Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

Opinion: चंद पैसों के लिए लैजेंड्स और उनकी विरासत से खिलवाड़ कर रही है WWE

SENIOR ANALYST
न्यूज़
4.59K   //    10 Oct 2018, 17:30 IST

Enter caption

WWE एक प्राइवेट कंपनी है, जिसका काम लोगों को एंटरटेन कर पैसे कमाना है। WWE बाकी प्राइवेट कंपनियों वाले काम कर रही है और इसमें कोई बुराई नहीं है। कंपनी के रॉ और स्मैकडाउन शो को करीब 180 देशों में ब्रॉडकास्ट किया जाता है, तो जाहिर सी बात है कि इसकी पहुंच बहुत ज्यादा लोगों तक है। WWE अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स के जरिए लाखों-करोडों लोगों तक पहुंचती है।

हमने पिछले साल से देखा है कि WWE अब बाहर के देशों में भी नेटवर्क स्पेशल इवेंट्स करवा रही है, जैसे कि ग्रेटेस्ट रॉयल रम्बल, सुपर शो डाउन। यहां तक WWE की बिजनेस प्लानिंग से कोई भी शिकायत नहीं है। अब जाहिर सी बात है कि अगर WWE को अमेरिकी महाद्वीप के बाहर शो को कामयाब बनाना है तो कंपनी के सभी बड़े सुपरस्टार्स को शो में शामिल करना बहुत ही जरूरी है। दूसरे देशों में रहने वाले लोग अब के सुपरस्टार्स के मुकाबले लैजेंड्स को अपनी आंखों के सामने लड़ते हुए देखना ज्यादा पसंद करेंगे क्योंकि उनके बारे में वो लंबे समय से सुनते आए हैं।

लेकिन कंपनी की बिजनेस फैलाने की रणनीति WWE लैजेंड्स की विरासत को धूमिल कर रही है। ऐसा हम क्यों कह रहे हैं, इसके लिए सबसे पहले बात करते हैं अंडरटेक की।

रैसलमेनिया 33 में WWE ने स्टोरीलाइन दिखाई कि रोमन रेंस ने अंडरटेकर को 'रिटायर' कर दिया। हालांकि WWE द्वारा कभी भी आधिकारिक तौर पर नहीं कहा गया कि टेकर ने रिटायरमेंट ले ली है। रैसलमेनिया 34 में कंपनी द्वारा टेकर और सीना के मैच की स्टोरीलाइन बहुत ही शानदार तरीके से बुक की गई। रैसलमेनिया के बिल्ड अप के दौरान जॉन सीना ने कई शानदार प्रोमो किए लेकिन टेकर की तरफ से कोई जवाब नहीं आया। हर हफ्ते फैंस के दिलों में उत्सुकता रहती थी कि अंडरटेकर आज आएंगे, जो रैसलमेनिया के दिन तक जारी रही। आखिर में अंडरटेकर आए और सीना के खिलाफ एक छोटा मैच लड़ा। तब लग रहा था कि कंपनी इन दोनों का रीमैच कराएगी, जोकि कभी भी हो सकता है।

उसके बाद अप्रैल महीने में ही सऊदी अरब में हुए ग्रेटेस्ट रॉयल रम्बल के लिए टेकर का मैच फिक्स कर दिया गया, उन्हें रुसेव के खिलाफ कास्केट मैच लड़ना पड़ा। WWE ने खुद से तो अंडरटेकर को एक महीने के भीतर ही दूसरा मैच नहीं लड़वाया होगा, वो भी रुसेव जैसे मिड कार्ड रैसलर के साथ। सऊदी अथॉरिटी के कहने पर ही WWE टेकर को शो में लेकर आई होगी, ताकि इवेंट को कामयाब बना सकें।

सऊदी अरब कितना अमीर देश है, इस बात का पता सभी को है। उन्होंने अंडरटेकर के लिए आने पर ज्यादा पैसे देने की पेशकश कर दी होगी। यही चीज़ WWE ने ऑस्ट्रेलिया में सुपर शो डाउन के लिए की। अंडरटेकर ने ट्रिपल एच के साथ मैच लड़ा। अब 2 नवंबर को फिर से टेकर एक और मैच लड़ेंगे। बाहर के इवेंट्स को कामयाब करने के लिए WWE अंडरटेकर के साथ-साथ दूसरे दिग्गजों का इस्तेमाल कर रही है। टेकर के इतने मैच देखने के बाद अगर वो बड़ा मैच लड़ेंगे तो लोगों उसे सिर्फ एक आम मैच की तरफ ही देखेंगे। ये बात तो जगजाहिर है कि कोई चीज़ अगर रोज़-रोज़ खाई जाए तो उसकी अहमियत नहीं समझी जा सकती।


यही काम WWE ने शॉन माइकल्स के साथ किया है। 8 साल पहले रिटायर हो चुके माइकल्स पहले कई बार कह चुके थे कि वो रिटायरमेंट से वापिस नहीं आएंगे। लेकिन WWE साम-दाम-दंड-भेद से उन्हें टेकर के खिलाफ मैच के लिए वापिस ले ही आई। अब आप ही सोचिए 53 साल के रैसलर से कैसे मैच की उम्मीद करें, जोकि चोट की वजह से करीब दशक पहले रिटायर हो चुका है।

अगर WWE को अंडरटेकर और शॉन माइकल्स की रिंग में वापसी करानी ही थी तो सीधा रैसलमेनिया 35 में होनी चाहिए थी। तब फैंस के लिए उत्साह अलग ही लेवल पर होता।

Tags:
Advertisement
Advertisement
Fetching more content...