Create

स्किन ब्लीच करने के 3 फायदे और 3 नुकसान - Benefits And Side-Effects Of Skin Bleaching

स्किन ब्लीच करने के 3 फायदे और 3 नुकसान (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
स्किन ब्लीच करने के 3 फायदे और 3 नुकसान (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
reaction-emoji
Vineeta Kumar

आज के समय में हर कोई खूबसूरत दिखना चाहता है। इसके लिए लोग क्या-क्या नहीं करते हैं, अपने चेहरे पर कितने ही तरह के उत्पादों के उपयोग से लेकर घरेलू उपाय तक इस्तेमाल करते हैं। इन्हीं में से एक असरदार उपाय ब्लीच (Bleach) है। त्वचा के निखार के लिए पार्लर व सैलून के ब्यूटिशियन भी स्किन ब्लीचिंग का सुझाव देते हैं। लेकिन क्या ब्लीच करना त्वचा के लिए फायदेमंद है या इससे त्वचा को नुकसान हो सकते हैं। आइये इस लेख के माध्यम से स्किन ब्लीच करने के फायदे और नुकसान के बारे में जानकारी प्राप्त करें।

स्किन ब्लीच करने के 3 फायदे और 3 नुकसान

स्किन ब्लीच करने के फायदे : Benefits Of Skin Bleaching In Hindi

1. सन टैन (Treats sun tan)

स्किन की टैनिंग को दूर करने के लिए ब्लीच का इस्तेमाल किया जाता है। इसके उपयोग से स्किन टैनिंग की समस्या काफी हद तक कम हो सकती है। ब्लीच एक ऐसा केमिकल होता है, जिसे उसके व्हाइटनिंग और लाइटनिंग इफ़ेक्ट के लिए जाना जाता है। सन टैन को कम करने में ब्लीच करना मददगार हो सकता है।

2. ग्लोइंग स्किन (Promotes glowing skin)

स्किन पर ग्लो लाने के लिए भी ब्लीच मददगार है। ब्लीच के बाद चेहरे पर ताजगी व चमक आ जाती है। ब्लीच करने से स्किन की रंगत बेहतर हो सकती है।

3. चेहरे के बालों को हल्का करे (Lighten facial hair)

चेहरे पर मौजूद छोटे-छोटे बालों की वजह से ही त्वचा की रंगत गहरी नजर आने लगती है। ऐसे में, चेहरे पर ब्लीच लगाकर बालों का रंग सुनहरा या हल्का किया जा सकता है। इससे त्वचा पर बाल दिखाई नहीं देते हैं और त्वचा की रंगत एक समान नजर आने लगती है।

स्किन ब्लीच करने के नुकसान : Side-Effects Of Skin Bleaching In Hindi

1. चेहरे पर ब्लीच इस्तेमाल करने से कुछ लोगों में हल्की जलन देखी गयी है। संवेदनशील त्वचा वाले लोगों को चेहरे पर इसका इस्तेमाल करने से स्किन एलर्जी हो सकती है।

2. त्वचा को अधिक ब्लीच करने से त्वचा की ऊपरी सतह पतली हो सकती है। यह स्किन कैंसर होने का खतरा बढ़ा सकता है।

3. त्वचा ब्लीच करते समय ब्लीच मुंह के अंदर चली जाए तो ल्यूकेमिया (ब्लड कैंसर), थायराइड, लिवर डैमेज और एनीमिया जैसी बीमारियां भी हो सकती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Vineeta Kumar
reaction-emoji

Comments

Fetching more content...