Create

आलमंड बटर (Almond Butter) कैसे है पीनट बटर से बेहतर? जानिए इसके 5 फायदे : Almond Butter Benefits

आलमंड बटर (Almond Butter) कैसे है पीनट बटर से बेहतर? जानिए इसके फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
आलमंड बटर (Almond Butter) कैसे है पीनट बटर से बेहतर? जानिए इसके फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

आलमंड बटर (Almond Butter) को बादाम (Almonds) से बनाया जाता है। आलमंड बटर पिछले कुछ में लोगों के बीच तेजी से पसंद किया गया है। यह फिटनेस गुरुओं की भी पहली पसंद बना हुआ है। वे खुद भी इसका सेवन करने के साथ स्टूडेंट्स को भी इसे खाने की सलाह देते हैं। इससे वजन कम (Weight loss) करने और वजन बढ़ाने (Weight gain) में भी मदद मिल सकती है। इसमें हेल्दी फैट (Healthy Fat), प्रोटीन (Protein) और मिनरल्स (Minerals) होते हैं। लोगों द्वारा मकखन का महत्तव समझने के बाद अब इसकी मांग बढ़ गई है। आलमंड बटर कैसे है पीनट बटर से बेहतर है इस बारे में आगे चर्चा की गयी है और जाने इससे जुड़े फायदे।

आलमंड बटर (Almond Butter) कैसे है पीनट बटर से बेहतर? जानिए इसके 5 फायदे : Almond Butter Benefits In Hindi

नैचुरल बटर के बाद पीनट बटर और अब आलमंड बटर की मांग हो रही है। आलमंड बटर को पीनट बटर से बेहतर माना जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि पीनट बटर के मुकाबले आलमंड बटर में पोषक तत्वों की मात्रा अधिक होती है। अगर दोनों की तुलना की जाए तो निश्चित रूप से आलमंड बटर ज्यादा सेहतमंद होता है। आलमंड बटर को मसल बिल्डिंग (Muscle Building) के लिए बहुत बेहतरीन माना जाता है। इसमें पाए जाने वाले एंटी ऑक्सीडेंट्स, प्राकृतिक प्रोटीन, फाइबर मिनरल्स की मौजूदगी जिम या वर्कआउट के दौरान आपकी बॉडी को पतला (Lean) रखने में मदद करता है। आलमंड बटर में पाए जाने वाले कैल्शियम और अन्य पोषक तत्व वर्कआउट के बाद आपकी मसल्स को रिपेयर करने के साथ ही उसे विकसित करने में भी मदद करते हैं। आलमंड बटर के साथ यदि केले का सेवन किया जाए तो यह आपकी मसल बिल्डिंग की प्रक्रिया को और बढ़ा देता है।

आलमंड बटर के फायदे (Almond Butter Benefits)

1. हृदय के लिए अच्छा (Healthy for Heart)

जिम जाने वाले लोगों को मसल्स बनाने के लिए अपने हृदय को भी स्वस्थ रखना पड़ता है। इसमें पाया जाने वाला मोनो अनसैटचुरेटेड फैटी एसिड (Monounsaturated Fatty Acid) शरीर से कॉलेस्ट्रोल की मात्रा को घटाकर कार्डियोवैस्कुलर रोगों (Cardiovascular Diseases) की भी आशंका घटा देता है। वजन घटाने के साथ-साथ शरीर में ब्लड क्लॉटिंग जैसी समस्या होने से भी रोकता है।

2. हड्डियां मजबूत करे (Makes Bone Stronger)

आलमंड बटर आपको ओस्टियोपोरोसिस के साथ ही स्पंडिलाइटिस व हड्डियों के अन्य विकारों से भी आपको बचाता है। इसमें कैल्शियम और मैग्नीशियम काफी उच्च मात्रा में पाए जाते हैं। इसमें पाए जाने वाला मैग्नीशियम शरीर में ब्लड शुगर लेवल को बढ़ने से भी रोकता है।

3. दिमाग को विकसित करे (Develops Brain)

आलमंड बटर में पाए जाने वाले फॉलेट और विटामिन E आपके दिमाग की कोशिकाओं को स्वस्थ रखती हैं। साथी ही इसमें पाए जाने वाले ओमेगा-3 फैटी एसिड भी दिमाग की सेल्स को बढ़ाने में काफी मददगार हैं। आलमंड बटर का सेवन अल्जाइमर के मरीजों के लिए भी काफी उपयोगी होता है। इससे उनकी याद्दाश्त में बढ़ोत्तरी होती है।

4. वर्कआउट से पहले खाएं (Eat Pre Workout)

वर्कआउट से पहले आलमंड बटर का सेवन आपको लंबे वर्कआउट के लिए प्रेरित करता है। इसमें एनर्जी बूस्टर के तौर पर काम करने के लिए प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्स और हेल्दी फैट्स समेत कई न्यूट्रीएंट्स मौजूद होते हैं, जिनसे आपको भरपूर उर्जा प्राप्त होती है।

5. डैमेज सेल को करे रिपेयर (Repairs Damage Cells)

आलमंड बटर आपके शरीर में डैमेज हुई सेल्स को भी रिपेयर करने में मददगार माना जाता है। बादाम एंटी ऑक्सीडेंट्स का भंडार होता है। एंटी ऑक्सीडेंट्स के साथ ही इसमें विटामिन की प्रचुरता आपके शरीर में डैमेज हुई सेल्स को रिपेयर करने का काम करती हैं। इसमें मौजूद विटामिन E न केवल डैमेज सेल्स रिपेयर करता है बल्कि आपकी स्किन को भी प्राकृतिक रूप से खूबसूरती देता है।

आलमंड बटर की रेसिपी (How to Make Almond Butter)

  1. आलमंड बटर को बनाने के लिए उसे भूनना जरूरी है। इसलिए धीमी आंच पर कुछ बादाम भून लें।
  2. ठंडा हो जाने के बाद दरदरा कर इसे मिक्सर की मदद से पीस लें।
  3. अब इसमें नारियल का तेल मिला लें।
  4. इसे कम से कम 10 से 15 मिनट तक पीसते रहें।
  5. ध्यान रहे उपर नारियल के तेल नहीं दिखनी चाहिए।
  6. अब थोड़ा सा गाढ़ा हो जाने के बाद उसे किसी शीशे के डब्बे में बंद कर दें।
  7. कम से कम एक हफ्ते तक इसे फ्रिज में रखें। लीजिए आपका आलमंड बटर तैयार है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
Be the first one to comment