Create
Notifications

मंडे नाइट Raw को लगा तगड़ा झटका, व्यूवरशिप में आई भारी गिरावट

सुर्यकांत त्रिपाठी

इस हफ्ते के मंडे नाइट रॉ शो को तगड़ा झटका लगा है। इस हफ्ते रॉ की व्यूवरशिप 2.759 मिलियन रही। ये आंकड़ा पिछले हफ्ते के 2.865 मिलियन से 106,000 कम रहा।

इस हफ्ते शो के पहले घंटे में साशा बैंक्स और बेली का सामना मैंडी रोज और सोन्या डेविल से हुआ तो वहीं "वोकन" मैट हार्डी ने भी अपना इन रिंग वापसी की। वहीं दूसरे घंटे में द मिज़ की वापसी हुई और एंजो अमोरे और सेड्रिक एलेग्जेंडर के बीच क्रूज़रवेट चैंपियनशिप मैच देखने मिली।

शो के आखिरी घंटे में हमे ब्रॉक लैसनर, केन और ब्रॉन स्ट्रोमैन के बीच झगड़ा देखने मिला, तो वहीं मेन इवेंट में जेसन जॉर्डन, सैथ रॉलिंस और रोमन रेन्स को एक साथ बैलर क्लब के खिलाफ लड़ते देखा।

इसे भी पढ़ें: एक बड़े हैंडीकैप मैच के बाद भी स्मैकडाउन को हुआ भारी नुकसान

मंडे नाइट रॉ के तीनों घंटों की विवरशिप रेटिंग:

पहला घंटा: 2.993 मिलियन

दूसरा घंटा: 2.784 मिलियन

तीसरा घंटा: 2.502 मिलियन

पिछले हफ्ते रॉ को रेटिंग के लिए NBA और NCAA से टक्कर थी लेकिन इस हफ्ते जॉर्गीय बुल्स और अल्बामा क्रिमसन टाइड की दोबारा भिड़ंत हुई जिसके कारण रॉ के तीनों घंटों में व्यूवरशिप रेटिंग में गिरावट देखने मिली।

इस हफ्ते NCAA चैंपियनशिप 27 मिलियन व्यूवर रहे तो वहीं उसके तुलना में रॉ तीन मिलियन व्यूवर भी नहीं जुगाड़ सकी। ये लगातार सातवां हफ्ता है जहां रॉ की रेटिंग तीन मिलियन के आंकड़े को छूने में नाकामयाब रही है। पहले घंटे से दूसरे घंटे तक 209,000 दर्शक कम हुए तो वहीं तीसरे घंटे तक ये आंकड़ा गिरकर 282,000 पहुंच गया।

व्यूवरशिप के गिरने की सभी को उम्मीद थी लेकिन अब NFL या NCAA के कोई भी फुटबॉल गेम्स नहीं बचे। वहीं रॉ अब अपने 25 वीं सालगिरह की ओर बढ़ रही है और उसे लेकर व्यूवरशिप में उछाल देखने मिल सकता है।

गोल्डन स्टेट वारियर्स और क्लीवलैंड कैवलियर्स के बीच होने वाला NBA गेम रॉ के थोड़े दर्शकों को अपनी ओर खींच सकता है लेकिन औसतम शो की व्यूवरशिप 3 मिलियन के आस पास होगी। रैसलमेनिया सीजन में रॉ के औसत दर्शक इतने ही होते हैं।

इस हफ्ते हमे रॉ का सबसे अच्छा शो देखने नहीं मिला लेकिन हम उम्मीद करते हैं कि आने वाले समय मे शो की क्वालिटी बेहतर हो और शो को दूसरे खेलों से चुनौती मिलेनी की संभावना कम है।

लेखक: साइमन कॉटन, अनुवादक: सूर्यकांत त्रिपाठी


Edited by Staff Editor

Comments

Fetching more content...