Create

IPL 2021- 'मैं सबसे ज्यादा प्रतिभाशाली खिलाड़ी नहीं हूं, लेकिन मानसिक ताकत मेरे अंदर है'

रियान पराग को आईपीएल 2021 के दूसरे चरण में दमदार प्रदर्शन की उम्‍मीद
रियान पराग को आईपीएल 2021 के दूसरे चरण में दमदार प्रदर्शन की उम्‍मीद

राजस्‍थान रॉयल्‍स (Rajasthan Royals) के ऑलराउंडर रियान पराग (Riyan Parag) आईपीएल 2021 (IPL 2021) के दूसरे चरण की तैयारियों में जुटे हुए हैं। राजस्‍थान रॉयल्‍स की टीम मंगलवार को पंजाब किंग्‍स (Punjab Kings) के खिलाफ आईपीएल 2021 के दूसरे चरण में अपने अभियान की शुरूआत करेगी।

ध्‍यान हो कि 2019 सीजन में रियान पराग आईपीएल में अर्धशतक जमाने वाले सबसे युवा क्रिकेटर बने थे। इसके बाद से रियान अपनी क्षमता के मुताबिक बड़ी पारी नहीं खेल सके हैं।

हालांकि, अहम समय पर पराग ने कई उम्‍दा पारियां खेलकर अपनी प्रतिभा और शैली का प्रदर्शन किया। रियान पराग को पता है कि शीर्ष स्‍तर क्रिकेट पर सफलता पाने के लिए उन्‍हें क्‍या करने की जरूरत है।

रियान पराग को लगता है कि प्रदर्शन करना या नहीं करना सब दिमाग की बात है क्‍योंकि कोई खेल के सर्वश्रेठ स्‍तर पर इसलिए पहुंचता है क्‍योंकि उसमें शैली होती है। आईपीएल में समय बिताने के बाद रियान पराग का मानना है कि मौजूदा सीजन उनके लिए महत्‍वपूर्ण हैं, जिसमें उन्‍हें बेहतर प्रदर्शन की उम्‍मीद है।

खलीज टाइम्‍स से बातचीत करते हुए रियान पराग ने कहा, 'मुझे पता है कि मैं सबसे ज्‍यादा प्रतिभाशाली लड़का नहीं हूं। मुझे पता है कि मैं सबसे स्‍टाइलिश बल्‍लेबाज नहीं हूं। मगर मुझे लगता है कि मेरे अंदर मानसिक ताकत है। मेरे ख्‍याल से यह मायने रखता है। यह खेल मानसिक ताकत के बारे में सबकुछ है।'

उन्‍होंने आगे कहा, 'इसमें 75 प्रतिशत मानसिक और 25 प्रतिशत शैली है। मेरे लिए, यह सिर्फ भारत के लिए खेलना और भारत के लिए मैच जीतना व उस स्‍तर पर लंबे समय तक टिके रहने के बारे में यह है। इसलिए मुझे लगता है कि यह आईपीएल सीजन मेरे लिए काफी बड़ा सीजन है।'

रियान पराग को बल्‍लेबाजी में प्रमोट होने की उम्‍मीद

रियान पराग ने डेब्‍यू के बाद से अधिकांश नंबर-6 पर बल्‍लेबाजी की है। टी20 प्रारूप में यह बल्‍लेबाजी के लिए कठिन क्रम है क्‍योंकि स्थिति के हिसाब से बल्‍लेबाज को अपना खेल बदलना होता है। पराग को लगता है कि उनमें नंबर-6 पर बल्‍लेबाजी करने की ताकत है।

पराग ने कहा, 'यह बहुत चुनौतीपूर्ण है। नंबर-6 पर बल्‍लेबाजी करना सबसे मुश्किल काम है। मुझे चुनौतियां पसंद है। नंबर-6 पर आकर आमतौर पर दो स्थितियां देखने को मिलती है। यह तो हमारी स्थिति खराब होती है या फिर कुछ ही ओवर बचते हैं।'

असम के क्रिकेटर ने आगे कहा, 'अगर ओवर कम है तो पहली ही गेंद से प्रहार करने के लिए तैयार होना होता है। तो मेरे ख्‍याल से यह बल्‍लेबाजी के लिए बहुत मुश्किल क्रम है। मैंने करीब डेढ़ साल आईपीएल में इस पोजीशन पर बल्‍लेबाजी की। अब मुझे पता है कि क्‍या करना है और मेरी ताकत क्‍या है। मुझे पता है मेरी ताकत क्‍या है और खेल की अलग स्थितियों में मुझे कैसे खेलना है। उम्‍मीद है कि इस बार मुझे प्रमोट करके पहले बल्‍लेबाजी करने के लिए भेजा जाए।'

Quick Links

Edited by Vivek Goel
Be the first one to comment