Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

क्या WWE की सबसे बेहतरीन टीम है शील्ड?

Modified 26 Oct 2016, 23:40 IST
Advertisement
रैसलिंग की दुनिया में जब भी 'स्टेबल' शब्द का इस्तेमाल होता है तो ये तीन या उससे ज्यादा लोगों के ग्रुप को दर्शाने के लिये किया जाता है। ये ग्रुप एक नाम के नीचे, एक उद्देश्य के साथ एकत्र होते हैं। लेमन की भाषा में कहें तो तीन बुरे लोगों का एक गुट जो बदलाव लाने के इरादे से बनते हैं और जिन्हें अपने मकसद के अलावा किसी और चीज़ की परवाह नहीं होती। रैसलिंग स्टेबल अक्सर हील्स का एक ग्रुप होता है और जो अपना मकसद पूरा करने उतरते हैं। जैसे की WCW की सबसे बड़ी स्टेबल nWo हुआ करती थी। nwo-1477466174-800 इस ग्रुप को तीन टॉप रैसलर्स केविन नैश, स्कॉट हॉल एयर हील टर्न किये हल्क हॉगन थे। इस स्टेबल का स्तर बढ़ता गया। लोगों की अपेक्षा से ज्यादा ये स्टेबल बढ़ा। हर समय उनके ध्यान में केवल एक ही उद्देश्य था, की WCW पर कब्ज़ा करना। और आख़िरकार अंत में उनका उद्देश्य भी पूरा हुआ। इसी तरह एक और स्टेबल है फोर हॉर्समेन। इस आर्मी के सैनिक बदलते रहते थे लेकिन रिक फ्लेयर और एर्न एंडरसन की जगह कभी किसी ने नहीं ली। द हॉर्समेन बाकी सबसे अच्छे थे और उन्हें ये बात मालूम थी। four_horsemen_bio-1477466308-800 फोर हॉर्समेन एक साथ एक दल की तरह काम किया करते थे। फ्लेयर इसके लीडर भी थे और प्रवक्ता भी। एर्न एंडरसन इस स्टेबल की ताकत बने और उन्हें जो भी काम सौंपा जाता, उसे वे करते थे। टुली ब्लैंकार्ड, बैरी विंधाम, ओले एंडरसन, डीन मलेंको, क्रिस बेन्वा और बाकि कई रैसलर्स इसका हिस्सा बने और फिर चले गए। हॉर्समेन केवल बेहतरीन नहीं थे वे महान थे। समय के साथ साथ प्रोफेशनल रैसलिंग का खेल बढ़ा और WWE में स्टेबल की संख्या कम होने लगी। भले ही एक या दो स्टेबल दिख जाया करते थे, लेकिन इनके स्तर का कोई नहीं था। आगे बढ़कर रैसलिंग सिंगल रैसलर्स का बिज़नस बन गया जहाँ पर मेगा स्टार्स की भरमार हो गयी। दर्शक भी सिंगल रैसलर्स को चीयर करने लगे क्योंकि बिज़नस ने भी उन्हें वही दिखाया। इसके बाद हम आगे बढे और वहां पहुंचे जहां हम आज है। हमें आज एक या दो स्टेबल दिख जाते हैं और फिर अचानक से गायब हो जाते हैं, जिससे दर्शक को और सिंगल मुकाबले देखने मिल जाता है। दर्शकों को भी यही चाहिए। नेक्सस, स्ट्रैट एज और एवोलुशन जैसे स्टेबल ने असर डाला, थोड़े समय तक रहे और अंत में वापस अपनी-अपनी जगह पर लौट गए। प्रोफेशनल रैसलिंग में आकर अपनी पहचान बनाने के लिए कुछ ऐसा करने की ज़रूरत थी जो उनके पहले किसी ने न किया हो। इसे सबसे अलग और अनोखा होना था ताकि आम दर्शक भी इसकी ओर आकर्षित हो सके। 