Create
Notifications

5 बल्लेबाज जिन्होंने कप्तान के रूप में वनडे में सर्वाधिक स्कोर बनाया 

सनथ जयसूर्या और वीरेंदर सहवाग
सनथ जयसूर्या और वीरेंदर सहवाग
ANALYST

क्रिकेट के खेल में कप्तानी का कार्य किसी भी खिलाड़ी के लिए आसान नहीं होता है। टीम की जीत पर भले ही कप्तान को ज्यादा श्रेय ना मिले लेकिन जब टीम हारती है तो सारा दोष कप्तान पर ही आता है। ऐसे में कप्तान के लिए यह कार्य बहुत ही चुनौतीपूर्ण होता है। बात जब सीमित ओवरों में कप्तानी करने की हो तो यह काम और भी मुश्किल हो जाता है क्योंकि आपको कई बार अचानक से कुछ ऐसे फैसले लेने पड़ते हैं जो आप पहले से योजना में नहीं शामिल करते।

यह भी पढ़ें : 3 खिलाड़ी जो श्रीलंका के खिलाफ भारतीय टीम के लिए डेब्यू कर सकते हैं

जब कोई बल्लेबाज वनडे में कप्तानी करता है तो उसके सामने सबसे बड़ी चुनौती होती है कि वह खुद अच्छा प्रदर्शन करके अपनी टीम के लिए एक उदाहरण पेश करे। ऐसे में कुछ कप्तान इस कार्य में सफल होते हैं, वहीं कुछ भी असफल भी होते हैं। हमने कई बार देखा कि कप्तानों ने वनडे मैच की एक पारी में जबरदस्त बल्लेबाजी करते हुए सर्वाधिक रन बनाए और अपनी टीम के लिए उपयोगी योगदान दिया। इस आर्टिकल में हम ऐसे 5 बल्लेबाजों की बात करने जा रहे हैं, जिन्होंने कप्तान के तौर पर वनडे मैच की एक पारी में सर्वाधिक स्कोर बनाया।

5 बल्लेबाज जिन्होंने कप्तान के रूप में वनडे में सर्वाधिक स्कोर बनाया

#5 सर विवियन रिचर्ड्स (181) बनाम श्रीलंका, 1987

सर विवियन रिचर्ड्स
सर विवियन रिचर्ड्स

1987 में रिलायंस विश्व कप के दौरान विव रिचर्ड्स बतौर कप्तान एक बेहतरीन पारी खेली थी। श्रीलंका की टीम ने टॉस जीतकर पहले फील्डिंग करने का निर्णय किया था और उनका यह निर्णय सही होता हुआ नजर आया, जब वेस्टइंडीज ने 45 के स्कोर पर अपने दो विकेट खो दिए। हालांकि इसके बाद टीम के कप्तान रिचर्ड्स ने ताबड़तोड़ अंदाज में बल्लेबाज की और महज 125 गेंदों में 181 रन जड़ दिए। अपनी इस पारी में उन्होंने 16 चौके और सात छक्के लगाए।

#4 सचिन तेंदुलकर (186*) बनाम न्यूजीलैंड, 1999

सचिन तेंदुलकर
सचिन तेंदुलकर

1999 में न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज के पहले मैच में भारत को हार का सामना करना पड़ा था और इसी वजह से भारतीय टीम पर दूसरे वनडे को जीकर वापसी करने का दवाब था। टीम के कप्तान सचिन तेंदुलकर ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का निर्णय लिया। भारत की शुरुआत खराब रही और गांगुली 4 रन बनाकर रन आउट हो गए। हालांकि यहां से कप्तान तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ (153) ने जबरदस्त बल्लेबाजी की और 331 रन की साझेदारी की। तेंदुलकर अंत तक नाबाद रहे और 150 गेंदों में 20 चौके और तीन छक्के की मदद से नाबाद 186 रन बनाये।

1 / 2 NEXT
Edited by Prashant Kumar
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now