Create

नॉर्थईस्ट युनाइटेड ने एटीके को गोलरहित ड्रॉ पर रोका

Enter caption
Enter caption

आईएसएल के पांचवें सीजन के 11वें दौर के मुकाबले में नॉर्थईस्ट युनाइटेड एफसी ने शनिवार को दो बार के चैंपियन एटीके को गोलरहित बराबरी पर रोकते हुए अंक तालिका में दूसरे स्थान पर पहुंच गया है। इंदिरा गांधी एथलेटिक स्टेडियम में खेले गए इस मुकाबले में एक अंक लेकर हाईलैंडर्स नाम से मशहूर पूर्वोत्तर की यह टीम अंकतलिका में 20 अंको के साथ दूसरे स्थान पहुंच गई है। मुंबई सिटी के भी 20 अंक हैं लेकिन गोलअंतर के मामले में नॉर्थईस्ट बेहतर है।

नॉर्थईस्ट का यह 11वां मैच था। उसे पांच मैच में जीत मिली है। पांच मुकाबले बराबरी पर छूटे हैं। एक मैच में उसकी हार हुई है। एटीके का भी यह 11वां मैच था। उसे चार मैचों में जीत मिली है। वहीं चार मुकाबले ड्रॉ रहे हैं। यह टीम 16 अंको के साथ छठे स्थान पर है। जमशेदपुर के भी 16 अंक हैं लेकिन गोल अंतर में वह बेहतर स्थिति में है।

इस मैच की शुरुआत धीमी हुई। नॉर्थईस्ट ने कई प्रयासों के बाद 12वें मिनट में पहला शॉट टारगेट पर लिया। रिडीम तलांग ने बॉक्स के बाहर से एक तेज शॉट लिया जो आंद्रे बिके के पैरों के बीच से पोस्ट की ओर बढ़ी लेकिन गोलकीपर ने इसे रोक लिया। दो मिनट के स्टापेज टाइम के अंतिम मिनट में एटीके कप्तान ने बेहतरीन मौका बनाया। फ्री किक पर लेंजारोते ने गेंद को बॉक्स में पहुंचाया। गेंद हितेष के पास पहुंची। हितेष हेडर के जरिए उसे गोलपोस्ट में पहुंचाने की कोशिश की लेकिन बीच में रीगन सिंह बीच में आ गए।

पहला हाफ गोलरहित समाप्त हुआ। मेजबान टीम ने लगातार मेहमान टीम पर दबाव बनाए रखा। हालांकि एटीके के डिफेंस ने अपनी मजबूती दिखाते हुए उसके हर हमले को रोका। 67वें मिनट में लेंजारोते ने स्कूप के जरिए गेंद को कीगन परेरा के ऊपर से निकालना चाहा लेकिन ऐसा हो न सका। रीप्ले में पता चला कि कीगन इसे हाथ से रोक लिया था। हालांकि रेफरी की नजर उस पर नहीं गई।

मैच के 72वें मिनट में मेजबान खिलाड़ी रीगन सिंह को पीला कार्ड दिखाया गया। एक मिनट बाद ही नॉर्थईस्ट ने तेलांग को बाहर भेज कर निखिल को मैदान में उतारा। निखिल ने मैदान पर कदम रखते ही एक मौका बनाया। हालांकि गोल नहीं हो सका। मैच के 80वें मिनट में लेंजारोते बाहर गए। उनकी जगह मैमोनी मुसेर को बुलाया गया। इसके बाद भी दोनों तरफ से गोल करने के लगातार प्रयास होते रहे लेकिन अंत में उन्हें अंक बांटने पर मजबूर होना पड़ा।

Quick Links

Edited by संदीप भूषण
Be the first one to comment