Create

"ऋषभ पंत में एक अलग खूबी है, मैंने निदाहास ट्रॉफी में बताई थी", पूर्व कोचिंग स्‍टाफ सदस्‍य का खुलासा

शंकर बासू ने बताया कि निदाहास ट्रॉफी के दौरान उन्‍होंने ऋषभ पंत से क्‍या कहा था
शंकर बासू ने बताया कि निदाहास ट्रॉफी के दौरान उन्‍होंने ऋषभ पंत से क्‍या कहा था
Vivek Goel

भारतीय टीम (India Cricket team) के पूर्व स्‍ट्रेंथ एंड कंडीशनिंग कोच शंकर बासू (Shankar Basu) ने खुलासा किया है कि ऋषभ पंत (Rishabh Pant) में एक गजब की खूबी है, जो उन्‍होंने निदाहास ट्रॉफी (Nidahas Trophy) के दौरान युवा क्रिकेटर को बताई थी।

शंकर बासू ने बताया कि ऋषभ पंत काफी फुर्तीले हैं, जिसे शंकर बासू ने भांप लिया था। बासू ने यूट्यूर रणवीर अलाहबादियाा से उनके चैनल बीयरबाईसेप्‍स पर बातचीत करते हुए याद किया, 'मुझे याद है कि श्रीलंका में ऋषभ पंत को देखा था। वो निदाहास ट्रॉफी के लिए आया था और उससे पहले वेस्‍टइंडीज में भी था। निदाहास ट्रॉफी में मुझे याद है कि मैंने उससे कहा था कि तुम्‍हें पता है कि तुम एक शानदार जिमनास्‍ट हो।'

बासू ने आगे कहा, 'मैंने ऋषभ से कहा कि अपने जिमनास्‍ट कोच को फोन करके धन्‍यवाद दो कि तुम अब क्‍या कर रहे हो। पंत का रिएक्‍शन था, क्‍या? वो हैरान था। पंत किप-अप, फ्रंट फ्लिप, बैक फ्लिप कर सकता है। आपने टीवी में जरूर देखा होगा। इसके कारण उनमें गजब की मूवमेंट की क्षमता है।'

पिछले साल घरेलू जमीन पर भारत बनाम इंग्‍लैंड सीरीज के दौरान पंत ने किप-अप किया था, जो काफी लोकप्रिय हुआ था। बासू ने कहा कि एथलीट के विकास में जिमनास्‍ट बड़ी भूमिका निभाता है। बासू ने पूर्व भारतीय क्रिकेटर और उनके बेटे का उदाहरण दिया, जिन्‍हें जिमनास्‍ट से आज फायदा मिल रहा है। बासू ने कहा कि पंत को अन्‍य लोगों से अलग बनाने में जिम्‍नास्‍ट की भूमिका बड़ी रही है।

शंकर बासू ने कहा, 'मेरे ख्‍याल से पंत ने बड़े होने की उम्र में काफी जिमनास्‍ट किया है। यही हाल श्रीधरण श्रीराम के बेटे का है। वो ट्रेनिंग शुरू करना चाहता था। मैंने श्रीराम से कहा कि उसे जिमनास्टिक्‍स में डालें। खुशी की बात यह है कि जिमनास्टिक्‍स ने एथलीट के विकास में अहम भूमिका निभाई। मगर आप बहत कम उम्र में ऐसा कर सके तो फिर कोई चीज आपको रोक नहीं सकती।


Edited by Prashant Kumar

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...