader-monsoon-1479327493-800 वेडर के डेब्यू पहले महीनों तक WWE ने दर्शकों को उनका टीज़र दिखाया। वेडर के मैनेजर जेम्स इ कॉर्नेट ने वेडर की उपलब्धियां गिनाते हुए बाकि WWE रैसलर्स को आगाह किया। रॉयल रम्बल में डेब्यू करने के बाद वेडर ने मंडे नाईट रॉ पर सैवियो वेगा को सिंगल मैच में हराया। मैच जीतने के बाद वेडर लगातार वेगा को मारते गये, बीच बचाव करने आएं अधिकारियों पर भी वेगा ने हाथ उठाया। इसके बाद दर्शकों के लोकप्रिय और WWE के प्रेजिडेंट गोरिल्ला मानसून आएं। मानसून साइज में बड़े इंसान हैं और आते ही उन्होंने वेडर पर हाथ रखा और उन्हें डांटा फिर गिरे हुए अधिकारियों को देखने के लिए वे मुड़े। वेडर से मानसून पर भी हमला कर दिया और उन्हें रिंग के कोने में पीटते हुए कई वेडर बोम्ब दिए। हालांकि इसके बाद उन्हें ससपेंड किया गया, लेकिन अपने डेब्यू के साथ उन्होंने ये बता दिया की उनके दिल में किसी के लिए सम्मान नहीं है और जो उनके सामने आएगा, वो उनसे बच नहीं पाएगा। #2 मैच बनाम स्टॉन हँसेन AJPW - NJPW फरवरी 1990 vader-eyeball-1479327578-800 1980 के अंत और 1990 के शुरुआत में बिग वैन वेडर और हॉल ऑफ़ फेमर स्टॉन "द लारियात" हँसेन, दोनों जापान में सबसे मशहूर विदेशी रैसलर थे। दोनों अपने-अपने प्रोमोशन्स के टॉप रैसलर्स थे। AJPW के (हँसेन) और NJPW के (वेडर)। मैच की शुरुआत तब हुई जब हँसेन के बुल्लरोप ने वेडर की नाक तोड़ दी। हालात बुरी तब हो गयी जब इस पूर्व कोलोराडो गोल्डन बफैलो ने मुक्कों ने वेडर की ऑयबॉल चोटिल कर दी। ये ऐसा लम्हा था जिसमें कोई भी रैसलर चोटिल हो सकता था, लेकिन वेडर ने अपनी ऑयबॉल सही की एयर मैच में हिस्सा लिया। इस मैच ने और इसके पहले की उनकी कामयाबी ने WCW को वेडर की ओर आकर्षित किया और अगले साल वेडर को अपनी कंपनी में जोड़ लिया। #1 एंटोनियो इनोकी को हराते हुए रयोगोकु सूमो हॉल से NJPW पर प्रतिबंध लगवाना vader-inoki-1479327779-800 दिसंबर 1987 में जापानी रैसलिंग लेजेंड एंटोनियो इनोकी साल भर तक बिना कोई मैच हारे आगे बढ़ रहे थे, जिसमें उन्होंने WWE चैंपियन बॉब बुकलैंड को भी हराया था। न्यू जापान प्रो रैसलिंग में प्रसंशक इनोकी के भक्त थे। रिकी चोशु के खिलाफ डिसक्वालिफिकेशन से मैच जीतने के बाद इनोकी ने रॉकी माउंटेन से आएं अंजान रैसलर की चुनौती स्वीकार कर ली। वेडर ने तीन मिनट के भीतर जापानी लीजेंड को मात दे दी, जिससे पूरा रयोगोकु सूमो हॉल चौंक उठा। ये चौंकना जल्द ही ग़ुस्से में बदला और फिर वो ग़ुस्सा बेकाबू हो गया जिसके नतीजे विद्रोह और दंगे शुरू हो गए। दंगे के कारण वेन्यू को नुकसान पहुंचा और सूमो हॉल ने बिल्डिंग में NJPW के आनेपर पाबंदी लगा दी। ये प्रतिबंध करीब साल भर तक बना रहा। इसके बाद वेडर IWGP हैवीवेट चैंपियनशिप जीतने में कामयाब हुए। ऐसे करनेवाले वे पहले गैर जापानी रैसलर बने।