2 भारतीय खिलाड़ी जिन्हें इंग्लैंड के खिलाफ टी20 सीरीज के लिए मौका मिलना चाहिए था और 2 जिन्हें नहीं चुना जाना चाहिए था 

इन खिलाड़ियों को भारतीय टीम में मौका मिलना चाहिए था
इन खिलाड़ियों को भारतीय टीम में मौका मिलना चाहिए था

भारतीय टीम (Indian Cricket Team) को 12 मार्च से इंग्लैंड (England Cricket Team) के खिलाफ 5 मैचों की टी20 सीरीज खेलनी है। इससे पहले टी20 सीरीज के लिए भारतीय टीम का ऐलान किया जा चुका है और इस सीरीज के लिए कई चौंकाने वाले खिलाड़ियों के नाम शामिल हैं।

सूर्यकुमार यादव, ईशान किशन, राहुल तेवतिया को पहली बार भारतीय टीम में चुना गया है, तो वरुण चक्रवर्ती, ऋषभ पंत, भुवनेश्वर कुमार जैसे खिलाड़ियों की इस टी20 सीरीज के लिए भारतीय टीम में वापसी भी हुई है। साथ ही में संजू सैमसैन, मनीष। पांडे जैसे खिलाड़ियों को भारतीय टीम से बाहर कर दिया गया है।

हालांकि इस आर्टिकल में हम उन खिलाड़ियों पर नजर डालेंगे जिन्हें इंग्लैंड के खिलाफ टी20 सीरीज मेंजगह मिलनी चाहिए थी और उन प्लेयर्स की जिन्हें नहीं चुना जाना चाहिए था।

भारतीय खिलाड़ी जिन्हें चुना जाना चाहिए था - रविचंद्रन अश्विन

रविचंद्रन अश्विन
रविचंद्रन अश्विन

रविचंद्रन अश्विन मौजूदा समय में भारतीय टीम के सबसे अनुभवी खिलाड़ी हैं, लेकिन वो पिछले कुछ सालों से सिर्फ टेस्ट क्रिकेट में ही खेल रहे हैं और उन्होंने अपना आखिरी टी20 मुकाबला वेस्टइंडीज के खिलाफ जुलाई 2017 में खेला था। हालांकि मौजूदा समय में अश्विन का प्रदर्शन हर फॉर्मेट में काफी जबरदस्त रहा है और निश्चित ही उनकी वापसी होनी चाहिए थी।

IPL 2020 में रविचंद्रन अश्विन ने 15 मुकाबलों में 7.66 की इकॉनमी रेट से 13 विकेट चटकाए थे। इसके अलावा अहमदाबाद में जिस तरह के विकेट मिल सकते हैं, वो अश्विन को काफी मदद दे सकते हैं और निश्चित ही वो भारत के लिए अहम खिलाड़ी साबित हो सकते हैं। रविचंद्रन अश्विन लगातार साबित कर रहे हैं कि वो सीमित ओवरों की क्रिकेट में अच्छा कर सकते हैं और उनका नहीं चुना जाना काफी निराशाजनक रहा।

#) भारतीय टीम में नहीं चुना जाना चाहिए था - वरुण चक्रवर्ती

फोटो: IPL
फोटो: IPL

इस बात में कोई शक नहीं है कि वरुण चक्रवर्ती काफी ज्यादा प्रतिभाशाली गेंदबाज हैं और IPL 2020 में उन्होंने बेहतरीन प्रदर्शन करके दिखाया था। इसी प्रदर्शन के दम पर वरुण चक्रवर्ती को ऑस्ट्रेलिया दौरे पर भी टीम में शामिल किया गया था, लेकिन अनफिट होने के कारण उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया था।

गौर करने वाली बात यह है कि वरुण चक्रवर्ती ने अपना आखिरी मुकाबला IPL 2020 में ही खेला था, जिसके बाद से वो एक्शन में नजर नहीं आए हैं। यहां तक कि पिछले महीने हुए सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में भी वो खेलते हुए नजर नहीं आए। इसी वजह से बिना कोई मुकाबला खेले इस प्रकार से टीम में शामिल करने का फैसला जोकि काफी हैरान करने वाला फैसला रहा।

भारतीय टीम में शामिल किया जाना चाहिए था: एन जगदीशन

एन जगदीशन
एन जगदीशन

तमिलनाडु के ओपनिंग बल्लेबाज एन जगदीशन की हालिया फॉर्म काफी ज्यादा जबरदस्त रही है। हाल ही में खत्म हुए सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में भी उन्होंने तमिलनाडु की खिताबी जीत में अहम भूमिका निभाई थी और साथ ही में खेलते हुए 4 अर्धशतकीय पारी खेली थी। इसके अलावा विजय हजारे ट्रॉफी के पहले मुकाबले में शानदार शतक जड़ते हुए भारतीय टीम को अहम जीत दिलाई थी।

जगदीशन की फॉर्म को देखते हुए वो भारतीय टीम में आना डिजर्व करते हैं और टीम के साथ रहने से उन्हें अच्छा अनुभव भी मिलेगा और साथ ही में उनके खेल में इससे निखार भी आएगा। हालांकि अगर वो ऐसे ही प्रदर्शन जारी रखते हैं, तो जल्द ही उन्हें टीम में मौका मिल सकता है।

भारतीय टीम में जगह नहीं मिलनी चाहिए थी - शिखर धवन

शिखर धवन
शिखर धवन

शिखर धवन एक अनुभवी खिलाड़ी हैं और उन्होंने भारतीय टीम को कई यादगार जीत दिलाई हैं। हालांकि भारत की मौजूदा टी20 टीम पर नजर डालें तो टीम के सर्वश्रेष्ठ तीन बल्लेबाज रोहित शर्मा, केएल राहुल और विराट कोहली हैं। राहुल और रोहित भारत के लिए टी20 में भारत के सबसे बेस्ट ओपनर हैं।

इसी वजह से शिखर धवन को टीम से बाहर रखा जा सकता था और उनकी जगह किसी युवा खिलाड़ी को टीम में शामिल किया जा सकता था। इससे उस युवा खिलाड़ी को भी फायदा होता और उन्हें काफी कुछ सीखने को मिलता। धवन जैसे खिलाड़ी को प्लेइंग इलेवन से बाहर बिठाना एक मुश्किल होगा, लेकिन मौजूदा समय में बतौर ओपनर उनसे बेहतर विकल्प भारत के पास हैं। इसी वजह से धवन को इंग्लैंड के खिलाफ टी20 सीरीज में शामिल नहीं किया जाना चाहिए था।

Quick Links

Edited by मयंक मेहता