COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit

क्या आप जानते हैं: WWE वर्ल्ड हैवीवेट टाइटल रन के मामले में रोमन, डीन से कहीं आगे हैं सैथ रॉलिंस

Vijay Sharma
ANALYST
13   //    14 Sep 2018, 16:41 IST

रोमन रेंस, सैथ रॉलिंस, डीन एम्ब्रोज़...द शील्ड के तीनों सुपरस्टार्स ने एक ग्रुप में रहते हुए और सिंगल्स सुपरस्टार्स के रूप में खूब नाम कमाया है। डीन एम्ब्रोज़ को छोड़कर रोमन और सैथ रैसलमेनिया को हैडलाइन करने का गौरव हासिल कर चुके हैं। द बिग डॉग रोमन रेंस तो ये कारनामा लगातार 4 बार कर चुके हैं।

साल 2014 में द शील्ड के ब्रेकअप के बाद तीनों ही सुपरस्टार्स को सिंगल्स पुश मिला। सबसे पहले सैथ रॉलिंस ने WWE वर्ल्ड हैवीवेट चैंपियनशिप को अपने नाम किया। क्या आप जानते हैं कि सैथ रॉलिंस का 1 बार का टाइटल रन, रोमन और डीन के 4 टाइटल रन से कहीं ज्यादा दिनों का है।

सैथ रॉलिंस ने रैसलमेनिया 31 के मेन इवेंट मैच में कैश-इन करके रोमन और ब्रॉक लैसनर के मैच को ट्रिपल थ्रैट बना दिया था। उस मैच में द आर्किटेक्ट की जीत हुई और वो फिर WWE वर्ल्ड हैवीवेट चैंपियन बने। सैथ ने 29 मार्च 2015 से लेकर 4 नवंबर 2015 तक टाइटल अपने पास रखा। चोट की वजह से उन्होंने टाइटल छोड़ना पड़ा और उनका टाइटल रन कुल मिलाकर 219 दिन का रहा। अगर हम रोमन रेंस के 3 टाइटल रन और डीन के 1 टाइटल रन को जोड़ भी लें, तब भी ये आंकड़ा 219 तक नहीं जाता।

रोमन रेंस WWE वर्ल्ड हैवीवेट चैंपियन 3 बार बने हैं। पहली बार सर्वाइवर सीरीज़ 2015 में कुछ मिनटों के लिए, हालांकि उसी दौरान शेमस ने मनी इन द बैंक कैश-इन कर रोमन से टाइटल छीन लिया था। दूसरी बार रोमन चैंपियन 40 दिनों के लिए रहे। वो दिसंबर 14 से लेकर 24 जनवरी तक ही टाइटल अपने पास रख सके, इस टाइटल को उन्होंने रॉयल रम्बल में ट्रिपल एच के हाथों गवाया। रोमन तीसरी बार चैंपियन 3 अप्रैल 2016 को हुई रैसलमेनिया में बने, जहां उन्होंने ट्रिपल एच को हराया। द बिग डॉग ने ये टाइटल 76 दिनों तक अपने पास रखा।

वहीं डीन एम्ब्रोज़ मनी इन द बैंक पीपीवी में ब्रीफकेस जीतकर उसी रात सैथ रॉलिंस के खिलाफ कैश-इन कर दिया था। डीन एम्ब्रोज़ कुल मिलाकर 83 दिनों तक चैंपियन रहे, जिसे वो एजे स्टाइल्स के हाथों हारे। रोमन और डीन के कुल दिनों को मिलाएं तो 199 दिन बनते हैं, जोकि सैथ रॉलिंस के पहले ही टाइटल रन से काफी कम है जबकि सैथ को चोट के कारण टाइटल छोड़ना पड़ा था।

Vijay Sharma
ANALYST
Fetching more content...