Create

"भारतीय टीम वनडे और टी20 खेलने की आदी है और इसीलिए टेस्ट मैचों जितना धैर्य उनके पास नहीं है"

Nitesh
भारतीय टीम को वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में हार का सामना करना पड़ा
भारतीय टीम को वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में हार का सामना करना पड़ा

वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल (WTC Final) में भारतीय टीम (Indian Cricket Team) की बैटिंग को लेकर पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar) ने सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा है कि भारतीय टीम में धैर्य की कमी दिखी। उनके मुताबिक भारत वनडे और टी20 इतना ज्यादा खेलता है कि टेस्ट क्रिकेट के लिए जितने धैर्य की जरूरत होती है वो उनके पास नहीं रह गया है।

भारतीय टीम को वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ 8 विकेटों से हार का सामना करना पड़ा। इस मुकाबले में टीम की हार की प्रमुख वजह उनकी खराब बल्लेबाजी रही। कोई भी बल्लेबाज लंबी पारी नहीं खेल सका।

द टेलीग्राफ में लिखे अपने कॉलम में सुनील गावस्कर ने भारतीय टीम के बैटिंग परफॉर्मेंस को लेकर प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा "खेल के आखिरी दिन कंडीशंस काफी अच्छे थे। धूप निकली हुई थी और पिच अच्छी थी। लेकिन एक टेस्ट मैच के लिए जितने धैर्य की जरूरत होती है भारतीय खिलाड़ियों में उसकी कमी दिखी। उन्होंने बहुत खराब शॉट खेले और इसी वजह से टीम कम स्कोर पर आउट हो गई।"

ये भी पढ़ें: नील वैगनर ने किया खुलासा, पुलिस वाले भी रोककर WTC मेस के साथ तस्वीर लेना चाह रहे थे

सुनील गावस्कर ने केन विलियमसन का उदाहरण दिया

सुनील गावस्कर ने न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन की तारीफ की और कहा " जिस धैर्य और शॉट सेलेक्शन की जरूरत बल्लेबाजी में होती है वो न्यूजीलैंड के कप्तान की पारी में दिखी। दोनों ही पारियों में उन्होंने इसका नमूना पेश किया। वो अपनी टीम को जीत की दहलीज तक लेकर गए। उन्होंने काफी बेहतरीन बल्लेबाजी की और इस बात को भूल गए कि ये पिच गेंदबाजों की मददगार है।"

ये भी पढ़ें: पाकिस्तान के खिलाफ टी20 सीरीज के लिए वेस्टइंडीज वुमेंस टीम का ऐलान

Quick Links

Edited by Nitesh
Be the first one to comment