Create
Notifications

दुती चंद ने कहा- अर्जुन अवॉर्ड से मुझे ओलंपिक क्‍वालीफिकेशन मार्क हासिल करने में प्रोत्‍साहन मिलेगा

दुती चंद
दुती चंद
Vivek Goel

टोक्‍यो गेम्‍स के लिए उनका सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन अब तक आया नहीं है, लेकिन भारत की शीर्ष स्प्रिंटर दुती चंद ने कहा कि अर्जुन अवॉर्ड के लिए उनका चयन एकदम सही समय हुआ क्‍योंकि इससे उन्‍हें मुश्किल ओलंपिक क्‍वालीफिकेशन मार्क हासिल करने में प्रोत्‍साहन मिलेगा। 24 साल की दुती चंद को शुक्रवार को 26 अन्‍य लोगों के साथ अर्जुन अवॉर्ड के लिए चुना गया। याद हो कि 2018 एशियाई गेम्‍स की 100 मी और 200 मीटर में दुती चंद ने सिल्‍वर मेडल जीता था। दुती चंद का निजी सर्वश्रेष्‍ठ समय 11.22 सेकंड है, जो पिछले साल उन्‍होंने रिकॉर्ड किया था। दुती चंद ने रियो ओलंपिक के लिए क्‍वालीफाई किया था तब क्‍वालीफाई करने का सामान्‍य समय 11.32 सेकंड था, लेकिन इस बार यह 11.15 सेकंड्स है।

दुती चंद ने भुवनेश्‍वर में पीटीआई से बातचीत में कहा, 'अर्जुन अवॉर्ड एकदम सही समय आ रहा है। एक एथलीट का विश्‍वास तब बढ़ जाता है, जब उसके प्रदर्शन और उपलब्धियों को सरकार द्वारा पहचान मिलती है। इससे मुझे ज्‍यादा ताकत मिलेगी और ओलंपिक्‍स में बेहतर प्रदर्शन करने के लिए मेरे प्रयासों को विश्‍वास मिलेगा। मुझे अगले साल अपने दूसरे ओलंपिक्‍स में क्‍वालीफाई करने की उम्‍मीद है और इसके लिए मैं अपना सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन करूंगी। इस बार मार्क कड़ा है, लेकिन मुझे विश्‍वास है कि इस समय के अंदर क्‍वालीफाई करने में कामयाब होंगी। यह अवॉर्ड मेरे प्रयासों को ताकत देगा।'

दुती चंद को नहीं है ये मलाल

विश्‍व यूनिवर्सिटी गेम्‍स में 100 मीटर की गत चैंपियन दुती चंद ने कहा कि उन्‍हें राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद के हाथों से अर्जुन अवॉर्ड नहीं मिलने का मलाल नहीं है क्‍योंकि कोरोना वायरस महामारी के कारण 29 अगस्‍त को कार्यक्रम ऑनलाइन आयोजित होगा। दुती चंद ने कहा, 'सरकार से कभी भी सम्‍मान या अवॉर्ड मिले, तो उसका स्‍वागत है। राष्‍ट्रपति से सम्‍मान मिलना जरूर विशेष मौका होता, लेकिन यह भी ठीक है। मैं खुश हूं कि अवॉर्ड के लिए मेरा चयन हुआ है। महत्‍वपूर्ण बात यह है कि मेरी उपलब्धियों को सरकार द्वारा पहचान मिली है।'

दुती चंद को पुरजोर ट्रेनिंग का इंतजार

दुती चंद को इंतजार है कि उनकी ट्रेनिंग पहले की तरह जोर-शोर से हो, जो कोरोना वायरस महामारी के कारण वह नहीं कर पा रही हैं। इस समय कलिंगा इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडस्ट्रियल टेक्‍नोलॉजी में ट्रेनिंग कर रही दुती चंद ने कहा, 'मेरे पास इस समय फिजियो और मसाज करने वाला नहीं है। वह महामारी के कारण यहां नहीं आ सके। मेरे कोच एन रमेश व्‍हाट्सऐप वीडियो के जरिये मार्गदर्शन दे रहे हैं। मगर इतना पर्याप्‍त नहीं है। मुझे नहीं लगता कि महामारी के समाप्‍त होने या पाबंदियां हटने तक एथलीट अपनी जोशीली ट्रेनिंग कर पाएगा। मैं चाहती हूं कि अपने पूरे जोश से ट्रेनिंग करूं। मुझे नहीं पता कि ये कब होगा।'


Edited by निशांत द्रविड़

Comments

Fetching more content...