Create

"पाकिस्तान को इंग्लैंड, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया जैसी मजबूत टीमों के खिलाफ ज्यादा मैच खेलना चाहिए"

Nitesh
पाकिस्तान क्रिकेट टीम
पाकिस्तान क्रिकेट टीम

पाकिस्तान (Pakistan Super League) के पूर्व कप्तान राशिद लतीफ (Rashid Latif) ने पाकिस्तानी टीम को लेकर बड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है कि पाकिस्तान ने पिछले तीन महीने में चार टेस्ट मैच खेले हैं और वो इस बात से काफी खुश हैं। लेकिन पाकिस्तानी टीम को अपने से ऊंची रैंकिंग वाली टीमों के खिलाफ ज्यादा खेलना चाहिए।

पाकिस्तान ने पिछले 18 महीने में ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के खिलाफ एक-एक टेस्ट सीरीज खेली है। हालांकि इन तीनों सीरीज को मिलाकर कुल 8 ही मैच हुए। दूसरी टीमें जहां एक सीरीज में चार से पांच मुकाबले खेलती हैं तो वहीं पाकिस्तान की हालिया टेस्ट सीरीज में केवल दो से तीन मैच हुए हैं।

अपने यू-ट्यूब चैनल पर बातचीत के दौरान राशिद लतीफ ने कहा कि पीसीबी को आने वाले महीनों में ज्यादा टेस्ट मैचों की प्लानिंग करनी चाहिए। उन्होंने कहा "जब हम इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट मैच खेलते हैं तो उसकी संख्या ज्यादा होनी चाहिए। क्योंकि लोग इन दोनों टीमों को खेलते हुए देखना चाहते हैं। हारने की चिंता ना करिए। हम लोग इंडिया के खिलाफ पहले ही नहीं खेल रहे हैं और पांच से छह टीमें ही हैं जिनसे हमें खेलना है।"

ये भी पढ़ें: कामरान अकमल ने टी20 वर्ल्ड कप के लिए पाकिस्तान टीम में दो खिलाड़ियों को लाने की सलाह दी

पाकिस्तान को मजबूत टीमों के खिलाफ ज्यादा मैच खेलने चाहिए - राशिद लतीफ

पाकिस्तान की टीम अब चार टेस्ट मैच लगातार जीत चुकी है। बाबर आजम की कप्तानी में पहले साउथ अफ्रीका और अब जिम्बाब्वे को टीम ने हराया। हालांकि राशिद लतीफ इस बात से खुश नहीं हैं कि पाकिस्तान ने ऊंची रैंकिंग वाले दक्षिण अफ्रीका और लोअर रैंक वाली जिम्बाब्वे के खिलाफ बराबर के टेस्ट मैच खेले।

उन्होंने कहा "पाकिस्तान कुछ ही टेस्ट मैच खेलती है, इसलिए तीन महीने में चार टेस्ट मैच खेलना हमारे क्रिकेट के लिए अच्छा है। लेकिन फ्यूचर में प्लानिंग करते वक्त पीसीबी को उन टीमों की तरफ देखना चाहिए जिनके खिलाफ हम खेल रहे हैं। साउथ अफ्रीका के खिलाफ सीरीज में हम ज्यादा मैच खेल सकते थे और जिम्बाब्वे के खिलाफ केवल एक टेस्ट मैच खेल सकते थे।"

ये भी पढ़ें: "टी20 वर्ल्ड कप भी पोस्टपोन हो सकता है या फिर भारत से बाहर इसका आयोजन कराना पड़ेगा"

Quick Links

Edited by Nitesh
Be the first one to comment