5 मौके जब WWE में देश के झंडे का अपमान किया गया

un-americans-1465487382-800

WWE में अच्छे रैसलर्स होते हैं और बुरे रैसलर्स होते हैं। जिन्हें चियर्स और बुज़ मिलते हैं। दर्शकों की प्रतिक्रिया रैसलर्स के एक्शन और बातों पर निर्भर करती है। इसलिए WWE यहाँ पर बड़ी प्रतिक्रिया हासिल करने के लिए थोडा मसाला जोड़ देती है। हील्स के लिए प्रतिक्रिया हासिल करने का सबसे सफल और सरल तरीका है सामने वाले के दिल में नफरत पैदा करना। आप अगर दर्शकों का उनकी जगह का अपमान करेंगे तो सब आपको बू करेंगे ही। इसी तरह से WWE दर्शकों का देशभक्त रूप बाहर निकालती है। लेकिन क्या ऐसा करने में वें कभी अपने आप को बहुत नीचे गिरा देते हैं? ये रहे WWE में ऐसे 5 मौके जब उन्होंने राष्ट्र ध्वज का अपमान किया, जिसपर दर्शक सोचने लगे, "क्या सच में ऐसा हुआ?" #5 गैर अमेरिकी और अमेरिकी झंडे 2002 के मध्य में तीन कनाडियाई रैसलर्स लैंस स्ट्रोम, क्रिस्टिन और टेस्ट ने मिलकर एक गैर अमेरिकी स्टेबल बना लिया था। बाद में इसमें इंग्लिश रैसलर विल्लिम रीगल भी जुड़ गए। मोंट्रियल स्क्रूजॉब का उदहारण देकर ये स्टेबल ये दावा करने लगी की WWE भेदभाव करती है। कईयों को ऐसा लग सकता है कि वें कनाडा से प्यार करते हैं जबकि वें अमेरिका से नफरत करते थे। उन्होंने अपने एम्ब्लेम में कनाडा का झंडा नहीं बल्कि अमेरिका का उल्टा झंडा लगाया था। 36 US कोड §176 में लिखा हुआ है, "जान और माल को सबसे ज्यादा खतरा होने के अलावा इस झंडे को कभी भी उल्टा नहीं दिखाया जाएगा।" इस स्टेबल की ऐसी हरकत से कई दर्शक आहात हुए थे। इस गिम्मिक की गंभीरता को समझते हुए WWE ने इस स्टेबल को थोड़े समय के बाद बन्द कर दिया। यहाँ पर लैंस, क्रिस्टिन और टेस्ट को भविष्य में कठिनाई हो सकती थी। #4 शॉन माइकल्स और कनाडा का झंडा

michaels-flag-2-1465488695-800

मोंट्रियल स्क्रूजॉब के समय माइकल्स, हार्ट और मैकमैहन के बीच स्टोरीलाइन काफी गरमाई और मामला गर्म हुआ। भले ही सब प्रोफेशनल हो, लेकिन उनके बीच तनाव साफ़ दिखाई दे रहा था। इससे WWE के अधिकारी चिंतित हो गए की मोंट्रियल में असली मैच के समय कहीं उनकी सच्ची भावना सामने न आ जाए, जिससे वें सामनेवाले पर हमला कर दें। माइकल्स को उनकी एंट्री पर काफी बुज़ सुनाई दिए और वें आते हुए कनाडा का झंडा लेकर आएं। उन्होंने उस झंडे से नाम पोंछि और उसे फिर नीचे फेंक दिया। हार्टब्रेक किड ने बताया की उन्हें ऐसा करने के लिए हार्ट ने कहा था, जिससे लोगों का ग़ुस्सा भड़के। झंडे का अपमान करने के बाद ऐसी अफवाहें थी कि माइकल्स पर भड़के हुए प्रसंशक हमला कर सकते हैं। #3 सार्जेंट स्लॉटर और अमेरिकी झंडा sgt_slaughter_bio-1465488255-800 90 के दशक में मिडिल ईस्ट की समस्या गंभीर होते जा रही थी। वहीँ सार्जेंट स्लॉटर को इराक के समर्थन में उतारा गया। उन्होंने दावा किया की अमेरिकी लोग रूस के निकोलाई वोल्कोफ्फ़ को अपनाने में "नरम" दिल के "कमज़ोर लोग हैं। वहीँ इराकी "मजबूत" हैं। WWE इस पर अपनी पूरी ताकत लगा दी। सार्जेंट स्लॉटर अरब के कपड़ों पहनकर रिंग में आने लगे हुसैन के साथ फ़ोटो खिंचवाने लगे। उनके साथ जनरल अदनान भी आएं (जनरल अदनान को सद्दाम हुसैन का साथी और इराकी आर्मी का सदस्य बताया गया) 1991 के रॉयल रम्बल में सार्जेंट स्लॉटर ने अल्टीमेट वारियर को वर्ल्ड रैस्लिंग फेडरेशन चैंपियनशिप के लिए हराया। ऑफ़ स्क्रीन जीत का जश्न मानते हुए उन्होंने अमेरिकी झंडे का अपमान किया। फिर हल्क हॉगन ने उन्हें चुनौती देकर रॉयल रम्बल जीता। ये WWE के सबसे ख़राब प्रोमोशन्स में से एक था। #2 जेरिको और ब्राज़ीलियाई झंडा

youtube-cover

क्रिस जेरिको गिरे हुए और हील के काम में बहुत अच्छे होते हैं। एक टूर के समय जेरिको ने ब्राज़ील के झड़े को लात मारी और बूज हासिल की। उनके इस हरकत की कड़ी आलोचना की गयी है। ब्राज़ील की सरकार इससे इतनी आहत हूँ की उन्होंने जेरिको को गिरफ्तार करने की धमकी दी। फिर ब्राज़ील की सरकार को खुश करने के लिए WWE ने स्टार को 30 दिनों के लिए निलंबित कर दिया। इसलिए उन्हें रैंडी ऑर्टन के खिलाफ उन्हें उनका मैच खेलने नहीं दिया गया। JBL जैसे उनके साथी रैसलर्स ने इस निर्णय को गलत बताया। इतने सब बातों के बाद, क्या जेरिको की हरकत सही थी? #1 कर्ट एंगल और भारतीय झंडा

youtube-cover

कर्ट एंगल के काम का पहला दिन, सन्डे नाईट हीट विवादों से भरा रहा। टाइगर अली सिंह के साथ उनका एक सेगमेंट था, जिसमें उन्होंने भारत के झंडे से अपनी नाम पोंछी। उस समय इस सेगमेंट के बारे में ज्यादा चर्चा नहीं हुई, लेकिन 20 साल बाद जब WWE अंतराष्ट्रीय दौरे पर भारत आई तब ये मामला गरमाया। आदवंशी वीर सेना और कुछ लोक रैसलर्स ने इसका विरोध किया। WWE के अंतराष्ट्रीय अध्यश जरित मायर ने भारतीय दर्शकों से माफ़ी मंगाते हुए कहा: "ये मामला 20 साल पुराना है और हमने इसे जान भुझकर नहीं किया। हम आपके देश का बहुत सम्मान करते हैं। हमे दुःख है की ऐसा हुआ और इसके लिए हम माफ़ी मांगते हैं।" लेखक: nicolelesaux, अनुवादक: सूर्यकांत त्रिपाठी