दूध में गोंद कतीरा के 4 फायदे - Doodh Mein Gond Katira Ke 4 Fayde

दूध में गोंद कतीरा के 4 फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
दूध में गोंद कतीरा के 4 फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

आयुर्वेद के माध्यम से हमें ऐसी जड़ी-बूटियों के बारे में पता चला है जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत गुणकारी मानी जाती हैं। जड़ी-बूटियों के समान ही गोंद कतीरा का भी उपयोग किया जाता है। गोंद कतीरा एक चिपचिपा खाद्य पदार्थ है जो पेड़ से प्राप्त किया जाता है। यह भारत के भिन्न प्रान्त जैसे राजस्थान, पंजाब और हरियाणा में आसानी से मिल सकता है। इसकी तासीर ठंडी होने के कारण, इसका उपयोग कई तरह से गर्मियों के मौसम में किया जाता है। गोंद कतीरा के इस्तेमाल से हृदय रोग, पेट सम्बंधित रोग और त्वचा रोग जैसी समस्याओं में आराम मिलता है। गोंद कतीरा का उपयोग दूध के साथ भी किया जा सकता है। इस लेख में दूध में गोंद कतीरा के फायदों की चर्चा की गयी है।

दूध में गोंद कतीरा के 4 फायदे

1. कमजोरी दूर करे (Gives Instant Energy)

गोंद कतीरा में अधिक मात्रा में प्रोटीन और फॉलिक एसिड मौजूद होता है। दूध के साथ इसके सेवन से शरीर को ऊर्जा मिलती है। दूध और गोंद कतीरा के सेवन से खून भी गाढ़ा होता है। इसका सेवन दूध के साथ किया जा सकता है। इसका शरबत बनाकर भी सेवन किया जा सकता है।

2. महिलाओं के लिए फायदेमंद (Beneficial For Female Health)

महिलाओं के अनियमित मासिक धर्म की समस्या में भी दूध और गोंद कतीरा फायदेमंद है। उपयोग के लिए - गोंद कतीरा को मिश्री के साथ पीस लें, मिश्रण को दो चम्मच दूध में मिलाकर सेवन किया जा सकता है।

3. वजन कम करने में मददगार (Helps reduce weight)

शरीर से टॉक्सिन्स बाहर निकालने में गोंद कतीरा बहुत लाभदायक होता है। दूध के साथ इसका सेवन फायदेमंद है। गोंद कतीरा में पाया जाने वाला फाइबर, अधिक समय तक भरा हुआ महसूस करवाता है। उपयोग के लिए, 1 चम्मच गोंद कतीरा दूध या पानी में भिगो दें और गुड़ या शहद के साथ इसका सेवन करें।

4. इम्युनिटी को बढ़ाता है (Boosts Immunity)

गोंद कतीरा इंफेक्शन और अन्य बाहरी संक्रमणों से लड़ने की हमारी इम्युनिटी की क्षमता को बढ़ाता है। खांसी-जुकाम और फ्लू जैसी समस्याओं में गोंद कतीरा मदद कर सकता है। दूध के साथ गोंद कतीरा मिलाकर या शरबत के रूप में इसे पीने से लाभ प्राप्त होते हैं।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar