Create
Notifications

IPL 2020: सनराइजर्स हैदराबाद की हार के 3 कारण

KKRvsSRH
KKRvsSRH
Naveen Sharma

सनराइजर्स हैदराबाद की टीम ने आईपीएल में लगातर दूसरा मैच भी गंवा दिया। कोलकाता नाइटराइडर्स के खिलाफ सनराइजर्स हैदराबाद की टीम कहीं भी मुकाबले में नहीं दिखी। इस बार पिछले मैच की तुलना में सनराइजर्स हैदराबाद की टीम ज्यादा सुदृढ़ नजर आ रही थी लेकिन उन्हें जीत नसीब नहीं हुई। डेविड वॉर्नर के ऊपर भी इस मैच में हार के बाद दबाव बढ़ेगा। सनराइजर्स हैदराबाद में इस बार भी केन विलियमसन को नहीं खिलाया गया। पिछले मैच में भी यही गलती डेविड वॉर्नर ने की थी।

कोलकाता नाइटराइडर्स को सनराइजर्स हैदराबाद से मिले 143 रन के मामूली लक्ष्य को हासिल करने में कोई मुश्किल नहीं हुई। उन्होंने इसे तीन विकेट खोकर ही हासिल कर लिया। केकेआर के बल्लेबाजों को ज्यादा तूफानी बल्लेबाजी करने की जरूरत नहीं पड़ी और उन्होंने आराम से लक्ष्य हासिल कर लिया। हैदराबाद के लिए इस मैच से सीखने के अलावा कुछ नहीं था। अगले मैच में उन्हें और ज्यादा बेहतर रणनीति के साथ मैदान पर उतरने की जरूरत होगी। इस आर्टिकल में सनराइजर्स हैदराबाद की हार के तीन कारणों के बारे में बताया गया है।

यह भी पढ़ें: आईपीएल 2020: अंतिम 2 ओवर में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज

केकेआर के खिलाफ सनराइजर्स हैदराबाद की हार के कारण

धीमी बल्लेबाजी

धीमी बल्लेबाजी
धीमी बल्लेबाजी

सनराइजर्स हैदराबाद के बल्लेबाजों ने अपेक्षाकृत धीमी बल्लेबाजी की। डेविड वॉर्नर ने अपनी स्वाभाविक स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी नहीं की। रिद्धिमान साहा को तेज बल्लेबाजी करने के लिए भेजा गया था लेकिन उनका स्ट्राइक रेट 30 गेंद खेलने के बाद भी 100 से कम रहा। इससे हैदराबाद के कुल स्कोर में प्रभाव दिखा और वे 150 के पार भी नहीं जा पाए। यहाँ से केकेआर को हराना आसान नहीं था।

दिनेश कार्तिक की बेहतरीन कप्तानी

KKR
KKR

दिनेश कार्तिक ने सनराइजर्स हैदराबाद की रणनीति पर पानी फेरने का काम करते हुए सुझबुझ से गेंदबाजों को बदला। उन्होंने कुल 7 गेंदबाजों से गेंदबाजी कराई और विपक्षी टीम के बल्लेबाजों को सिर्फ सोचने के अलावा कुछ करने नहीं दिया। गेंदबाज बार-बार बदलने से हैदराबाद के बल्लेबाज टिकने का प्रयास ही करते रहे।

शुभमन गिल की धाकड़ पारी

शुभमन गिल
शुभमन गिल

सुनील नारेन ओपन के लिए आए और जीरो रन पर आउट होकर चले गए। ऐसे समय में शुभमन गिल ने एक छोर पकड़ा और अन्य बल्लेबाजों से भी उन्हें साथ मिला। वह अपना अर्धशतक पूरा करने के बाद भी क्रीज पर टिके रहे और टीम को जीत दिलाकर ही लौटे। उनकी नाबाद 70 रन की पारी ने सनराइजर्स हैदराबाद की राह में रोड़े अटकाने का काम किया।

Edited by Naveen Sharma

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...