खाना आसानी से पचाये ये 10 आयुर्वेदिक उपाय

खाना आसानी से पचाये ये 10 आयुर्वेदिक उपाय (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
खाना आसानी से पचाये ये 10 आयुर्वेदिक उपाय (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

आयुर्वेद, भारत में उत्पन्न होने वाली चिकित्सा की एक प्राचीन प्रणाली, पाचन में सुधार और स्वस्थ पाचन को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न प्राकृतिक उपचार प्रदान करती है। यहां कुछ आयुर्वेदिक उपचार दिए गए हैं जो भोजन को आसानी से पचाने में आपकी मदद कर सकते हैं:-

खाना आसानी से पचाये ये 10 आयुर्वेदिक उपाय (10 Ayurvedic Remedies To Digest Food Easily In Hindi)

youtube-cover

1. अदरक: अदरक आयुर्वेद में अपने पाचक गुणों के लिए जाना जाता है। यह पाचन अग्नि (अग्नि) को उत्तेजित करने और पाचन एंजाइमों को बढ़ाने में मदद कर सकता है, जो पाचन में सहायता कर सकता है। आप अदरक को अपने भोजन में शामिल करके, अदरक की चाय पीकर या किसी योग्य आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करके अदरक का सेवन कर सकते हैं।

2. त्रिफला: त्रिफला तीन फलों - आमलकी, बिभीतकी और हरीतकी से बना एक आयुर्वेदिक हर्बल मिश्रण है। यह पाचन में सुधार, पाचन तंत्र को साफ करने और स्वस्थ मल त्याग को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है। आयुर्वेदिक चिकित्सक के मार्गदर्शन के अनुसार त्रिफला का सेवन कैप्सूल, पाउडर या काढ़े के रूप में किया जा सकता है।

3. अजवायन (कैरम के बीज): अजवायन भारतीय खाना पकाने में इस्तेमाल होने वाला एक आम मसाला है और अपने कार्मिनेटिव गुणों के लिए जाना जाता है। यह गैस, सूजन और अपच से राहत दिलाने में मदद कर सकता है। आप भोजन के बाद कुछ अजवाइन के बीज चबा सकते हैं या पाचक चाय बनाने के लिए उन्हें गर्म पानी में मिला सकते हैं।

4. पिप्पली (लंबी काली मिर्च): पिप्पली एक शक्तिशाली आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है जो पाचन अग्नि को उत्तेजित कर सकती है और पाचन में सुधार कर सकती है। यह आमतौर पर पाचन संबंधी समस्याओं के लिए आयुर्वेदिक योगों में प्रयोग किया जाता है। पिप्‍पली को पाउडर, कैप्‍सूल या आयुर्वेदिक फॉर्मूले के रूप में आयुर्वेदिक चिकित्‍सक के बताए अनुसार लिया जा सकता है।

5. सौंफ: सौंफ के बीजों में पाचक गुण पाए जाते हैं और यह गैस, सूजन और अपच से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं। आप भोजन के बाद सौंफ चबा सकते हैं या गर्म पानी में सौंफ डालकर सौंफ की चाय बना सकते हैं।

6. त्रिकटु: त्रिकटु तीन मसालों - अदरक, काली मिर्च और लंबी काली मिर्च का आयुर्वेदिक मिश्रण है। यह पाचन में सुधार, पाचन अग्नि को बढ़ाने और गैस और सूजन को कम करने के लिए जाना जाता है। आयुर्वेदिक चिकित्सक के मार्गदर्शन के अनुसार त्रिकटु का सेवन कैप्सूल, पाउडर या काढ़े के रूप में किया जा सकता है।

7. धनिया: धनिया के बीज आयुर्वेद में अपने पाचक गुणों के लिए जाने जाते हैं। वे गैस, सूजन और अपच से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं। आप भोजन के बाद धनिया के बीजों को चबा सकते हैं या धनिये के बीजों को गर्म पानी में भिगोकर धनिया की चाय बना सकते हैं।

8. पुदीना: पुदीने की पत्तियों को कार्मिनेटिव गुणों के लिए जाना जाता है और यह पाचन में सुधार करने में मदद कर सकता है। आप पुदीने की पत्तियों को अपने भोजन में शामिल कर, पुदीने की चटनी बनाकर या पुदीने की चाय बनाकर सेवन कर सकते हैं।

9. जीवनशैली अभ्यास: आयुर्वेद अच्छे पाचन के लिए स्वस्थ खाने की आदतों और जीवनशैली प्रथाओं के महत्व पर जोर देता है। इसमें नियमित समय पर भोजन करना, अधिक खाने से बचना, मन लगाकर खाना और भारी, तले हुए और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों से बचना शामिल है। इसमें तनाव कम करने के लिए योग, ध्यान और गहरी सांस लेने जैसी विश्राम तकनीकों का अभ्यास करना भी शामिल है, जो पाचन को प्रभावित कर सकते हैं।

10. हाइड्रेशन: अच्छे पाचन के लिए पूरे दिन पर्याप्त मात्रा में पानी पीना महत्वपूर्ण है। यह भोजन को नरम करने में मदद करता है, पाचन तंत्र के माध्यम से इसकी गति को सुगम बनाता है और कब्ज को रोकता है।

youtube-cover

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
App download animated image Get the free App now