4 यूरिन इन्फेक्शन ट्रीटमेंट - 4 Urine Infection Treatment

यूरिन इन्फेक्शन ट्रीटमेंट (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
यूरिन इन्फेक्शन ट्रीटमेंट (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

यूरिनरी इन्फेक्शन (Urinary Infection) आपके यूरिनरी सिस्टम में होने वाला एक बहुत ही सामान्य प्रकार का इन्फेक्शन है। यूरिनरी इन्फेक्शन आपके मूत्र तंत्र के किसी भी में हो सकता है, जिसमें मूत्रमार्ग, मूत्रवाहिनी, मूत्राशय और गुर्दे शामिल हैं। लक्षणों में आमतौर पर बार-बार पेशाब करने की आवश्यकता, पेशाब करते समय दर्द होना और आपकी बाजू या पीठ के निचले हिस्से में दर्द महसूस होना शामिल है।

ज़्यादातर इन्फेक्शन का इलाज एंटी-बायोटिक से किया जा सकता है। मूत्र मार्ग में संक्रमण बहुत आम है जो हर पांच महिलाओं में से किसी न किसी के जीवनकाल में कभी न कभी होता है। हालांकि यूरिनरी इन्फेक्शन महिलाओं में आम हैं, यह पुरुषों, बड़े वयस्कों और बच्चों में भी हो सकता है। यूरिनरी इन्फेक्शन के उपचार के रूप में आप कुछ आसान नुस्खों को अपना सकते हैं। यह लेख यूरिन इन्फेक्शन के घरेलू इलाज के बारे में जानकारी देने के लिए है।

4 यूरिन इन्फेक्शन ट्रीटमेंट

1. पानी का सही मात्रा में सेवन करना (Drink the right amount of water)

पर्याप्त पानी पीने से यूटीआई को रोकने और उसका इलाज करने में मदद मिल सकती है। पानी महत्वपूर्ण पोषक तत्वों और इलेक्ट्रोलाइट्स को बनाए रखते हुए मूत्र पथ के माध्यम से शरीर से वेस्ट को कुशलतापूर्वक निकालने में मदद करता है। हाइड्रेटेड रहने से मूत्र भी पतला हो जाता है और सिस्टम के माध्यम से अपनी यात्रा को गति देता है, जिससे बैक्टीरिया के लिए मूत्र अंगों को लाइन करने वाली कोशिकाओं तक पहुंचना और उन्हें संक्रमित करना कठिन हो जाता है।

2. क्रैनबेरी जूस (Cranberry Juice)

क्रैनबेरी जूस यूरिन इन्फेक्शन के लिए सबसे अच्छे उपचारों में से एक है। लोग इसका उपयोग अन्य संक्रमणों को दूर करने और घाव के ठीक होने में तेजी लाने के लिए भी करते हैं। क्रैनबेरी जूस में ऐसे यौगिक होते हैं जो एस्चेरिचिया कोलाई (Escherichia coli) बैक्टीरिया को मूत्र पथ में कोशिकाओं को जुड़ने से रोक सकते हैं। क्रैनबेरी जूस में पॉलीफेनोल्स सहित एंटी-ऑक्सिडेंट (एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण) भी होते हैं।

3. प्रोबायोटिक्स (Probiotics)

कुछ लाभकारी बैक्टीरिया, जिसे प्रोबायोटिक्स कहा जाता है, मूत्र पथ को स्वस्थ और हानिकारक बैक्टीरिया से मुक्त रखने में मदद कर सकते हैं। लैक्टोबैसिलस (Lactobacillus) में प्रोबायोटिक्स यूरिनरी इन्फेक्शन के इलाज और रोकथाम में मदद कर सकते हैं।

4. विटामिन C का महत्व (Importance of Vitamin C)

विटामिन C एक एंटी-ऑक्सिडेंट है जो प्रतिरक्षा प्रणाली के कार्य को बेहतर बनाने में मदद करता है। यह मूत्र में नाइट्रेट के साथ प्रतिक्रिया करके नाइट्रोजन ऑक्साइड बनाता है जो बैक्टीरिया को मार सकता है। यह मूत्र के pH को कम कर सकता है जिससे बैक्टीरिया के जीवित रहने की संभावना कम हो जाती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar