Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

3 कैच जिनकी वजह से भारतीय क्रिकेट की तस्वीर बदल गई

भारतीय खिलाड़ियों द्वारा लिए गए इन कैच को भूलना काफी मुश्किल है
भारतीय खिलाड़ियों द्वारा लिए गए इन कैच को भूलना काफी मुश्किल है
EXPERT COLUMNIST
Modified 30 Jun 2020, 16:53 IST
टॉप 5 / टॉप 10
Advertisement

क्रिकेट में हमेशा ही कहा जाता है कि "Catches Win Matches"। समय के साथ साथ, यह बात हमेशा साबित भी होती रही कि फील्डिंग किसी भी मैच में कितनी अहम भूमिका निभाती है। स्टीव वॉ की वो बात कौन भूल सकता है, जब उन्होंने कहा, "तुमने कैच नहीं, बल्कि मेट वर्ल्ड कप को अपने हाथ से छोड़ दिया है।" यह बात उन्होंने तब कही, जब हर्षल गिब्स ने मिड-विकेट पर एक आसान कैच ड्रॉप कर दिया।

वो मैच 1999 वर्ल्ड कप के सुपर सिक्स का आखिरी मैच था और ऑस्ट्रेलिया 272 रनों का पीछा कर रही थी। उस वक़्त स्टीव वॉ 56 रन बनाकर खेल रहे थे, तभी उन्हें गिब्स ने जीवनदान दिया। उसके बाद ऑस्ट्रेलिया ने ना सिर्फ वो मैच जीता, बल्कि उन्होंने टूर्नामेंट भी अपने नाम किया।

यह भी पढ़ें: युवराज सिंह ने आज ही के दिन अपने अंतर्राष्ट्रीय करियर की आखिरी पारी खेली थी

इस बात में तो कोई शक नहीं हैं कि फील्डिंग इस गेम का एक जरूरी अंग बन चुका है। सुरेश रैना, रविंद्र जडेजा, मनीष पांडे, विराट कोहली, हार्दिक पांड्या यह सब मौजूदा दौर में भारत के सर्वश्रेष्ठ फील्डर हैं।

हालांकि भारतीय फील्डर्स द्वारा पकड़े गए ऐसे कुछ लाजवाब कैच हैं, जिसने भारत की क्रिकेट को बदलकर रख दिया।

इस लिस्ट में हम भारतीय खिलाड़ी द्वारा लिए गए ऐसे ही कैच पर नजर डालेंगे:

#) श्रीसंत vs पाकिस्तान (2007)

श्रीसंत ने पकड़ा था 2007 टी20 वर्ल्ड कप का सबसे महत्वपूर्ण कैच पकड़ा था
श्रीसंत ने पकड़ा था 2007 टी20 वर्ल्ड कप का सबसे महत्वपूर्ण कैच पकड़ा था

2007 टी20 वर्ल्ड कप के फाइनल में भारत और पाकिस्तान का मुकाबला जोहन्सबर्ग में हुआ। पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत ने गौतम गंभीर के 54 गेंदो पर 75 रनों की बदौलत 157 रनों का स्कोर खड़ा किया। उसके जवाब में पाकिस्तान ने मोहम्मद हफीज़ और कामरान अकमल का विकेट जल्दी गंवा दिया था, लेकिन उसके बाद टीम ने अपनी पारी संभाली और लक्ष्य की तरफ आगे बड़े और एक समय तो ऐसा लग रहा था कि मिस्बाह उल हक़ पाकिस्तान को यह फ़ाइनल जिता देंगे।

आखिरी ओवर में पाकिस्तान को जीत के लिए 13 रनों की दरकार थी। हालांकि पाकिस्तान के पास सिर्फ एक विकेट हाथ में था। पहली गेंद वाइड डालने के बाद, जोगिंदर शर्मा ने मिस्बाह को अगली गेंद पर बीट करा दिया, ओवर की दूसरी गेंद पर मिस्बाह ने लॉन्ग ऑफ के ऊपर सीधा छक्का मार दिया। आखिरी तीन गेंदों पर पाकिस्तान को जीतने के लिए चाहिए थे 6 रन, मिस्बाह ने अगली गेंद पर स्कूप शॉट खेला और गेंद डीप फ़ाइन लेग पर गई और वहाँ खड़े श्रीसंत ने कैच को पकड़ लिया। उस कैच की वजह से भारत 2007 का टी-20 विश्व कप अपने नाम कर पाया।

यह भी पढ़ें: युवराज सिंह की 3 ऐसी पारियां जिन्हें फैंस कभी नहीं भूल सकते

1 / 3 NEXT
Published 30 Jun 2020, 16:53 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit