Create

भारत की बाएं हाथ के खिलाड़ियों की ऑलटाइम वनडे इलेवन

भारतीय टीम के सर्वश्रेष्ठ भारतीय बाएं हाथ के खिलाड़ी
भारतीय टीम के सर्वश्रेष्ठ भारतीय बाएं हाथ के खिलाड़ी

1983 और 2011 वर्ल्ड कप विजेता भारतीय टीम (Indian Team) में हमेशा से ही कई शानदार खिलाड़ी रहे हैं, जिन्होंने अलग-अलग दौर में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए भारत को कई यादगार जीत दिलाई है। क्रिकेट में हमेशा ही बाएं हाथ के बल्लेबाजों को बल्लेबाजी करते देखने में काफी मजा आता है।

ब्रायन लारा, मैथ्यू हेडन, सनथ जयसूर्या, क्रिस गेल, एडम गिलक्रिक्रिस्ट, कुमार संगाकारा समेत ऐसे ही और भी शानदार बाएं हाथ के बल्लेबाज रहे हैं, जिन्होंने क्रिकेट को और भी ज्यादा रोमांचक बनाया है। सिर्फ बल्लेबाज ही नहीं, बल्कि बाएं हाथ के गेंदबाज भी काफी कारगार होते हैं।

यह भी पढ़ें: 5 भारतीय खिलाड़ी जिन्होंने टी20 वर्ल्ड कप में सबसे ज्यादा छक्के लगाए हैं

भारतीय टीम में भी कई शानदार बाएं हाथ के खिलाड़ी रहे हैं और इस आर्टिकल में भारत की ऑलटाइम बेस्ट बाएं हाथ की वनडे इलेवन पर नजर डालेंगे:

नोट: इस लिस्ट में शामिल सभी खिलाड़ी 2000 के बाद भी क्रिकेट में एक्टिव रहे हैं)

सौरव गांगुली (कप्तान)

सौरव गांगुली
सौरव गांगुली

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली निश्चित ही इस टीम के मुख्य मेंबर रहने वाले हैं और वो बाएं हाथ के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक भी हैं। सौरव गांगुली ने अपने वनडे करियर में 311 मैचों में 40.73 की औसत और 73.71 के स्ट्राइक रेट से 11,363 रन बनाए हैं। इस बीच उन्होंने 22 शतक और 72 अर्धशतक भी लगाए हैं।

सौरव गांगुली का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 183 रन है और दादा ने गेंद के साथ 5.06 की इकॉनमी रेट से 100 विकेट भी चटकाए हैं। सौरव गांगुली इस टीम के कप्तान भी होंगे।

#) शिखर धवन

शिखर धवन
शिखर धवन

भारतीय टीम के मौजूदा सलामी बल्लेबाज शिखर धवन 2013 से ही भारतीय टीम के नियमित सदस्य हैं और खासकर आईसीसी टूर्नामेंट में उनका रिकॉर्ड काफी शानदार रहा है। 2013 चैंपियंस ट्रॉफी में वो प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट भी रहे थे।

शिखर धवन ने अपने वनडे करियर में अभी तक 142 मुकाबले खेले हैं, जिसमें उन्होंने 45.28 की औसत और 93.09 के स्ट्राइक रेट से 5977 रन बनाए हैं। इस बीच उन्होंने 17 शतक और 32 अर्धशतक भी लगाए हैं। धवन का सर्वाधिक स्कोर 143 रन है।

#) गौतम गंभीर

गौतम गंभीर
गौतम गंभीर

2011 वर्ल्ड कप के फाइनल में 97 रनों की बेहतरीन और महत्वपूर्ण पारी खेलने वाले गौतम गंभीर ने अपने पूरे करियर में भारत को अपने दम पर कई मैच जिताए हैं। गंभीर न सिर्फ एक छोर पर खड़े रहकर पारी को संभाल सकते हैं और साथ ही में जरूरत पड़ने पर वो बड़े शॉट लगाने में भी सक्षम हैं।

गौतम गंभीर ने अपने वनडे करियर में 147 मुकाबलों में 39.68 की औसत और 85.25 के स्ट्राइक रेट से 5238 रन बनाए हैं। उन्होंने 11 शतक और 34 अर्धशतक भी लगाए हैं। इस बीच उनका सर्वाधिक स्कोर 150 रन हैं।

#) युवराज सिंह

युवराज सिंह
युवराज सिंह

भारतीय टीम के सफल ऑलराउंडर और 2011 वर्ल्ड कप के प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट युवराज सिंह न सिर्फ इस इलेवन, बल्कि वो किसी भी वनडे इलेवन में उनकी जगह बनेगी ही। युवी इकलौते ऐसे खिलाड़ी हैं, जोकि अंडर 19, चैंपियंस ट्रॉफी, टी20 वर्ल्ड कप, वर्ल्ड कप, आईपीएल, टी20 ट्रॉफी सब कुछ जीते हैं। इसके अलावा भारतीय टीम में उनके योगदान शायद ही भूला जा सकता है।

युवराज सिंह ने अपने वनडे करियर 304 मुकाबले में 14 शतक और 52 अर्धशतक की मदद से 8701 एक रन बनाए हैं। युवी ने यह रन 36.56 की औसत और 87.68 के स्ट्राइक रेट से बनाए हैं। इस बीच उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 150 रन है। गेंद के साथ युवी ने 111 विकेट भी चटकाए हैं।

