Create
Notifications

सर्पगंधा वटी के 4 फायदे और नुकसान - Sarpagandha Vati Ke 4 Fayde Aur Nuksan

सर्पगंधा वटी के 4 फायदे और नुकसान (फोटो - sportskeedaहिंदी)
सर्पगंधा वटी के 4 फायदे और नुकसान (फोटो - sportskeedaहिंदी)
reaction-emoji
Vineeta Kumar

सर्पगंधा (Sarpagandha) एक ऐसा पौधा है जिसके अनेकों औषधीय गुण पाए गए हैं। यह जड़ी-बूटी आयुर्वेदिक दवाओं में भी उपयोग की जाती है। सांप काटने पर विष को उतारने में, दर्दनिवारक के रूप में, नींद लाने में, पेट के कीड़ों को मारने में मददगार साबित हो सकती है। यहां तक कि किसी भी जीव के विष के असर को उतारने में यह कामयाब दवा के रूप में जाना जाता है। इसकी जड़ स्वाद में जितनी तीखी होती है उतनी ही असरदार होती है। यह लेख सर्पगंधा के फायदे और नुकसान के बारे में है। आइये इस विषय पर और जानकारी प्राप्त करें।

सर्पगंधा वटी के 4 फायदे और नुकसान

सर्पगंधा के फायदे - Benefits of Sarpagandha In Hindi

1. सर्पगंधा में सेरोटोनिन मौजूद होता है, जिस कारण यह नींद ना आने की समस्या में सुधार करने का काम करता है। सर्पगंधा का इस्तेमाल अनिद्रा की समस्या से राहत पाने के लिए किया जाता है। सर्पगंधा से इंसोमनिया (Insomnia) जैसी बीमारी को ठीक किया जा सकता है।

2. शरीर में ब्लड प्रेशर बढ़ने से कई तरह की समस्याएं उत्पन्न हो सकती है। हाई ब्लड प्रेशर की स्थिति में सर्पगंधा का सेवन इसे नियंत्रित करने का काम करता है। इसके लिए इसमें पाए जाने वाले एल्कलॉइड (alkaloids) ब्लड प्रेशर के स्तर को कम करने में सहायक हो सकते हैं।

3. पेट सम्बंधित समस्याओं को दूर करने के लिए सर्पगंधा का इस्तेमाल किया जाता है। इसमें पाए जाने वाले एल्कलॉइड के कारण यह अपच, कब्ज जैसी समस्या में लाभ पहुंचाने में फायदेमंद है। एल्कलॉइड युक्त खाद्य पदार्थ को ऐसे में फायदेमंद कहा जा सकता है।

4. सर्पगंधा का उपयोग कर मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द को कम किया जा सकता है। सर्पगंधा में पाए जाने वाले एल्कलॉइड में एनाल्जेसिक गुण पाए जाते हैं जो मासिक धर्म के दर्द को कम करने में लाभदायक हैं।

सर्पगंधा के नुकसान : Side-effects Of Sarpagandha In Hindi

किसी भी चीज़ का अधिक उपयोग उसे हानिकारक बनाता है। किसी भी चीज को अधिक मात्रा में लेने से दुष्प्रभाव देखने को मिल सकते हैं। सर्पगंधा का भी नियमित उपयोग लाभदायक होता है। शरीर को सर्पगंधा से होने वाले नुकसान कुछ इस प्रकार हैं : पेट में ऐंठन, खुजली, मतली, उल्टी, अस्थमा, सुस्ती, अवसाद, गैस्ट्रिक अल्सरेशन, त्वचा पर लाल चकत्ते।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by Vineeta Kumar
reaction-emoji

Comments

Fetching more content...