Create

आकाश चोपड़ा ने WTC Final को लेकर आईसीसी पर जमकर निकाली भड़ास

भारत और न्‍यूजीलैंड
भारत और न्‍यूजीलैंड

पूर्व भारतीय ओपनर आकाश चोपड़ा ने विश्‍व टेस्‍ट चैंपियनशिप फाइनल के प्रारूप की आलोचना की है, जो साउथैम्‍प्‍टन में शुक्रवार से भारत और न्‍यूजीलैंड के बीच शुरू होगा। चोपड़ा के मुताबिक दो साल लंबे टूर्नामेंट के विजेता का फैसला एक टेस्‍ट के आधार पर करना नाइंसाफी है।

इससे पहले टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्‍त्री ने भी डब्‍ल्‍यूटीसी फाइनल को बेस्‍ट ऑफ थ्री कराने की सलाह दी थी। हालांकि, आईसीसी ने जवाब दिया था कि यह वास्तिवक विकल्‍प नहीं क्‍योंकि क्रिकेट कैलेंडर पूरी तरह व्‍यस्‍त है।

पाकिस्‍तानी क्रिकेटर कामरान अकमल के साथ यूट्यूब चैनल पर बातचीत करते हुए चोपड़ा ने मौजूदा डब्‍ल्‍यूटीसी प्रारूप को लेकर आईसीसी पर भड़ास निकाली है।

चोपड़ा ने कहा, 'दो साल की कड़ी मेहनत के बाद आप अन्‍य देश में एक टेस्‍ट खेलकर विश्‍व टेस्‍ट चैंपियनशिप विजेता का फैसला कर रह रहे हैं। मैं यह प्रारूप समझ नहीं सका। अगर आपको अन्‍य देश में डब्‍ल्‍यूटीसी फाइनल कराना है तो कम से कम तीन टेस्‍ट तो रखिए।'

चोपड़ा चाहते हैं कि डब्‍ल्‍यूटीसी फाइनल बेस्‍ट ऑफ थ्री प्रारूप के आधार पर खेला जाना चाहिए। उन्‍होंने कहा, 'ऑस्‍ट्रेलिया में बेंसन एंड हेजेस सीरीज तो ट्राई सीरीज होती थी, उसमें भी तीन फाइनल्‍स खेले जाते थे। यहां दो साल बाद विजेता का फैसला एक फाइनल से होगा। और अगर ड्रॉ हुआ, जिसकी संभावना है क्‍योंकि इंग्‍लैंड में बारिश की संभावना है, तो दोनों को संयुक्‍त‍ विजेता घोषित कर दिया जाएगा यानी फिर दो विजेता होंगे। मैं इससे बिलकुल भी सहमत नहीं हूं। उम्‍मीद है कि आईसीसी अगली बार इसमें बदलाव करेगी।'

रिजर्व डे पर चोपड़ा ने खड़े किए सवाल

चोपड़ा ने सलाह दी कि ड्रॉ के मामले में डब्‍ल्‍यूटीसी अंक तालिका में शीर्ष पर रहने वाली टीम को विजेता घोषित करना जायज विकल्‍प होगा। उन्‍होंने कहा, 'संयुक्‍त विजेता के बजाय, आईसीसी अंक तालिका में नंबर-1 पर रहने वाली टीम को विजेता घोषित कर सकता था। भारत शीर्ष पर था, तो वो ऐसे में विजेता बनते। ऐसा ही न्‍यूजीलैंड के साथ होता।'

पूर्व क्रिकेटर ने डब्‍ल्‍यूटीसी में उपयोग किए जाने वाले रिजर्व डे पर भी सवाल खड़े किए। रिजर्व डे का उपयोग तब होगा जब पांच दिनों में ओवर का कोटा पूरा नहीं होगा।

चोपड़ा ने कहा, 'क्‍या होगा कि अगर आखिरी दिन एक टीम को जीत के लिए 45 रन की दरकार है और विरोधी टीम जीत से दो विकेट दूर है। पांच दिन ओवर पूरे हुए तो ऐसी स्थिति में क्‍या रिजर्व डे मैच पूरा करने के लिए उपयोग में नहीं लाया जाएगा। अगर हमें नतीजा मिल रहा है तो रिजर्व डे का उपयोग होना चाहिए। यह डब्‍ल्‍यूटीसी फाइनल है।'

Quick Links

Edited by Vivek Goel
Be the first one to comment