2012 के सर्वाइवर सीरीज में दर्शकों के बीच से तीन युवा रैसलर्स निकलर आएं, सभी काले पोशाख में थे। तीनों अंजान रैसलर्स ने रायबैक को एनाउंसर टेबल पर पावरबोम्ब दिया जिसकी वजह से सीएम पंक ने जॉन सीना को पिन किया और अपना खिताब बचाने में कामयाब हुए। the_shield_of_justice-1477400983-800 इसके बाद के दिनों और हफ्ते में द शील्ड ने अपना आतंक फैला दिया। दर्शकों ने जब इन्हें समझने की कोशिश की तब उन्हें मालुम हुआ की ये तीनों परंपरागत प्रोफेशनल रैसलिंग के खिलाफ थे। बैकस्टेज सेगमेंट और उनके इंटरव्यू से पता चला की वे प्रोफेशनल रैसलिंग में हो रहे अन्याय के खिलाफ आवाज उठाने आएं हैं। ये आकर्षक था और ऐसा हमने अबतक देखा नहीं था। इसमें दर्शकों को अपनी ओर आकर्षित करने की काबिलियत थी। शील्ड एक मजबूत फाॅर्स बन गयी जिसे रोकना नामुमकिन हो गया था। वे केवल एक टीम के रूप में हावी नहीं थे, बल्कि अकेले भी उन्हें रोकना मुश्किल हो गया था। एक ऐसा समय भी था जब शील्ड के सभी सदस्यों के पास बड़ा खिताब था। एक ही समय पर डीन एम्ब्रोज़ यूनाइटेड स्टेट्स चैंपियन थे और रोमन रेन्स और सैथ रॉलिन्स टैग टीम चैंपियन थे। कामयाबी उनका मिशन नहीं बल्कि उनकी आदत बन गयी थी। तीनों युवा रैसलर्स अपने काम में बहुत अच्छे थे और ये सभी को दिखाई दे रहा था। उनकी एंट्री से लेकर आखरी घंटी तक सबकुछ बढ़िया था। हर सदस्य के पास कुछ न कुछ काम था और सभी उसे बखूबी निभा रहे थे। डीन एम्ब्रोज़ इस स्टेबल की आवाज बने। रोमन रेन्स इसकी ताकत बने और सैथ रॉलिन्स इस स्टेबल के आर्किटेक्ट थे। एक लक्ष्य के नीचे एक साथ तीनों काम किया करते थे। ऐसा आजतक कोई दूसरा नहीं कर पाया है। हम सब जानते है शील्ड कैसे टूटी। सैथ रॉलिन्स ने अथॉरिटी से हाथ मिला कर शील्ड को धोखा दिया। भले ही उस दिन सैथ रॉलिन्स अपने भाईयों पर टर्न हुए, लेकिन शुक्र है कि हमें शील्ड का अंत नहीं देखा। सच कहूं तो इस स्टेबल से अभी इतने पैसे और बनाए जा सकते हैं कि इसे बंद करना सही नही होगा। भले ही आज ये स्टेबल वापस इकठ्ठा न हो सकें, अपने उस छोटे से समय में उन्होंने ऐसा कुछ कर दिखाया जिसके लिए उनका जिक्र इतिहास में सबसे बेहतरीन स्टेबल में हों। मुझे पता इस वाक्य को पढ़नेवाले कई लोग इसपर सवाल उठा रहे होंगे, लेकिन ज़रा गौर से देखिए तो खुद पता कीजिए की किस तरह उनकी टीम ने उन्हें कमाल का सिंगल रैसलर बनाया। उन्होंने बिज़नस पर अपनी छोड़ी है। इसलिए तो अगर WWE के सबसे बेहतरीन स्टेबल की गिनती होती है तो उसमें इनका भी जिक्र किया जाएगा। WWE के बाकी स्टेबल के उल्ट इस स्टेबल को युवा युवा रैसलर्स को इकठ्ठा कर के बनाया गया था। तीनों रैसलर्स उस समय अपने दूसरे दशक में ही थे। इससे तीनों को एकसाथ बढ़ने का और अपनी काबिलियत निखारने का मौका मिला। अगल होने के बाद तीनों इस काबिल हो गए थे की वे सुपरस्टार बन सकें। अगल होने के बाद से ही रोमन रेन्स, सैथ रॉलिन्स और डीन एम्ब्रोज़ तीनों कंपनी के टॉप पर रहे हैं। वे कंपनी की सभी सिंगल शिर्ष ख़िताब जीत चुके हैं, जैसे WWE चैंपियनशिप। मौजूदा स्तिथि ऐसी है कि अभी भी तीनों शील्ड सदस्य ऊंचाई पर पहुँच सकते हैं। रही बात, की क्या शील्ड अबतक की सबसे बेहतरीन स्टेबल है या नहीं, तो इसके लिए हमे केवल भूतकाल की कामयाबी नहीं बल्कि भविष्य पर भी नज़र डालनी चाहिए। अगर आप इसका आंकलन करेंगे तो आपको सचाई पता चलेगी। लेखक: जे कारपेंटर, अनुवादक: सूर्यकांत त्रिपाठी Published 26 Oct 2016, 23:40 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit