स्टोन कोल्ड का WWE छोड़ना: द अंडरटेकर और ब्रॉक लैसनर की प्रतिक्रिया

10 जून 2002 को जब WWE की क्रिएटिव टीम ने स्टोन कोल्ड स्टीव ऑस्टिन को ब्रॉक लैसनर से मंडे नाईट रॉ पर लड़ने को कहा गया तो वो कंपनी छोड़कर चले गए। इस घटना को हुए पंद्रह साल बीत चुके हैं लेकिन आज भी दर्शक इसके बारे में बात करते हैं। उनके इस रवैये से WWE यूनिवर्स से लेकर प्रसंशक और कई स्टार्स स्टोन कोल्ड स्टीव ऑस्टिन से नाराज हो गए। 15 साल पहले WWE की क्रिएटिव टीम स्टोन कोल्ड से मिली और उनके सामने उभरते हुए रैसलर ब्रॉक लैसनर से लड़ने का प्रस्ताव रखा। वहां पर क्या बातचीत हुई इसका हमे पता नहीं लेकिन खबरें हैं कि स्टोन कोल्ड काफी ग़ुस्सा हुए थे और रॉ शुरू होने के दो घंटे पहले चले गए। इसके जवाब में WWE ने इस एटीट्यूड एरा के स्टार से दूरी बना ली। उस समय प्रो रैसलिंग टॉर्च ने खुलासा करते हुए कहा: रॉ मैच शुरू होने के पहले, मैनेजमेंट के विरोध के बावजूद स्टीव ऑस्टिन अपने घर चले गए। WWE के मैनेजमेंट ने रविवार को स्टीव ऑस्टिन को ब्रॉक लैसनर के खिलाफ लड़ने का प्रस्ताव रखा। ऑस्टिन को इस मैच की स्टोरीलाइन पसंद नहीं आई और उन्हें लगा कि WWE की मैनेजमेंट ब्रॉक लैसनर के लिए उनके द्वारा बनाई बड़ी विरासत के साथ खिलवाड़ कर रही है। वो नहीं चाहते थे कि उनकी कड़ी मेहनत खराब स्टोरीलाइन की भेंट चढ़ जाए। वो दोपहर में रॉ के दफ्तर आएं और वहां से एयरपोर्ट के लिए रवाना हो गए। उनका ग़ुस्सा यहां पर जायज़ था क्योंकि वो महीने पहले भी नाराज़ हुए थे और तब उनकी समस्या सुलझाई नहीं गयी थी। ऑस्टिन ने इस घटना की शिकायत एक वेब शो पर की थी। मैकमैहन सही थे और ऑस्टिन को WWE के रिंग में वापस लौटने में करीब एक साल लग गए और उन्होंने फरवरी 2003 में वापसी की। ये क्रिएटिव टीम के लिए एक समस्या का विषय हो गया क्योंकि उन्हें चार घंटे का शो दोबारा से लिखना पड़ा। ऑस्टिन के इस तरह से चले जाने से कई दर्शक, प्रसंशक, मैनेजमेंट उनसे खफा हो गयी और उन्हें इस बात का बुरा लगा। 15 साल बाद भी हमें इसके पीछे की पूरी सचाई मालूम नहीं है और बहुत कुछ नई बातें हम जान रहे हैं। ब्रूस प्रिचर्ड ने अपने पॉडकास्ट, "समथिंग टू रैसल विथ" पर इस घटना के बारे में बात करते हुए दो बड़े स्टार्स का नाम लिया। “द अंडरटेकर इससे नाराज थे। उनके इस तरह से काम छोड़कर चले जाने से सभी लोग उनपर नाराज़ थे। ब्रॉक लैसनर को उस समय किसी प्रस्ताव की जानकारी नहीं थी और उन्हें ये भी मालूम नहीं था कि उनका मैच स्टीव ऑस्टिन से होगा। इसलिए उनकी कोई प्रतिक्रिया नहीं थी। ये बात सिर्फ स्टीव को पता थी और विंस उन्हें मनाने का काम कर रहे थे।" “मुझे पता है उस समय तक पॉल ने ब्रॉक को प्रस्तावित मैच के बारे में बता दिया होगा, लेकिन वहां पर ब्रॉक इसके बारे में कोई प्रतिकिया देने की स्थिति में नहीं थे।” बिज़नेस में कई बार रैसलर्स ग़ुस्सा होकर चले जाते हैं। ऑस्टिन की घटना पहली घटना नहीं थी। हम सभी को सीएम पंक की घटना याद होगी जब उन्होंने जनवरी 2014 में रॉ छोड़ दी। अगले हफ्ते स्मैकडाउन टैपिंग पर न दिखने के बाद WWE ने उन्हें चुप चाप निकाल दिया और WWE रैसलर्स की सूची में उन्हें मौजूदा स्टार से पूर्व स्टार की सूची में जोड़ दिया। 90 के दशक में ये आम बात थी और स्टार्स WWF छोड़कर WCW में चले जाया करते थे। लेक्स ल्युगर, रिक रुड, माचो मैन जैसे स्टार्स ऐसा कर चुके हैं। वैसे इस घटना को पंद्रह साल हो गए हैं लेकिन आज भी इसे लेकर दर्शकों की बंटी हुई राय है। कई इसे स्वार्थी भावना से लिया गया फैसला मानते हैं तो वहीं कई ऐसे भी हैं जो रॉ पर लैसनर के हाथों ऑस्टिन की बली नहीं देखना चाहते थे। स्टोन कोल्ड बनाम ब्रॉक लैसनर जैसे बड़े मैच को समरस्लैम या फिर रैसलमेनिया के मंच पर करना चाहिए। वहीं युवा लैसनर द्वारा ऑस्टिन की विरासत को तोड़ने से रॉ का ही नुकसान होता। लेकिन जिस तरह से ऑस्टिन काम छोड़कर गए वो तरीका सही नहीं था। इस घटना के बारे में ऑस्टिन ने घुले आम ज़ाहिर करते हुए कहा कि उन्हें ऐसा करते हुए बिल्कुल अच्छा नही लगा लेकिन परिस्थिति ऐसी बन गयी थी। ये घटना सही है या नहीं इसका फैसला उन्हें ही करने दिया जाए। लेकिन खुशी की बात ये है कि अब दोनों इससे आगे बढ़ चुके हैं और आज स्टोन कोल्ड WWE के हॉल ऑफ फेम का हिस्सा हैं। इस बात को WWE और स्टोन कोल्ड दोनों ही भुला चुके हैं।