ज्वार की रोटी के फायदे

ज्वार की रोटी के फायदे (sportskeeda Hindi)
ज्वार की रोटी के फायदे (sportskeeda Hindi)

सर्दी के मौसम में लोग ज्वार (Jowar) की रोटी खाना पसंद करते है और अगर उसके साथ साग हो तो खाने का स्वाद दोगुणा हो जाता है। ज्वार में प्रोटीन की अच्छी मात्रा पाई जाती है। इसके अलावा इसमें फाइबर भी होता है। जो शुगर के मरीजों के लिए लाभकारी है। जिन लोगों को कब्ज की समस्या रहती है उनको ज्वार की रोटी खानी चाहिए। जो लोग अपनी कैलोरी को कम करने के लिए एक्सरसाइज करते हैं तो उनको पता होना चाहिए कि ज्वार से भी कैलोरी कम की जा सकती है। जानते हैं ज्वार की रोटी से क्या लाभ मिलते हैं।

youtube-cover

ज्वार की रोटी के फायदे : Benefits Of Eating Jowar Roti In Hindi

पाचन मजबूत रखे -

ज्वार में फाइबर की अच्छी मात्रा होती है जो पाचन में सुधार करता है। ज्वार में डाइट्री फाइबर होने के कारण पाचन स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करता है। साथ ही पेट की समस्यां से भी बचाता है।

फाइबर से भरपूर -

ज्वारी का आटा भरपूर फाइबर वाला होता है। इसे खाने से पाचन तंत्र एकदम सही रहता है। इससे आसानी से पेट भर जाता है और आप ओवरईटिंग से बचते हैं। ज्वार में हेल्दी फाइबर्स होते हैं जो मेटाबॉलिज़्म को मजबूत बनाते हैं। इससे वजन घटाना आसान होता है।

ग्लूटेन फ्री होता है -

आज कम के लोग ग्लूटेन फ्री खाना पसंद करते हैं तो उसमें ज्वार भी एक अच्छा आहार है। ग्लूटेन एक तरह का प्रोटीन है, जो कई बार बीमारियों के बढ़ने का कारण बन सकता है। वहीं जिन लोगों को सीलिएक रोग हो तो उनके लिए ग्लूटेन अच्छा नहीं होता। जिन लोगों को सीलिएक रोग है वह ज्वार का सेवन कर सकते हैं।

हड्डियां मजबूत होती हैं -

ज्वार में मैग्नीशियम होता है जो शरीर में कैल्शियम एब्जॉर्व करने में मदद करता है। वहीं बढ़ती उम्र के साथ कमदोर हो रही हड्डियों को मजबूती देने में भी लाभ मिलता है।

शरीर को ऊर्जा मिले -

विटामिन बी 3 के नाम से पहचाने जाने वाला ज्वार शरीर को ऊर्जा देता है। इसके सेवन से शरीर में पूरे दिन ऊर्जा भरी रहती है।

अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें। स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

Edited by Naina Chauhan