Create

ये 5 संकेत बताते हैं की आपको इमोशनल सपोर्ट (Emotional Support) की ज़रुरत है!

5 Signs That You Need Emotional Support!
ये 5 संकेत बताते हैं की आपको इमोशनल सपोर्ट (Emotional Support) की ज़रुरत है!
वैशाली शर्मा

इंसान इमोशन से परिपूर्ण प्रजाति है, ये सामाजिकता और व्यहवहार से भरा है. शायद ही ऐसा कोई होगा इस दुनिया में जो जीवन भर बस अकेले ही रहना चाहेगा. ये बात आपको भी पता है की कोई भी इस दुनिया में अपना जीवन अकेले नही बिता सकता इसलिए हर व्यक्ति को ज़रुरत होती है इमोशनल सपोर्ट की. मगर क्या हो जब आप समाज में रह कर भी खुद को अकेला ही महसूस करें आपमें संवेदनशीलता का आभाव बढ़ जाता है. ये किसी के लिए भी मुस्किल और दुखद समय हो सकता है.

हलाकि इमोशनल सपोर्ट की पहचान करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है। कई बार हम महज़ किसी व्यक्ति से फ़ोन पर बात कर के भी सुखद महसूस करते हैं तो कई बार हमे हमारे पास मोजूद व्यक्ति भी सपोर्ट नही कर पाता. पर दिए गए बिन्दुओ के ज़रिये इस लेख में हमने आपके इस इमोशनल सपोर्ट के आभाव को चिन्हित करने का प्रयास किया है आशा है आपको इससे मदद मिलेगी.

1. भावनात्मक रूप से बहुत स्वतंत्र होना:

जो लोग भावनात्मक रूप से अनुपलब्ध होते हैं वे अक्सर अत्यधिक स्वतंत्र और आत्मनिर्भर के रूप में उपस्थित होते हैं। ऐसे लोग अंदर से डरे और खुद को अकेला महसूस करते हैं पर असल में वह चाहतें है की उनका साथ दिया जाए.

2. भावनात्मक जुड़ाव से बचना

अगर कोई व्यक्ति चीजों के बारे में गहराई से बात नहीं करना चाहता है, खासकर जब रिश्तों की बात आती है। आपको सावधानी बरतनी चाहिए यदि वे संवाद करने से इनकार करते हैं या प्रतिबद्धता बनाने या रिश्ते में घनिष्ठ बंधन विकसित करने के बारे में बातचीत करते हैं। तो ऐसे व्यक्तियों को समय देना चाहिए ऐसे लोग अपनी जिंदगी हर मुद्दे को गहेरी सोच देना चाहते हैं.

3. रक्षात्मक होना

शायद ही कभी भावनात्मक रूप से अनुपलब्ध लोग बातचीत शुरू करते हैं जो संबंधों की गतिशीलता, शिकायतों, या व्यवहार संशोधनों की मांगों को संबोधित करते हैं। एक साथी जो भावनात्मक रूप से अनुपस्थित है वह भी अक्सर रक्षात्मक प्रतिक्रिया करता है। वैकल्पिक रूप से, वे अपनी समस्याओं का श्रेय आपको या किसी अन्य व्यक्ति को दे सकते हैं।

4. सहानुभूति की कमी

जो लोग भावनात्मक रूप से अनुपलब्ध होते हैं वे अक्सर अपनी भावनाओं को खुद के अन्दर दबोच लेते हैं. ऐसे लोगों में सेल्फ कॉन्फिडेंस की कमी होती है, जिससे कम सहानुभूति हो सकती है और किसी अन्य व्यक्ति की भावनाओं और कम सहानुभूति को समझने या साझा करने में असमर्थता हो सकती है। दूसरे शब्दों में, एक व्यक्ति जिसके पास भावनात्मक स्थिरता की कमी है, वह आपके साथ सहानुभूति रखने में सक्षम नहीं हो सकता है.

5. अंतरंगता से बचना

एक व्यक्ति जो भावनात्मक रूप से अनुपलब्ध है, वह आपके साथ निकटता और अपने गहरे विचारों और भावनाओं को प्रकट करने से डर सकता है। भेद्यता के साथ कुछ लोगों की बेचैनी उन्हें अपने स्वयं के अनुभवों और भावनाओं से खुद को दूर करने का कारण बनती है, जिससे उनके लिए भावनात्मक रूप से गहराई से और दूसरों के साथ घनिष्ठता से जुड़ना अविश्वसनीय रूप से कठिन हो जाता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।


Edited by वैशाली शर्मा

Comments

comments icon
Fetching more content...