मौखिक स्वास्थ्य के लिए आयुर्वेदिक ऑयल पुलिंग, जानिए प्रक्रिया और फायदे

मौखिक स्वास्थ्य के लिए आयुर्वेदिक ऑयल पुलिंग, जानिए प्रक्रिया और फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)
मौखिक स्वास्थ्य के लिए आयुर्वेदिक ऑयल पुलिंग, जानिए प्रक्रिया और फायदे (फोटो - sportskeedaहिन्दी)

प्राचीन भारतीय आयुर्वेद में तेल खींचन (Oil Pulling) को एक महत्वपूर्ण और प्रभावी उपाय माना गया है जिसका उपयोग मौखिक स्वास्थ्य को बनाए रखने में किया जाता है। यह प्राचीन तकनीक आपके मौख में जमे कीटाणुओं और जहरीले पदार्थों को बाहर निकालने के लिए एक प्राकृतिक उपाय है जिसके कई लाभ होते हैं। इस लेख में हम आपको आयुर्वेदिक ऑयल पुलिंग की प्रक्रिया और इसके फायदों के बारे में जानकारी देंगे।

मौखिक स्वास्थ्य के लिए आयुर्वेदिक ऑयल पुलिंग, जानिए प्रक्रिया और फायदे (Ayurvedic oil pulling for oral health, know the process and benefits in hindi)

ऑयल पुलिंग की प्रक्रिया:-

ऑयल पुलिंग का अद्वितीय तरीका होता है जिसमें आपको मुख में तेल लेकर उसे कुछ समय तक मुख के अंदर गरारा करते हैं। यह क्रिया अधिकांशतः सुबह के समय खाली पेट की जाती है। यहाँ ऑयल पुलिंग की प्रक्रिया है:

तेल का चयन: सर्सों के तेल, नारियल के तेल या सेसम ऑयल जैसे आयुर्वेदिक तेल का चयन करें।

खूबसुरत दिन का आरंभ: सुबह के समय, खाली पेट होने पर एक चमच तेल मुख में डालें।

तेल गरारा: तेल को मुख के अंदर लेकर सवा दो मिनट तक गरारा करें। इसका मतलब होता है कि तेल को मुख के अंदर बहने दें और उसे स्वल्प देर तक अलग अलग दिशाओं में घुमाते रहें।

तेल को थूकें: तेल को गरारे के बाद थूक दें और उसे कूदने या फेंकने से बचाएँ।

मुख स्वाच्छता: ऑयल पुलिंग के बाद मुख को धो लें और स्वाच्छ रूप से कुल्ला करें।

ऑयल पुलिंग के 5 फायदे:-

मसूड़ों की स्वास्थ्य: आयुर्वेदिक ऑयल पुलिंग से मसूड़ों की स्वास्थ्य में सुधार होती है। यह गिंगिवाइटिस, पायरिया और मसूड़ों के इन्फेक्शन को कम करने में मदद करता है।

मुख की बदबू को दूर करना: ऑयल पुलिंग से मुख की बदबू को कम किया जा सकता है और मुख की स्वच्छता में सुधार होता है।

कीटाणु नियंत्रण: ऑयल पुलिंग के द्वारा मुख में जमे कीटाणुओं को बाहर निकालने में मदद मिलती है, जिससे मुख की स्वास्थ्य सुरक्षित रहती है।

दांतों की मजबूती: ऑयल पुलिंग से दांतों की मजबूती बढ़ती है और उन्हें सजीव रखने में मदद मिलती है।

श्वासनली स्वास्थ्य: आयुर्वेदिक ऑयल पुलिंग से श्वासनली के रोगों में आराम मिल सकता है और श्वसन प्रणाली को स्वस्थ रखने में मदद मिल सकती है।

आयुर्वेदिक ऑयल पुलिंग एक प्राकृतिक तरीका है जो मौखिक स्वास्थ्य को सुरक्षित रखने में मदद कर सकता है। यह अंतर्निहित कीटाणुओं को बाहर निकालने में मदद करके मसूड़ों की स्वास्थ्य, मुख की स्वच्छता, और दांतों की मजबूती में सुधार कर सकता है। इसे नियमित रूप से करने से आपका मौखिक स्वास्थ्य बेहतर रह सकता है और आपके सामान्य स्वास्थ्य को भी लाभ पहुँच सकता है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Vineeta Kumar
App download animated image Get the free App now