कान का बहना, दर्द और कीड़े की समस्या होने पर अपनाएं ये 7 घरेलू उपाय

कान का बहना, दर्द और कीड़े की समस्या होने पर अपनाएं ये 7 घरेलू उपाय (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
कान का बहना, दर्द और कीड़े की समस्या होने पर अपनाएं ये 7 घरेलू उपाय (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

कान की समस्या हर उम्र के लोगों में आम है। कान की सबसे आम समस्याओं में से एक है कान का बहना, दर्द और कृमि का संक्रमण। कान का डिस्चार्ज कई कारणों से हो सकता है जैसे कि कान में संक्रमण, एलर्जी और कान में आघात। कान का दर्द भी उन्हीं कारणों से हो सकता है, साथ ही ईयरवैक्स के निर्माण, कान में विदेशी वस्तुओं और हवा के दबाव में बदलाव के कारण भी हो सकता है। कृमि संक्रमण से कान की समस्या भी हो सकती है, जो असुविधाजनक और दर्दनाक भी हो सकती है।

youtube-cover

कान का बहना, दर्द और कीड़े की समस्या होने पर अपनाएं ये 7 घरेलू उपाय : 7 Home Remedies For Ear Infections In Hindi

1. लहसुन का तेल (Garlic Oil): लहसुन में रोगाणुरोधी गुण होते हैं जो इसे कान के संक्रमण के इलाज में प्रभावी बनाते हैं। लहसुन का तेल लहसुन को पीसकर नारियल या जैतून के तेल में मिलाकर बनाया जा सकता है। मिश्रण को हल्का गर्म करें और प्रभावित कान में तेल की कुछ बूंदें डालें। इस प्रक्रिया को कई दिनों तक दिन में दो या तीन बार दोहराएं।

2. खारा पानी (Saltwater): नमक का पानी कान बहने और दर्द के लिए एक प्रभावी उपाय है। एक कप गर्म पानी में एक चम्मच नमक मिलाएं और तब तक हिलाएं जब तक कि नमक घुल न जाए। रुई को घोल में भिगोकर प्रभावित कान में लगाएं। इसे हटाने से पहले कुछ मिनटों के लिए छोड़ दें। इस प्रक्रिया को दिन में दो या तीन बार दोहराएं जब तक कि कान का डिस्चार्ज और दर्द कम न हो जाए।

3. नीम का तेल (Neem Oil): नीम के तेल में एंटीफंगल और जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो इसे कान के संक्रमण के इलाज में प्रभावी बनाते हैं। नीम के तेल की कुछ बूंदों को गर्म करके प्रभावित कान में डालें। इस प्रक्रिया को कई दिनों तक दिन में दो या तीन बार दोहराएं।

4. जैतून का तेल (Olive Oil): जैतून का तेल एक प्राकृतिक स्नेहक है और ईयरवैक्स के निर्माण के कारण कान के दर्द से राहत दिलाने में मदद कर सकता है। जैतून के तेल की कुछ बूंदों को गर्म करके प्रभावित कान में डालें। अपने सिर को झुकाने से पहले तेल को कुछ मिनट के लिए लगा रहने दें ताकि तेल निकल जाए।

5. प्याज का रस (Onion Juice): प्याज के रस में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं जो संक्रमण के कारण होने वाले कान के दर्द को कम करने में मदद कर सकते हैं। एक प्याज को कद्दूकस करके उसका रस निकाल लें। रस को हल्का गर्म करें और प्रभावित कान में कुछ बूंदें डालें। इस प्रक्रिया को कई दिनों तक दिन में दो या तीन बार दोहराएं।

6. तुलसी के पत्ते (Basil Leaves): तुलसी के पत्तों में रोगाणुरोधी गुण होते हैं जो कान के संक्रमण का इलाज करने में मदद कर सकते हैं। तुलसी के कुछ पत्तों को पीसकर उनका रस निकाल लें। रस को हल्का गर्म करें और प्रभावित कान में कुछ बूंदें डालें। इस प्रक्रिया को कई दिनों तक दिन में दो या तीन बार दोहराएं।

7. टी ट्री ऑयल (Tea Tree Oil): टी ट्री ऑयल में एंटीफंगल और जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो इसे कान के संक्रमण के इलाज में प्रभावी बनाते हैं। टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदों को वाहक तेल जैसे नारियल तेल या जैतून के तेल के साथ मिलाएं। मिश्रण की कुछ बूंदों को प्रभावित कान में डालें और इस प्रक्रिया को कई दिनों तक दिन में दो या तीन बार दोहराएं।

अंत में, कान का बहना, दर्द और कृमि का संक्रमण असुविधाजनक और दर्दनाक भी हो सकता है। हालाँकि, कुछ घरेलू उपचार हैं जो कान की इन समस्याओं को कम करने में मदद कर सकते हैं। लहसुन का तेल, नमक का पानी, नीम का तेल, जैतून का तेल, प्याज का रस, तुलसी के पत्ते और चाय के पेड़ का तेल सभी प्रभावी उपचार हैं जिनका उपयोग कान की इन समस्याओं के इलाज के लिए किया जा सकता है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि इन उपचारों का उपयोग केवल एक अस्थायी उपाय के रूप में किया जाना चाहिए जब तक कि चिकित्सा सहायता की मांग न की जा सके। यदि इन घरेलू उपचारों से राहत नहीं मिलती है, तो उचित निदान और उपचार योजना के लिए डॉक्टर से परामर्श करना सबसे अच्छा है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
App download animated image Get the free App now