अनुलोम विलोम के फायदे-Anulom Vilom Ke Fayde

अनुलोम विलोम के फायदे (फोटो- Sportskeeda hindi )
अनुलोम विलोम के फायदे (फोटो- Sportskeeda hindi )

योगा (Yoga) स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। योगा करने से न तो सिर्फ शारीरिक मजबूती मिलती है, बल्कि यह मानसिक रूप से भी मजबूत करता है। योगा करने से व्यक्ति फिट रहता है। इसमें भी अनुलोम विलोम सबसे फायदेमंद योग माना जाता है। अनुलोम विलोम रोजाना करने से कई बीमारियों से बचा जा सकता है। यह बहुत ही सरल योग है, लेकिन कई बार लोग इसको गलत तरीके से कर देते हैं। इसलिए उनको उसका लाभ नहीं मिल पाता है। जानिए अनुलोम विलोम करने के क्या-क्या फायदे होते हैं।

इस तरीके से करें अनुलोम विलोम योगासन

इस योगा को करने के लिए पद्मासन में बैठ जाएं। इसके बाद दाएं हाथ के तर्जनी उंगली से अपने नाक के दाएं तरफ बंद करें और बाएं तरफ से सांस भरें। फिर कुछ सेकेंड बाद अनामिका उंगली से बाएं नाक को बंद करें और धीरे धीरे सांस को छोड़ दें। इसके बाद ऐसे ही दाएं नाक को बंद कर के बाएं तरफ से छोड़ दें।

अनुलोम विलोम के फायदे (Anulom Vilom Ke Fayde In Hindi)

सांस संबंधी बीमारी होती है दूर

अनुलोम विलोम योगा करने से सांस संबंधी बीमारी दूर होती है। जिन लोगों को सांस संबधी कोई बीमारी होती है या सांस लेने में परेशानी होती है। उन लोगों को अनुलोम-विलोम करना चाहिए.

खर्राटे की समस्या होती है दूर

अगर किसी को सोते समय खर्राटे की समस्या है, तो उनको रोजाना सुबह अनुलोम विलोम योगासन करना चाहिए। इससे खर्राटे की समस्या से छुटकारा मिल जाता है।

साइनस की शिकायत होती है दूर

अगर किसी को साइनस (Sinus) की शिकायत है, तो उनके लिए अनुलोम विलोम योगा बहुत फायदेमंद माना जाता है। जिन लोगों को साइनस की शिकायत होती है, उनको रोजाना 15 मिनट अनुलोम विलोम करना चाहिए।

हार्ट के लिए फायदेमंद

अनुलोम विलोम करने से हार्ट (Heart) मजबूत होता है। इस योग को करने से हार्ट अटैक का खतरा भी कम हो जाता है। रोजाना सुबह कम से कम 15 मिनट करना चाहिए।

फेफड़ों को करता है मजबूत

रोजाना सुबह अनुलोम विलोम योग करने से फेफड़े मजबूत और स्वस्थ होते हैं। साथ ही यह खून में ऑक्सीजन की मात्रा को भी बढ़ाता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Rakshita Srivastava