COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

WWE न्यूज : कैसे रैसलिंग की दुनिया में आया द रॉक का नाम?

न्यूज़
972   //    29 Dec 2018, 11:21 IST

Enter caption

रैसलिंग जानकर और क्रिएटिव ब्रूस प्रिचार्ड ने द रॉक नाम के जन्म की कहानी बयां की है। उन्होंने बताया है कि प्रो रैसलिंग की दुनिया के दिग्गज जिम रॉस को इसका श्रेय जाना चाहिए। प्रिचार्ड ने इससे पहले भी कई जगह सार्वजनिक मंच से कहा था कि वे, रॉस, विंस रुसो और विंस मैकमैहन लगातार इस तरह के आइडिया की तलाश में लगे रहते थे जिससे युवा रैसलरों को नाम और फेम मिल सके।

बता दें कि द रॉक के नाम से मशहूर डेवन जॉनसन ने WWE में अपने करियर की शुरुआत बेबी फेस के रूप में की थी। तब उन्हें रॉकी के तौर पर जाना जाता था। उन्होंने इस नाम में माइविया अपने दादा के नाम से उठाया था जो उस समय के काफी मशहूर रैसलर थे। रॉकी वाला हिस्सा उन्होंने अपने पिता के नाम से लिया था।

रिंगसाइडन्यूज ने अपने रिपोर्ट में प्रिचार्ड के हवाले से लिखा है कि डेवन जॉनसन के द रॉक कैरेक्टर को लेकर उन्होंने ज्यादातर आइडिया तब इजाद किए जब वह चोटिल थे। उन्होंने इसका भी जिक्र किया है कि कैसे विंस रुसो ने उनके दिमाग में इस तरह के कैरेक्टर के लिए तरकीबे भरी।

रॉकी जब घुटने की चोट से जूझ रहे थे उसे दौरान हम दोनों लगातार फोन पर यही बात करते कि कैसे उन्हें इस स्थिति से बाहर निकाला जाए। यही कारण रहा कि उन्हें नेशन ऑफ डॉमिनेशन में डाला गया। हालांकि वे इसके लिए तैयार नहीं थे लेकिन रुसो और जिम ने उन्हें मनाया।

द रॉक रिंग में काफी बेहतर थे लेकिन, अपनी काबिलियत के मुताबिक उन्हें भीड़ नहीं मिली। एक समय तो ऐसा भी आया जब उन्हें नापसंद करने वाले दर्शक 'डाई रॉक डाई' चिल्लाते थे। चोटिल होने के बाद जब उन्होंने वापसी की तब हील बनकर नेशन ऑफ डॉमिनेशन के मेंबर बन गए। हालांकि बाद में अपने प्रदर्शन के दम पर उन्होंने खुद को उस ग्रुप का लीडर बनाया। द रॉक आज WWE के सबसे बड़े सुपरस्टार है उनकी एंट्री ही एक शो की कामयाब बनाने के लिए काफी है, देखना होगा कि क्या वो 2019 की रॉयल रंबल में दस्तक देते हैं या नहीं।

Get WWE News in Hindi Here

Advertisement
Topics you might be interested in:
ANALYST
संदीप भूषण राष्ट्रीय अखबार जनसत्ता में खेल पत्रकार के तौर पर कार्यरत हैं। इससे पहले वह दैनिक जागरण में भी काम कर चुके हैं। इनके क्रिकेट और हॉकी के साथ ही कबड्डी, फुटबॉल और कुश्ती से जुडे कई लेख राष्ट्रीय अखबारों में छप चुके हैं।
Advertisement
Fetching more content...