इंडियन सुपर लीग : ईस्ट बंगाल पर जीत के साथ केरल फिर टॉप 4 में, आज गोवा के सामने मोहन बगान

गोल के बाद जश्न मनाते केरला ब्लास्टर्स के खिलाड़ी (काली जर्सी में)
गोल के बाद जश्न मनाते केरला ब्लास्टर्स के खिलाड़ी (काली जर्सी में)

एनेस सिपोविच के इकलौते गोल की बदौलत केरला ब्लास्टर्स ने ईस्ट बंगाल पर 1-0 से जीत दर्ज कर इंडियन सुपर लीग के टॉप 4 में वापसी कर ली है। फिलहाल टीम तीसरे नंबर पर है और प्लेऑफ के लिए मजबूत दावेदारी पेश कर रही है। वहीं इस सीजन अब तक सिर्फ एक मैच जीतने वाली एससी ईस्ट बंगाल फुटबॉल क्लब की टीम अब भी अंक तालिका में 10वें स्थान पर है और प्ले ऑफ की दौड़ से बाहर है।

ISL इतिहास के सबसे ज्यादा अंक

गोवा के तिलक मैदान में खेले गए लीग के 91वें मैच में इकलौता गोल एनेस सिपोविच की ओर से दूसरे हाफ में आया। 49वें मिनट में लालथथांगा खावलह्रिंग की मदद से सिपोविच ने गोल कर केरल को 1-0 से आगे कर दिया और यही गोल निर्णायतक भी साबित हुआ। ईस्ट बंगाल की टीम पहले हाफ में डिफेंड काफी अच्छा कर पाई लेकिन दूसरे हाफ में केरल ने अपने गोल के बाद जानबूझकर खेल को मिडफील्ड में ही रखा ताकि ईस्ट बंगाल बराबरी का मौका न पा सके।

इस जीत के साथ ही केरल ने 15 मैचों में कुल 26 अंक कमाकर फिलहाल अंक तालिका में तीसरा स्थान हासिल किया है। यह इस टीम के लीग इतिहास का सबसे अच्छा प्रदर्शन है। इससे पहले साल 2017-18 के सीजन में टीम ने 18 मैचों से 25 अंक कमाए थे और ये उनका सबसे अच्छा स्कोर था। आखिरी बार केरल की टीम साल 2016 में प्ले ऑफ में पहुंची थी और यहां से टीम फाइनल में भी गई थी, लेकिन वहां टीम को हार का सामना करना पड़ा था। ऐसे में केरल की टीम इस सीजन अपने अगले बचे 5 मुकाबलों में अच्छा प्रदर्शन कर इस 5 सीजन बाद प्ले ऑफ में जाने की पूरी कोशिश करेगी।

गोवा का जीतना जरूरी

लीग के अहम मैच में आज गोवा का सामना एटीके मोहन बगान से होगा। 14 मैचों में 7 जीत और सिर्फ 2 हार के साथ मोहन बगान के 26 अंक हैं और टीम फिलहाल दूसरे नंबर पर है। अभी टीम को 6 मैच खेलने हैं, ऐसे में टीम के पास प्लेऑफ में जगह पक्की करने के काफी अच्छे मौके हैं। लेकिन गोवा एफसी की टीम के लिए ऐसा नहीं कहा जा सकता। बीच सीजन अपने हेड कोच को दूसरी टीम को गंवाने वाली गोवा 16 मैचों में सिर्फ 4 जीत के साथ 18 अंक लेकर 9वें स्थान पर है। ऐसे में टीम को अगर टॉप 4 में जगह पक्की करने की सोचनी भी है तो कम से कम बचे चारों मैच जीतने होंगे, और अन्य बची टीमों के प्रदर्शन पर भी काफी कुछ निर्भर करेगा। गोवा की टीम टॉप 4 की रेस से बाहर होने के काफी करीब है। पहले लेग के मुकाबले में गोवा ने केरल को 2-2 से ड्रॉ पर रोका था, लेकिन इस बार ड्रॉ से नहीं, बल्कि गोवा को जीत से अपने अंक बढ़ाने होंगे।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar