UEFA नेशंस लीग : विश्व चैंपियन फ्रांस दूसरी हार के साथ फाइनल से बाहर, आज जर्मनी और इटली का सामना

फ्रांस के खिलाफ मोड्रिक के गोल का जश्न मनाते क्रोएशिया के खिलाड़ी।
फ्रांस के खिलाफ मोड्रिक के गोल का जश्न मनाते क्रोएशिया के खिलाड़ी।

गत विजेता और मौजूदा विश्व कप चैंपियन फ्रांस की टीम UEFA नेशंस लीग के इस सीजन से बाहर हो गई है। टीम को लीग ए के ग्रुप 1 के मुकाबले में क्रोएशिया ने 1-0 से करारी शिकस्त दी। फ्रांस ने इससे पहले डेनमार्क के खिलाफ मैच गंवाया था जबकि इसके बाद क्रोएशिया और ऑस्ट्रिया से 1-1 मैच ड्रॉ खेला था। अब क्रोएशिया से दोबारा हुए मुकाबले में हार के साथ टीम नेशंस लीग के फाइनल में जगह बनाने में नाकामयाब रही है। खास बात ये है कि साल 2018 में हुए फीफा विश्व कप फाइनल में फ्रांस ने क्रोएशिया को हराकर ही वर्ल्ड कप अपने नाम किया था और ऐसे में क्रोएशिया के लिए ये जीत काफी खास है। मैच का इकलौता और विजयी गोल क्रोएशिया के लिए लूका मोड्रिक ने किया।

UEFA नेशंस लीग में यूरोपीय देशों की फुटबॉल टीमों को 4 लीगों में - ए, बी, सी, डी में बांटा जाता है और हर दो साल में होने वाली प्रतियोगिता के लिए टॉप टीमें लीग ए, उसके बाद की लीग बी, फिर लीग सी और आखिरी की टीमें लीग डी में रखी जाती हैं। लीग ए में शामिल 16 टीमों को चार ग्रुप में बांटा जाता है, और हर ग्रुप की टीमों के बीच आपस में 2-2 मुकाबले होते हैं। चारों ग्रुपों की अंक तालिका में टॉप पर रहने वाली टीमें नेशंस लीग फाइनल में पहुंचती हैं जहां नॉकआउट के आधार पर विजेता निर्धारित होता है।

फिलहाल लीग ए के ग्रुप 1 में शामिल फ्रांस, क्रोएशिया, डेनमार्क और ऑस्ट्रिया की टीमों में से अंक तालिका में फ्रांस की टीम आखिर में है। हालांकि टीम को अभी ऑस्ट्रिया और डेनमार्क के खिलाफ इस साल सितंबर में बचे दो मैच खेलने हैं लेकिन टीम के अब तक के हुए मुकाबलों के बाद उसका टॉप पर पहुंचना तो नामुमकिन है। ऐसे में फ्रांस का ये प्रदर्शन इस साल नवंबर में होने वाले फीफा विश्व कप के लिए खतरे की घंटी बनकर सामने आया है।

पूर्व चैंपियनों के बीच धमाकेदार मैच

लीग ए के ग्रुप 1 में डेनमार्क की टीम टॉप पर है। टीम ने ऑस्ट्रिया को 2-0 से हराकर तीसरी जीत दर्ज की है। वही इसी लीग के ग्रुप 2 में स्पेन फिलहाल टॉप पर है, ग्रुप 3 में आज पूर्व विश्व चैंपियन टीमों जर्मनी और इटली का सामना होगा। फैंस इस मैच के लिए खासे उत्साहित हैं क्योंकि दोनों ही टीमें काफी मजबूत हैं। इटली की टीम फीफा विश्व कप में क्वालीफाई करने से जरूर चूकी है लेकिन नेशंस लीग के जरिए कम से कम अपने प्रदर्शन को बेहतर करना चाहेगी। 4 जून को दोनों टीमों के बीच पहले ग्रुप मैच में मुकाबला 1-1 से ड्रॉ रहा था।