कालमेघ के 7 फायदे-Kalmegh Ke 7 Fayde

कालमेघ के फायदे(फोटो-Sportskeeda hindi)
कालमेघ के फायदे(फोटो-Sportskeeda hindi)

कालमेघ (Kalmegh) एक ऐसा पौधा है, जो औषधीय गुणों से भरपूर होता है। इसलिए इसका सेवन करने से कई बीमारियां दूर होती है। कालमेघ में एंटी बैक्टीरियल और एंटी ऑक्सीडेंट जैसे तत्व पाए जाते हैं। साथ ही कालमेघ के पौधे का इस्तेमाल आयर्वेद में कई औषधीय के रूप में भी किया जाता है। कालमेघ का सेवन डायबिटीज, हार्ट, पेट संबंधी बीमारियों में काफी लाभदायक साबित होता है। साथ ही कालमेघ का सेवन करने से इम्यून सिस्टम भी मजबूत होता है। जो आपको कई बीमारियों का शिकार होने से बचाता है। आइए जानते हैं कालमेघ के क्या-क्या फायदे होते हैं।

कालमेघ के 7 फायदे

1- कालमेघ का सेवन डायबिटीज के मरीजों के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। क्योंकि कालमेघ में एंटी डायबिटिक गुण पाया जाता है, जो शुगर लेवल को कंट्रोल करने में मददगार साबित होते हैं।

2- कालमेघ का सेवन कैंसर (Cancer) जैसी जानलेवा बीमारी के खतरे को कम करने में मददगार साबित होता है। क्योंकि कालमेघ में एंटी-कैंसर गुण पाए जाते हैं, जो कैंसर के जोखिम को कम करने में मददगार साबित होते हैं।

3- कालमेघ का सेवन अनिद्रा यानि नींद न आने की बीमारी को दूर करने में मददगार साबित होता है। क्योंकि कालमेघ का सेवन करने से स्ट्रेस कम होता है, जिससे नींद अच्छी आने में मदद मिलती है।

4- कालमेघ एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है, इसलिए इसका सेवन करने से रोग प्रतिरोधक (immunity) क्षमता मजबूत होती है। जिससे आप कई तरह की बीमारियों की चपेट में आने से बच सकते हैं।

5- कालमेघ का सेवन पेट के लिए भी काफी फायदेमंद माना जाता है। इसका सेवन करने से पाचन सही रहता है। साथ ही अपच और कब्ज जैसी पेट संबंधी बीमारी भी दूर होती है।

6- कालमेघ का सेवन हार्ट (Heart) के लिए भी काफी फायदेमंद माना जाता है। क्योंकि कालमेघ का सेवन क्लॉटिंग को रोकने में मददगार साबित होता है, इसलिए अगर आप कालमेघ का सेवन करते हैं, तो इससे हार्ट अटैक का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है।

7- सर्दी-जुकाम या बुखार (Fever) की शिकायत होने पर भी कालमेघ का सेवन काफी फायदेमंद माना जाता है। क्योंकि इसमें एंटी बैक्टीरियल और एंटी वायरल गुण पाए जाते हैं, जो सर्दी-जुकाम और बुखार जैसी बीमारी से छुटकारा दिलाने में मददगार साबित होते हैं।

इन तरीकों से कर सकते हैं सेवन

- कालमेघ की पत्तियों का चूर्ण बनाकर सेवन किया जा सकता है।

- कालमेघ की पत्तियों का जूस बनाकर सेवन किया जा सकता है।

- कालमेघ की पत्तियों का काढ़ा बनाकर सेवन किया जा सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Rakshita Srivastava