Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

WWE रैसलर बनने का सबसे बड़ा दर्द और उससे होने वाले नुकसान

Aarti Sharma
ANALYST
29 Jun 2018, 12:35 IST

हमें यकीन है कि ज्यादातर प्रो रैसलिंग फैंस प्रो रैसलर बनने के लिए की गई कड़ी मेहनत की सराहना करते हैं। WWE 24 के एपिसोड में द हार्डी बॉयज को फीचर किया गया था जिसे देखकर फैंस को एक प्रो रैसलर होने की वास्तविकता पता चली।

जैफ हार्डी की सब्सटेंस एब्यूज प्रॉब्लम को सब जानते हैं और इसे काफी अच्छी तरह से दिखाया गया है। पैनकिलर्स और शराब से मैट के संघर्ष के बारे में कम लोग ही जानते होंगे। यह सिर्फ उनकी अकेली की परेशानी नही है लेकिन कई टॉप स्टार्स इस स्थिति से गुजरे हैं। सबसे बुरी स्थिति, क्रिस बैन्वा के डबल-मर्डर केस की थी; WWE ने बीते हुए समय में काफी परेशानियों का सामना किया है।

एक प्रो रैसलर होना काफी मुश्किल है, लेकिन इससे भी ज्यादा मुश्किल है सबसे बड़ी प्रो रैसलिंग कम्पनी का एक टॉप रैसलर बनना। इसे समझने के लिए, चलिए जानते हैं 'WWE सुपरस्टार' होने से क्या होता है।

पहली चीज़ जो दिमाग में आती है वो इनका ट्रैवेल शेड्यूल। एक फूल टाइम WWE सुपरस्टार को साल में 300 से ज्यादा दिनों तक ट्रैवेल करना होता है। इन्हें लगभग 10 महीनों तक का समय एक एरीना से दूसरे एरीना तक जाना, अपने परिवार को पीछे छोड़कर, अपने घर का सुकून भूलकर, थकान और एक सूटकेस को एक सिटी से दूसरी सिटी तक ले जाना होता है।

अक्सर यही वो कारण होता है कि रैसलर्स कुछ समय के बाद TNA/इम्पैक्ट जैसी छोटी कम्पनी या किसी इंडिपेंडेंट प्रोमोशन्स में चले जाते हैं ताकि उन्हें सांस लेने का थोड़ा समय मिल जाये।

इसके बाद आती है इनकी शारीरिक थकावट। हां, WWE स्क्रिप्टेड होती है। यहां के रैसलर्स MMA और बाकी कॉम्बैट स्पोर्ट्स की तरह एक-दूसरे को ज्यादा जोर से नहीं मारते हैं। रिंग में स्प्रिंग्स और प्लाईवुड लगे होते हैं जोकि फॉल के थोड़े प्रभाव को कम कर देते हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं होता कि एक मैच के दौरान रैसलर को चोट नहीं लगती है।

एक गलत मूव या फिर एक गलत फॉल किसी का करियर खत्म कर सकती है। यहां ब्रेट हार्ट का उदाहरण लेते हैं। उनका करियर खत्म हो गया क्योंकि गोल्डबर्ग ने गलत समय पर उनके चेहरे पर किक दी थी।

अब बढ़ते हैं पैसों की तरफ, यह सोचना काफी आसान है की WWE सुपरस्टार हजारों डॉलर की कमाई हर साल करते हैं। लेकिन वास्तविकता यह है कि यह कंपनी का अधूरा सच है। इसके अलावा अगर आप लोग सोचते हैं की यात्रा का हर खर्च कंपनी भर्ती है, तो आप गलत हैं। कंपनी सिर्फ एयर ट्रेवल का खर्चा उठाती है जबकि सुपरस्टार को रिंग गियर, ट्रेवल, होटल और ट्रेनर्स के खर्च को अपनी जेब से भरना होता है।

आप सोच रहे होंगे उन सुपरस्टार के बारे में जिन्होंने अपना करियर हॉलीवुड में बनाया और मूवी से वह जो पैसा कमाते हैं? एक बार फिर से, जब तक वह कंपनी के साथ कॉन्ट्रैक्ट में है इंडिपेंडेंट प्रोजेक्ट से कमाए हुए पैसे का एक हिस्सा कंपनी के पास जाता है।

इसका मतलब यह नहीं है की विंस मैकमैहन और बाकी कर्मचारी क्रूर है और उन्हें अपने रैसलर्स की कोई परवाह नहीं है। कई रैसलर्स तो विंस को अपना गुरु भी मानते हैं। यह तब तक ठीक है जब तक आप लाइन को क्रॉस नहीं करते हैं। बिग कैस के बारे में सोचिए, WWE में उनका करियर काफी अच्छा होने वाला था लेकिन उनके खराब एटीट्यूड और बर्ताव के कारण उन्हें कंपनी से निकाल दिया गया।

अब वापिस आते हैं रैसलर्स की जिंदगी के ऊपर। आप में से ज्यादातर लोग यह बात मानते होंगे कि WWE अपने सुपरस्टार को फुल-टाइम एंप्लाइज नहीं मानती है जिसके कारण उन्हें रैसलर की इंश्योरेंस और बाकी हेल्थ केयर का खर्च नहीं भरना पड़ता है।

यह भले ही सच है कि रैसलर्स की सर्जरी का खर्च WWE उठाती है लेकिन बाकी हेल्थ केयर चीजों का खर्च रैसलर को ही उठाना पड़ता है। इसमें भी हजारों डॉलर्स लगते हैं।

रैसलर जिन्हें हम हर हफ्ते काम करते हुए देखते हैं उनमें से ज्यादातर शारीरिक और मानसिक शक्ति के पुरुष और महिलाएं हैं। उनमें से ज्यादातर रैसलर्स रैसलिंग के लिए अपने जुनून और अपने लाखो फैंस के लिए तनाव का सामना करते हैं।

लेखक- निखिल भास्कर अनुवादक- आरती शर्मा

Advertisement
Advertisement
Fetching more content...