जापान ओपन : विश्व चैंपियन यामागूची ने जीता महिला सिंगल्स खिताब, निशिमोतो पुरुषों में अव्वल

यामागूची इस खिताब को 3 बार जीतने वाली इकलौती जापानी खिलाड़ी हैं।
यामागूची इस खिताब को 3 बार जीतने वाली इकलौती जापानी खिलाड़ी हैं।

विश्व बैडमिंटन चैंपियन जापान की अकाने यामागूची ने अपने ही देश में हो रहे जापान ओपन का महिला सिंगल्स खिताब जीत लिया है। यामागूची ने महिला सिंगल्स के फाइनल में तीसरी सीड दक्षिण कोरिया की आन सी यंग को 21-9, 21-15 से हराया और तीसरी बार यहां जीत दर्ज की। यामागूची जापान की पहली जापानी खिलाड़ी हैं जिन्होंने तीन बार इस खिताब को जीता है। साल 2013 और 2019 में यामागूची यहां चैंपियन रह चुकी हैं।

महिला सिंगल्स के अलावा पुरुष सिंगल्स का टाइटल भी जापान के नाम रहा। केंता निशिमोतो ने फाइनल में चौथी सीड ताइपे के चोउ तिएन चेन को 21-19, 21-23, 21-17 से हराया और पहली बार इस खिताब को जीता। निशिमोतो ने प्रतियोगिता के पहले दौर में भारत के लक्ष्य सेन को हराकर बाहर किया था। विश्व नंबर 21 निशिमोतो का ये इस सीजन का भी पहला टाइटल है। वह इस साल थॉमस कप में ब्रॉन्ज जीतने वाली जापानी टीम के सदस्य भी थे।

प्रतियोगिता के पुरुष डबल्स फाइनल में चीन के लियांग वेई केंग-वांग चैंग की जोड़ी ने सातवीं सीड डेनमार्क के किम एस्ट्रप-एंडर्स रैसमसेन की जोड़ी को 21-18, 13-21, 21-17 से मात दी। महिला डबल्स का फाइनल दोनों दक्षिण कोरियाई जोड़ियों के बीच हुआ। जियोंग ना इयुन-किम ह्ये जियोंग ने हमवतन बाएक हा ना-ली यू लिम की जोड़ी को 23-21, 28-26 के स्कोर से मात दी। वहीं मिक्स्ड डबल्स में दूसरी सीड थाई जोड़ी देचापोल रनुकरोख-सपिसिरी ताइरत्नाचाय ने तीसरी सीड जापान की युता वातनबेई-अरिसा हिगाशिनो को 16-21, 23-21, 21-18 से हराया।

भारत के खिलाड़ियों ने इस बार भी इस टूर्नामेंट में निराश किया। लक्ष्य सेन पहले ही दौर में हारकर बाहर हो गए जबकि श्रीकांत दूसरे दौर में हार गए। एच एस प्रणॉय ने थोड़ी बेहतर कोशिश की और क्वार्टरफाइनल तक पहुंचने में कामयाब रहे। महिला सिंगल्स में साइना नेहवाल भी पहले दौर में हारकर टूर्नामेंट से बाहर हो गईं थीं। डबल्स में भी भारतीय जोड़ियां पहले दौर में ही हार गईं। जापान ओपन के इतिहास में भारत ने किसी भी स्पर्धा का खिताब नहीं जीता है।

App download animated image Get the free App now