Create

'2017 चैम्पियंस ट्रॉफ़ी में इंग्लैंड में रेड अलर्ट था, हम फिर भी खेले थे' 

मोहम्मद हफीज ने न्यूजीलैंड के निर्णय को गलत बताया
मोहम्मद हफीज ने न्यूजीलैंड के निर्णय को गलत बताया

न्यूजीलैंड (New Zealand) के बाद इंग्लैंड (England) द्वारा पाकिस्तान दौरा रद्द करने के बाद कई बयान अब भी आ रहे हैं। इस बीच पाकिस्तान के क्रिकेटर मोहम्मद हफीज (Mohammad Hafeez) ने एक बड़ी बात कही है। हफीज ने कहा है कि 2017 चैम्पियंस ट्रॉफी के समय इंग्लैंड रेड अलर्ट पर था लेकिन इसके बाद भी हम वहां जाकर टूर्नामेंट खेले थे।

ARY न्युजे से बातचीत में हफीज ने कहा कि मैं यह नहीं कहूँगा कि न्यूजीलैंड ने बिना किसी कारण के सीरीज रद्द कर दी। मैं ऐसे दौरों पर गया हूँ जहाँ हमने कई चुनौतियों का सामना किया। उन चुनौतियों का सामना करते हुए हमने दौरों को पूरा किया। आप किसी टीम को कहो कि 14 दिन क्वारंटीन में रहने के बाद खेलो। हमने वह भी किया है। हम इस गेम से प्यार करते हैं और इसे जारी रखना चाहते हैं।

मोहम्मद हफीज का पूरा बयान

हफीज ने आगे कहा कि हमने हमेशा बड़ा दिल दिखाया है लेकिन न्यूजीलैंड का यह फैसला पाकिस्तान के प्रशंसक और हम सभी के लिए बहुत दर्दनाक था। चैंपियंस ट्रॉफी 2017 खेलते समय इंग्लैंड में रेड अलर्ट था, इसलिए मुद्दा यह है कि हम बहुत कुछ करते हैं लेकिन हम खेल जारी रखते हैं। न्यूजीलैंड ने पाकिस्तान की खुफिया रिपोर्टों पर भरोसा नहीं किया और दौरा रद्द कर दिया, बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है।

England v Pakistan - 3rd Vitality International Twenty20
England v Pakistan - 3rd Vitality International Twenty20

गौरतलब है कि न्यूजीलैंड सरकार ने सुरक्षा खतरे को देखते हुए पाकिस्तान दौरा रद्द कर तुरंत अपने देश के लिए उड़ान भरने का आदेश टीम को दिया था। इसके बाद पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने उन्हें रोकने के तमाम प्रयास किये लेकिन कीवी टीम नहीं मानी और दुबई चली गई। वहां से वे अपने देश गए। कीवी टीम ऑकलैंड में अब क्वारंटीन कर रही है।

उधर पाकिस्तान सरकार के एक मंत्री ने इस मामले में भी भारत का हाथ बता दिया। उनका कहना है कि भारत ने गलत ई-मेल न्यूजीलैंड को भेजे जिसमें सुरक्षा में खतरे का जिक्र किया गया था और इससे न्यूजीलैंड सरकार ने अपना फैसला लिया। पाकिस्तान सरकार के मंत्री कुछ मीडिया हाउस न्यूजीलैंड के फैसले के पीछे भारत का हाथ बता रहे हैं।

Quick Links

Edited by निरंजन
Be the first one to comment