7 दिनों तक लगाएं नाभि में तेल और पाएं ये लाभ

7 दिनों तक लगाएं नाभि में तेल और पाएं ये लाभ (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
7 दिनों तक लगाएं नाभि में तेल और पाएं ये लाभ (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

नाभि में तेल लगाने की प्रथा, जिसे "नाभि चक्र" या "नाभि मर्म" के रूप में भी जाना जाता है, सदियों से आयुर्वेद जैसी पारंपरिक चिकित्सा पद्धति का हिस्सा रही है। इस अभ्यास के समर्थकों के अनुसार, सात दिनों तक नाभि में तेल लगाने से शरीर को विभिन्न लाभ मिल सकते हैं। जबकि इस अभ्यास के विशिष्ट लाभों पर वैज्ञानिक शोध सीमित है, आइए नाभि में तेल लगाने से जुड़े कुछ संभावित लाभों का पता लगाएं:-

7 दिनों तक लगाएं नाभि में तेल और पाएं ये लाभ (Apply Oil In Navel For 7 Days And Get These Benefits)

youtube-cover

बेहतर पाचन

माना जाता है कि नाभि में कुछ तेलों को लगाने से पाचन शक्ति बढ़ती है। आयुर्वेदिक सिद्धांतों के अनुसार, नाभि पाचन तंत्र से जुड़ी होती है, और तेल लगाने से पाचन अग्नि (अग्नि) उत्तेजित हो सकती है और समग्र पाचन में सुधार हो सकता है। आमतौर पर अरंडी का तेल या तिल का तेल जैसे तेल इस उद्देश्य के लिए उपयोग किए जाते हैं।

पेट की परेशानी से राहत मिली

कुछ तेलों से नाभि की मालिश करने से पेट फूलने, गैस और कब्ज जैसी पेट की परेशानी को कम करने में मदद मिल सकती है। तेल का स्नेहन प्रभाव चिकनी मल त्याग को बढ़ावा दे सकता है और पाचन संबंधी परेशानी को कम कर सकता है।

बढ़ी हुई नींद की गुणवत्ता

कुछ समर्थकों का दावा है कि नाभि में विशिष्ट तेल लगाने से नींद की गुणवत्ता में सुधार हो सकता है। माना जाता है कि बादाम के तेल या जैतून के तेल जैसे कुछ तेलों को नाभि पर लागू होने पर तंत्रिका तंत्र पर शांत प्रभाव पड़ता है, संभवतः विश्राम और बेहतर नींद को बढ़ावा देता है।

मॉइस्चराइज्ड त्वचा

नाभि में तेल लगाने से त्वचा को मॉइस्चराइज किया जा सकता है, खासकर पेट के क्षेत्र में। यह अभ्यास उन लोगों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है जिनकी त्वचा रूखी है या जिन्हें नाभि के आसपास रूखेपन या खुजली के कारण परेशानी हो रही है।

मासिक धर्म दर्द से राहत

पारंपरिक चिकित्सा प्रणालियों में, यह माना जाता है कि नाभि में कुछ तेल, जैसे तिल का तेल या अरंडी का तेल लगाने से मासिक धर्म के दर्द या ऐंठन को कम करने में मदद मिल सकती है। तेल द्वारा प्रदान की जाने वाली गर्मी और आराम मासिक धर्म के दौरान असुविधा को कम करने में मदद कर सकता है।

बेहतर प्रजनन क्षमता

कुछ समर्थकों का सुझाव है कि नाभि में प्रजनन क्षमता बढ़ाने वाले तेल, जैसे कि अश्वगंधा तेल या जड़ी-बूटियों से युक्त तिल का तेल लगाने से प्रजनन स्वास्थ्य में मदद मिल सकती है और प्रजनन क्षमता में वृद्धि हो सकती है। हालाँकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि इस दावे का समर्थन करने वाले वैज्ञानिक प्रमाणों की कमी है।

जबकि इन लाभों को अक्सर नाभि में तेल लगाने के अभ्यास के लिए जिम्मेदार ठहराया जाता है, सावधानी के साथ उनसे संपर्क करना महत्वपूर्ण है। इन दावों का समर्थन करने वाले वैज्ञानिक प्रमाण सीमित हैं, और व्यक्तिगत अनुभव भिन्न हो सकते हैं। इसके अतिरिक्त, तेल की पसंद और आवेदन की विशिष्ट विधि व्यक्तिगत प्राथमिकताओं और सांस्कृतिक प्रथाओं के आधार पर भिन्न हो सकती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

App download animated image Get the free App now