#) सुरेश रैना

सुरेश रैना
सुरेश रैना

सुरेश रैना मुध्य क्रम के शानदार बल्लेबाजों में से एक हैं और साथ ही में वो एक बेहतरीन फील्डर भी हैं। सुरेश रैना ने अपने वनडे करियर में 226 मुकाबले खेले, जिसमें 35.31 की औसत और 93.51 के स्ट्राइक रेट से 5615 रन बनाए हैं। इस बीच रैना ने 5 शतक और 36 अर्धशतक भी लगाए हैं। रैना का सर्वाधिक स्कोर 116 रन है।

#) पार्थिव पटेल (विकेटकीपर)

पार्थिव पटे
पार्थिव पटेल

महेंद्र सिंह धोनी के रहते भारतीय टीम में दूसरे विकेटकीपर बल्लेबाजों को ज्यादा मौके नहीं मिले, लेकिन फिर भी पार्थिव पटेल शानदार विकेटीकपर बल्लेबाजों में से एक हैं। भारत के लिए खेलते हुए पटेल ने 38 मुकाबलों की 34 पारियों में 23.74 की औसत और 76.51 के स्ट्राइक रेट से 736 रन बनाए। उनका सर्वाधिक स्कोर 95 रन है।

आपको बता दें कि भारत की तरफ से अभी तक सिर्फ वनडे में दो ही बाएं हाथ के विकेटकीपर बल्लेबाज रहे हैं। एक पार्थिव पटेल और दूसरे ऋषभ पंत।

#) रविंद्र जडेजा

रविंद्र जडेजा
रविंद्र जडेजा

भारतीय टीम के ही नहीं बल्कि विश्व के सर्वश्रेष्ठ फील्डर की बात की जाएगी, तो इसमें सबसे ऊपर रविंद्र जडेजा का नाम जरूर आएगा। सिर्फ फील्डिंग ही नहीं बल्कि गेंद और बल्ले के साथ भी रविंद्र जडेजा का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा है। जडेजा ने अपने वनडे करियर में अभी तक 168 मुकाबले खेले हैं, जिसमें 32.58 की औसत और 87.07 के स्ट्राइक रेट से 2411 रन बनाए हैं। उन्होंने 13 अर्धशतक भी लगाए हैं।

गेंद के साथ उन्होंने 4.93 की इकॉनमी और 37.36 के औसत से 188 विकेट लिए हैं। उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 36 रन देकर 5 विकेट लेना रहा है।

#) इरफान पठान

इरफान पठान
इरफान पठान

चोट ने अगर उनका करियर प्रभावित नहीं किया होता, तो इरफान पठान भारतीय टीम के ही नहीं बल्कि विश्व के सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंडर में से एक होते। इसके बावजूद भारत के लिए खेलते हुए इस बाएं हाथ के बल्लेबाज और तेज गेंदबाज ने शानदार प्रदर्शन किया है।

इरफान पठान ने 120 मुकाबलों में 1544 रन बनाए हैं, जिसमें उनका सर्वाधिक स्कोर 83 रन रहा और गेंद के साथ उन्होंने 5.27 की इकॉनमी रेट से 173 विकेट चटकाए हैं। इरफान पठान अपने वनडे करियर के आखिरी मैच में मैन ऑफ द मैच भी रहे थे।

#) जहीर खान

जहीर खान
जहीर खान

जहीर खान भारत के ही नहीं बल्कि विश्व के सर्वश्रेष्ठ बाएं हाथ के तेज गेंदबाज में से एक थे। जहीर ने भारत को 2011 वर्ल्ड कप जिताने में अहम भूमिका निभाई थी। इसके अलावा वो 2003, 2007 और 2011 वर्ल्ड कप में भारत की तरफ से सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज भी रहे हैं। जहीर खान ने 200 वनडे मुकाबलों में 4.93 की इकॉनमी और 29.44 की औसत से 282 विकेट लिए हैं। उनका बेस्ट प्रदर्शन 42 रन देकर 5 विकेट लेना रहा है।

#) आशीष नेहरा

आ
आशीष नेहरा

इरफान पठान की तरह आशीष नेहरा का करियर भी चोट के कारण ज्यादा लंबा नहीं रहा, लेकिन उन्होंने भारत के लिए हमेशा अच्छा किया और 2011 वर्ल्ड कप विजेता टीम के हिस्सा भी थे। नेहरा ने पाकिस्तान के खिलाफ सेमीफाइनल में शानदार स्पेल भी डाला था। नेहरा ने भारत के लिए 120 मैच खेले, जिसमें 5.2 की इकॉनमी और 31.73 की औसत से 157 विकेट चटकाए। उनका बेस्ट प्रदर्शन 23 रन देकर 6 विकेट लेना रहा।

#) आरपी सिंह

भारतीय टीम में एक समय आरपी सिंह सर्वश्रेष्ठ बाएं हाथ के तेज गेंदबाज रहे हैं। वो गेंद को दाएं हाथ के बल्लेबाज के लिए अंदर लाने में सक्षम थे और इसी वजह से वो सफल भी रहे हैं। भारत के लिए खेलते हुए आरपी सिंह ने 58 मुकाबलों में 5.48 की इकॉनमी रेट से 69 विकेट लिए हैं।

Quick Links

Edited by निशांत द्रविड़
Be the first one to comment